महिंदा राजपक्षे को बनाया गया श्रीलंका का पीएम, विक्रमसिंघे ने दी चुनौती

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/27 05:49

कोलंबो। श्रीलंका में राष्‍ट्रपति मैत्रीपाला सिरी सेना द्वारा कल रानिल विक्रम सिंघे के स्‍थान पर नया प्रधानमंत्री नियुक्‍त करने के बाद राजनीतिक गतिरोध जारी है। रानिल विक्रमसिंघे ने स्वयं को प्रधानमंत्री पद से हटाए जाने को चुनौती दी है और कहा है कि उनके पास संसद में बहुमत है। उन्‍होंने तुरंत संसद का अधिवेशन बुलाने की मांग की है। हालांकि राष्‍ट्रपति सिरीसेना ने 16 नवम्‍बर तक संसद का सत्रावसान करनेके आदेश जारी किए हैं। विक्रमसिंघे ने आज गठबंधन दलों के नेताओं के साथ संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि उनके पास अभी भी बहुमत है।

दरअसल श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने शुक्रवार शाम राष्ट्रपति सचिवालय में नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने रानिल विक्रमसिंघे को हटाकर पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे को नया प्रधानमंत्री बनाया। हालांकि रानिल विक्रमसिंघे का कहना है कि वो अब भी श्रीलंका के प्रधानमंत्री बने हुए हैं। 

गौरतलब है कि श्रीलंका संसद में 5 नवंबर को बजट पेश होना था, लेकिन सदन स्‍थगन से महेन्‍दा राजपक्षे को बहुमत जुटाने में पर्याप्‍त समय मिलता दिख रहा है। रानिल विक्रम सिंघे ने पहले संसद सत्र को बुलाकर बहुमत सिद्ध करने की मांग की थी और नए प्रधानमंत्री के शपथ को गैर संवैधानिक बताया था। उनके पक्ष का कहना है कि संसद स्‍थगन से स्‍पष्‍ट होता है कि राजपक्षे पक्ष के पास बहुमत नहीं है। वहीं राजपक्षे ने उनके प्रधानमंत्री बनने को यह कहकर सही ठहराया है कि राष्‍ट्रपति सिरीसेना के दल के साझा सरकार से निकलने के बाद मंत्रिमंडल की वैधता खत्‍म हो गई थी। 

इस बीच, श्रीलंका में हो रहे घटनाक्रम पर अमरीका और ब्रिटेन ने श्रीलंका से संविधान के अनुसार काम करने और निर्धारित प्रक्रिया का पालन करने का आग्रह किया है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in