Live News »

परेशानी में फंसे राज्य सरकार के कर्मचारी, दीपावली से पूर्व बकाया डीए का भुगतान मार्च के बाद संभव

परेशानी में फंसे राज्य सरकार के कर्मचारी, दीपावली से पूर्व बकाया डीए का भुगतान मार्च के बाद संभव

जयपुर: सरकार की माली हालत खराब होने का खामियाजा सरकारी कर्मचारियों को बड़े आर्थिक नुकसान के रूप में उठाना पड़ रहा है. दीपावली से पूर्व बकाया डीए का भुगतान मार्च के बाद संभव होना माना जा रहा है तो वहीं सरेंडर लीव या समर्पित अवकाश की राशि भी पेंशन का पीपीओ जारी होने के बाद मिलेगी. साथ ही न्यू पेंशन स्कीम में राज्य सरकार के अंशदान में भी पहली बार पेंडेंसी आ गई है. 

प्रदेश की माली हालत ठीक नहीं होने से राज्य सरकार के कर्मचारी परेशानी में फंस गए हैं:-  
- डीए वृद्धि की घोषणा नहीं होना. 
- सरकारी कर्मचारी दीपावली बीतने के बाद भी अभी तक राज्य सरकार की ओर से डीए बढ़ोतरी की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं.
- केन्द्र की तर्ज पर हर बार की तरह इस बार भी पांच प्रतिशत डीए की वृद्धि के आदेश जारी करना प्रस्तावित है जिसके लिए माना जा रहा है कि अब मार्च बाद ही ऐसा होना संभव हो. 
- अब पीपीओ जारी होने के बाद ही मिलेगी सरेंडर लीव की राशि. 
- कर्मचारी जो अवकाश सरेंडर करते हैं उसकी राशि का भुगतान सरकार करती है, लेकिन अब इसका भुगतान उनके रिटायर्ड होने के बाद पेंशन के लिए पीपीओ जारी होने पर ही होगा. अक्सर पीपीओ जारी होने में करीब 3 माह का समय लगता है. इससे कर्मचारियों को ब्याज राशि का नुकसान उठाना पड़ रहा है.  

पहली बार NPS में अंशदान में आई पेंडेंसी: 
- सरकारी कर्मचारियों को न्यू पेंशन स्कीम में दस प्रतिशत राशि कर्मचारी की वेतन से जोड़ी जाती है तो दस प्रतिशत राशि सरकार की ओर से जमा होती है.  
- बताया जा रहा है कि इस बार पहली बार ऐसा हुआ कि कुछ कर्मचारियों के कुछ माह से सरकार की ओर से देय राशि जमा नहीं कराई गई है यानि पहली बार एनपीएस में सरकारी अंशदान की पेंडेसी आई है.  

उधर कार्मिक विभाग की ओर से गैर वित्तीय मांगों को लेकर विभाग स्तर पर बैठकें करके और निर्णय करने के लिए निर्देश तो जारी कर दिए हैं लेकिन विभागों की ओर से इसमें खास दिलचस्पी नहीं ली जा रही है. सीएस व अन्य ऊपरी अधिकारियों से संपर्क करने के बावजूद ऐसा नहीं किया जा रहा है. साथ ही कर्मचारी अब वित्तीय मांगों की समस्या सुलझाने की ओर ध्यान देने की गुहार लगा रहे हैं.  
                      
 

और पढ़ें

Most Related Stories

आया सावन झूम के...! जयपुर में बदला मौसम का मिजाज, कई इलाकों में हो रही तेज बारिश

आया सावन झूम के...! जयपुर में बदला मौसम का मिजाज, कई इलाकों में हो रही तेज बारिश

जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर में सावन माह की पहली बारिश ने सभी को तरबतर कर दिया है. जी हां मंगलवार शाम करीब 5 बजे शुरू हुई तेज बारिश से मौसम का मिजाज तो बदला ही साथ कई जगहों पर सडकें लबालब भर गई, जिसकी वजह से वाहन चालकों को भारी समस्याओं को सामना करना पडा. मंगलवार शाम को जयपुर के 22 गोदाम, रामबाग, जेएलएन मार्ग, टोंक रोड, सी-स्कीम, सिविल लाइंस,सोडाला सहित कई इलाकों में खबर लिखे जाने तक बारिश का दौर जारी है.

Happy Birthday: 39 साल के हुए महेन्द्र सिंह धोनी, जानिए उनके क्रिकेट करियर से जुड़ी अहम बातें...

