जयपुर महवा में पुजारी की मौत की शत प्रतिशत जांच के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध, 30 अप्रेल तक जांच करवाने के निर्देश

महवा में पुजारी की मौत की शत प्रतिशत जांच के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध, 30 अप्रेल तक जांच करवाने के निर्देश

 महवा में पुजारी की मौत की शत प्रतिशत जांच के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध, 30 अप्रेल तक जांच करवाने के निर्देश

जयपुर: राजस्थान के दौसा जिले के महवा थाना क्षेत्र में मूक बधिर पुजारी शंभू शर्मा की मौत की शत प्रतिशत जांच के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है. पुजारी की मौत के पूरे प्रकरण की समयबद्ध संभागीय आयुक्त जयपुर से 30 अप्रेल तक जांच करवाने के निर्देश दिए. मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने यह निर्देश रविवार को सचिवालय कॉन्फ्रेंस हॉल में राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा, पूर्व मंत्री अरूण चतुर्वेदी,विधायक अशोक लाहोटी, सामाजिक कार्यकर्ता राघव शर्मा और विभिन्न पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए.

दोषियों के खिलाफ होगी कार्यवाही:
बैठक में आर्य ने कहा कि पुजारी शंभू शर्मा की मौत के पूरे प्रकरण की जांच के लिए प्रशासनिक कमेटी का गठन कर निर्देश दिए कि कार्य में कसावट लाकर समयबद्ध जांचपूर्ण होने पर ही दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी और न्याय  किया जाएगा. प्रदेश में मंदिर माफी की जमीन के संरक्षण के लिए कमेटी अन्य राज्यों का अध्ययन करेगी. आर्य ने कहा कि प्रकरण में शामिल सभी अधिकारियों को एपीओ किया जाएगा तथा लाठीचार्ज मामले में हुई जगदीश सैनी की मौत की भी जांच करने के निर्देश देते हुए कहा कि मंदिर में निर्माण की गई दुकानें जांच पूरी होने तक सील रखी जाएंगी. इसके साथ ही एडीएम के दुव्र्यवहार की भी जांच करवाई जाएगी.

संबंधित अधिकारियों को जिले में नहीं रहने के दिए निर्देश:
आर्य ने कहा कि जांच प्रक्रिया पूर्ण होने तक संबंधित अधिकारियों को जिले में नहीं रहने के निर्देश दिये गये हैं. पुजारी शंभू शर्मा की मौत को लेकर किए जा रहे प्रदर्शन और प्रदेश में मंदिरों की जमीनों पर हो रहे अतिक्रमण हटाने पर सहमति के साथ आंदोलन समाप्त हुआ. बैठक में मुख्य सचेतक महेश जोशी, डी.जी.पुलिस एम.एल लाठर, पुलिस कमिशनर  आनंद श्रीवास्तव, प्रमुख शासन सचिव गृह अभय कुमार, दौसा कलक्टर पीयूष एवं संबंधित अधिकारी शामिल हुए.

और पढ़ें