नए शराब लाइसेंसों के लिए आज से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू

Nirmal Tiwari Published Date 2019/02/09 08:36

जयपुर (निर्मल तिवारी)। आबकारी विभाग ध्वर शराब लाइसेंस का नया बंदोबस्त जारी करने के बाद आज से ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू हो गई। पिछले वर्ष जारी बंदोबस्त में एक वर्ष के नवीनीकरण का प्रावधान किया गया था, लेकिन इस बार अंग्रेजी व देशी शराब के लाइसेंस के लिए ऑनलाइन आवेदन मांग लॉटरी से आवंटन किया जाएगा। इस बार धरोहर राशि समाप्त करने से ज्यादा आवेदन आने की उम्मीद है। एक रिपोर्ट: 

श्रेणी                                    लाइसेंस फीस
जयपुर, जोधपुर                      30 लाख
अन्य संभागीय मुख्यालय
माउंट आबू, जैसलमेर              25 लाख
जिला मुख्यालय, अलवर
सीकर, भीलवाड़ा, पाली
गंगानगर                                18.50 लाख
अन्य जिला मुख्यालय               17 लाख
अन्य नगरपालिकाएं, सागवाड़ा   15 लाख

आवेदन शुल्क:

अंग्रेजी के लिए 28 हजार
देशी (10 लाख तक का समूह) 23 हजार
देशी (10 लाख से अधिक का समूह) 28 हजार

आबकारी विभाग 1 अप्रैल से शुरू हो रहे नए वित्त वर्ष के लिए शराब लाइसेंस लॉटरी से आवंटित किए जाएंगे। नए लाइसेंसों के लिए आज से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई। 5 मार्च को जिला मुख्यालयों पर  लाइसेंस के लिए लॉटरी निकाली जाएगी। अंग्रेजी शराब के लिए वार्षिक लाइसेंस फीस का 20 फ़ीसदी और देशी मदिरा के लिए विशेषाधिकार राशि का 16 फीसदी शुल्क जमा कराना होगा। जयपुर और जोधपुर के लिए 30 लाख रुपए वार्षिक राशि तय की गई है जबकि अन्य संभागीय मुख्यालय और माउंट आबू व जैसलमेर के लिए लाइसेंस की फीस ₹25 लाख रखी गई है। 

लॉटरी के बाद सफल आवेदकों को  28 फरवरी तक लाइसेंसी को पूरी राशि जमा करानी होगी इसी तरह से देशी शराब के लाइसेंस शुल्क में 15 फ़ीसदी की वृद्धि की गई है। देसी शराब के लाइसेंस प्राप्त करने वाले को 1 अप्रैल से पहले एकाकी विशेषाधिकार राशि के बेटे 18 प्रतिशत राशि जमा करानी होगी। आबकारी आयुक्त सोमनाथ मिश्र ने बताया कि पिछले बार 2 वर्ष के लिए बंदोबस्त किया गया था ऐसे में इस वर्ष लाइसेंस का नए सिरे से लॉटरी से आवंटन किया जाएगा।  आवेदन के लिए लाइसेंसी को संबंधित जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय में ऑनलाइन आवेदन फार्म जमा कराना होगा। भांग लाइसेंसों के लिए इस बार 6 फ़ीसदी लाइसेंस फीस में वृद्धि की गई है 8 फरवरी के बाद आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। 

इस बार आवेदन के साथ धरोहर राशि का प्रावधान समाप्त करने से रिकॉर्ड आवेदन आने की संभावना है।  उम्मीद की जा रही है कि आवेदन से आबकारी विभाग को 800 करोड रुपए से ज्यादा राजस्व प्राप्त होगा। माना जा रहा है कि 26 फरवरी तक अंग्रेजी व देशी शराब के लाइसेंसों के लिए राजस्थान और राजस्थान के बाहर से लाखों की संख्या में आवेदन आएंगे। इसलिए प्रत्येक जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय पर हार्ड कॉपी जमा कराने के लिए विशेष काउंटर लगाए जाने की व्यवस्था शुरू कर दी गई है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in