सड़कों पर भरा पानी:
मानसून की पहली तेज बारिश ने जयपुर के कई नीचले इलाकों में पानी भर दिया. तेज बारिश से सड़कों पर पानी ही पानी नजर आया. जिसकी वजह से आवागमन बाधित रहा. हालांकि पिछले दिनों से सूर्य देव के तीखे तेवर थे, उससे फिलहाल कुछ राहत मिलती नजर आई. तापमान में गिरावट देखी गई. जयपुर में पिछले 1 घंटे से तेज बारिश का दौर जारी है. जयपुर शहर के कई इलाकों में सड़कों पर पानी ही पानी दिख रहा है. 

सीएम गहलोत बोले, मुझे गर्व है मैं उस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं, जो वीर बहादुर सैनिकों की धरती है

सीएम गहलोत बोले, मुझे गर्व है मैं उस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं, जो वीर बहादुर सैनिकों की धरती है

सीएम गहलोत बोले, मुझे गर्व है मैं उस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं, जो वीर बहादुर सैनिकों की धरती है

जयपुर: कोरोना युद्ध मे सरकार की मदद करने वालो के साथ मुख्यमंत्री अशोक द्वारा संवाद करने का सिलसिला आज भी जारी रहा. सीएम गहलोत ने मंगलवार को सैनिक कल्याण विभाग के अधिकारियों और भूतपूर्व सैन्य अधिकारियों और जवानों से संवाद किया. गहलोत ने कोरोना काल में उनकी भूमिका की सराहना करते हुए कहा कि मुझे गर्व है मैं उस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं जो वीर बहादुर सैनिकों की धरती है. 

भीड़ में जाने से तो बचना होगा:
मुख्यमंत्री ने कहा कोरोना की चुनौती से निपटने में हमने सभी वर्गों का साथ लिया है. विपक्ष के नेताओं, सामाजिक संगठनों और धर्मगुरुओं से भी सुझाव लिए। खास बात यह है कि हमें सभी का सहयोग मिला. प्रदेश में किसी को भी भूखा नहीं सोने दिया है. मंगलवार  की वीसी में मुख्यमंत्री ने आज कोरोना से बचने का एक नया नारा दिया. सीएम ने कहा खुद का बचाव खुद करें. भीड़ में जाने से तो बचना होगा. उन्होंने अपील की है कि जागरूकता अभियान को लगातार चलाइए. उन्होंने पूर्व सैनिकों को आश्वासन दिया कि बीमा कवर के लिए भी विचार किया जाएगा.

Happy Birthday: 39 साल के हुए महेन्द्र सिंह धोनी, जानिए उनके क्रिकेट करियर से जुड़ी अहम बातें...

हम सदी की सबसे बड़ी महामारी से कर रहे हैं मुकाबला:
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि हम सदी की सबसे बड़ी महामारी से मुकाबला कर रहे हैं. विधायक कोष की राशि चिकित्सा क्षेत्र में खर्च की जाएगी. वहीं मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा एक दिन भी ऐसा नहीं रहा जब सीएम जनता से नहीं जुड़े हो. यह सीएम की कुशल कार्यप्रणाली का ही नतीजा है कि राजस्थान में सड़क पर एक भी मजदूर की मौत नहीं हुई है जबकि देश मे 667 मजदूरों की मौत हो चुकी है.

कार्यशैली की खुले मन से तारीफ:
इस मीटिंग में पूर्व सैनिकों और अधिकारियों ने सीएम की कार्यशैली की खुले मन से तारीफ की. पूर्व सैनिकों ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी मुख्यमंत्री ने उनसे इस तरह से संवाद किया. पूर्व सैनिकों ने कहा जिस तरह से हमने सीमा पर देश के दुश्मनों को हराया है वैसे ही कोरोना को भी हराएंगे.

मुंबई में अगले 24 घंटे में हो सकती है भारी बारिश, इन राज्यों में भी बारिश का अलर्ट

RBSE Result 2020: 12वीं विज्ञान संकाय का परीक्षा परिणाम आएगा कल,​ शाम 4 बजे होगा जारी

RBSE Result 2020: 12वीं विज्ञान संकाय का परीक्षा परिणाम आएगा कल,​ शाम 4 बजे होगा जारी

जयपुर: राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 12वीं कक्षा के विज्ञान संकाय का परीक्षा परिणाम बुधवार को जारी होगा. ये परिणाम बुधवार शाम 4 बजे जारी होगा. शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा परिणाम जारी करेंगे. 

आपको बता दें कि शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर लिखा, बुधवार शाम 4 बजे 12वीं विज्ञान कला का परिणाम जारी होगा. विभाग ने सभी तैयारियां पूरी कर ली है. जिन छात्रों ने बोर्ड की परीक्षा दी है वे छात्र बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट rajeduofficial. पर लॉगइन कर अपना रिजल्ट देख सकते हैं.

