राज्य स्तरीय बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार समारोह, मंत्री डोटासरा ने कहा-बेटों से ज्यादा बेटियां कर रही है अंक हासिल 

राज्य स्तरीय बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार समारोह, मंत्री डोटासरा ने कहा-बेटों से ज्यादा बेटियां कर रही है अंक हासिल 

राज्य स्तरीय बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार समारोह, मंत्री डोटासरा ने कहा-बेटों से ज्यादा बेटियां कर रही है अंक हासिल 

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर में मंगलवार को राज्य स्तरीय बालिका पुरस्कार समारोह आयोजित किया गया. यहां प्रदेश की स्कूलों में अध्ययनरत  प्रतिभाशाली बालिकाओं का शिक्षा विभाग ने प्रोत्साहन राशि के साथ उत्साहवर्धन किया. पंचायती राज संस्थान सभागार में हुए शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा राज्य की बेटियों की निखरती प्रतिभा पर खुशी जताते हुए कहा कि समाज में अब बेटियों के प्रति सकारात्मक बदलाव आ रहा हैं. उन्होंने कि यहां बेटों से ज्यादा बेटियां अंक हासिल कर रही हैं. अब राज्य सरकार बेटियों की शिक्षा को और निखारने के लिए प्रोत्साहन का दायरा बढाएगी. इसके तहत 12 वीं कक्षा में वोकेशनल एजुकेशन की बच्चियों को भी इंदिरा गांधी प्रियदर्शनी पुरस्कार दिए जाएंगे. जबकि  बधिर और दिव्यांग बालिकाओं के लिए कक्षा एक से अब आठवीं तक की बालिकाओं को भी शामिल किया जाएगा. इसकी राशि बढाकर भी अब पांच हजार रपए तक की जाएगी.

बालिका शिक्षा पर राज्य सरकार का जोर:
डोटासरा ने कहा कि बालिका शिक्षा पर राज्य सरकार का जोर है. 8 योजनाएं बालिका फाउंडेशन की ओर से चलाई जा रही है, जिसमें अब और भी सुधार किए जा सकेंगे. डोटासरा ने कहा कि केन्द्र सरकार को ध्यान दिलाने पर कोरोना काल में ऑनलाइन स्टडी के लिए दूरदर्शन पर पढाई और बाहरवीं कक्षा तक की बच्चियों के लिए मिड डे मील के प्रावधान किए गए. यहां उन्होंने बीजेपी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि भाजपा कों इंदिरा गांधी का नाम पसंद नही है, इसलिए योजनाओं के नाम बदल देते है.

जयपुर और सीकर की बालिकाओं ने मारी बाजी:
गौरतलब है कि इस बार 1 लाख 77 हजार 992 बालिकाओं को पुरस्कार दिए जा रहे हैं. इन पुरस्कारों ने इस बार जयपुर और सीकर की बालिकाओं ने बाजी मारी हैं. हर साल सौ करोड़ रुपए बालिका फाउंडेशन के जरिए खर्च किया जाता हैं. फाउंडेशन की मदद से बच्चियों को विदेश में पढने तक बच्चों को मदद करते है.

और पढ़ें