Happy Birthday: 39 साल के हुए महेन्द्र सिंह धोनी, जानिए उनके क्रिकेट करियर से जुड़ी अहम बातें...

मृत्युभोज आयोजित करना पड़ेगा अब भारी, क्षेत्रीय पंच, सरपंच और पटवारी होंगे जिम्मेदार

मृत्युभोज आयोजित करना पड़ेगा अब भारी, क्षेत्रीय पंच, सरपंच और पटवारी होंगे जिम्मेदार

जयपुर: इंसान स्वार्थ व खाने के लालच में कितना गिरता है मृत्यु भोज उसका नमूना है. मानव विकास के रास्ते में यह गंदगी समझ से परे हैं. जानवर भी अपने किसी साथी के मरने पर मिलकर दुःख प्रकट करते हैं लेकिन किसी व्यक्ति के मरने पर उसके साथी और सगे-सम्बन्धी मिठाईयां खाते हैं. लेकिन अब मृत्युभोज का आयोजन करना भारी पड़ेगा. 

विद्यार्थियों के लिए बड़ी खबर: अभी राज्य सरकार का प्रयास, ना बदले प्रमोट का निर्णय- भंवर सिंह भाटी 

मामला अब प्रशासन स्‍तर पर पहुंच चुका:  
मृत्‍यु भोज पर प्रतिबंध लगाने को लेकर कई समाजों द्वारा लंबे समय से अभियान चलाए जा रहे हैं. इसे कुप्रथा बताकर इस पर रेाक लगाने की मांग की जा रही थी लेकिन मामला अब प्रशासन स्‍तर पर पहुंच चुका है. शुरुआत राजस्‍थान से हो रही है. ऐसे आयोजन पर अब पुलिस कार्रवाई करेगी. पुलिस मुख्यालय ने ऐसे आयोजन रोकने के लिए सभी SP को निर्देश दिए हैं. ऐसे में अब इस शर्मनाक करतूत पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी. 

क्षेत्रीय पंच, सरपंच और पटवारी जिम्मेदार होंगे: 
कहा गया है कि मृत्युभोज दिए जाने पर क्षेत्रीय पंच, सरपंच और पटवारी जिम्मेदार होंगे और उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी. मृत्युभोज पर प्रतिबंध का कानून तो 1960 का है, लेकिन कई जगह इसका पालन नहीं हो रहा था. इसके अलावा पहली बार पंच-सरपंच और पटवारी की जवाबदेही तय की गई है. 

इससे शर्मनाक कुछ भी नहीं हो सकता: 
किसी घर में खुशी का मौका हो, तो समझ आता है कि मिठाई बनाकर, खिलाकर खुशी का इजहार करें, खुशी जाहिर करें. लेकिन किसी व्यक्ति के मरने पर मिठाईयाँ परोसी जायें, खाई जायें. इससे शर्मनाक कुछ भी नहीं हो सकता. 

सांसद दिया कुमारी के नाम से फेसबुक पेज बनाकर अश्लील वीडियो डालने का आरोपी गिरफ्तार 

क्या लग पाएगा कुरीती पर अंकुश? 
रिश्तेदारों को तो छोड़ो, पूरा गांव का गांव व आसपास का पूरा क्षेत्र टूट पड़ता है खाने को! तब यह हैसियत दिखाने का अवसर बन जाता है. लेकिन अब राज्य सरकार के निर्देश पर पुलिस मुख्यालय ने इस कुरीती को रोकने के लिए अपनी कमर कसना शुरू कर दी है. ऐसे में देखने वाली बात तो यह होगी कि पुलिस इस कुरीती को रोकने में कितना कामयाब हो पाती है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए सुनील शर्मा की रिपोर्ट

MHRD की गाइडलाइन को फॉलो करेगा उच्च शिक्षा विभाग, फाइनल ईयर की फिर से होंगी परीक्षाएं !

MHRD की गाइडलाइन को फॉलो करेगा उच्च शिक्षा विभाग, फाइनल ईयर की फिर से होंगी परीक्षाएं !

जयपुर: राजधानी जयपुर से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है. उच्च शिक्षा विभाग MHRD की गाइडलाइन को फॉलो करेगा. सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के अनुसार फाइनल ईयर की परीक्षाएं फिर से होगी. हालांकि परीक्षाएं कब होगी इसको लेकर फिलहाल मंथन चल रहा है. इससे पहले कल देर रात MHRD ने निर्देश जारी किए थे. 

सांसद दिया कुमारी के नाम से फेसबुक पेज बनाकर अश्लील वीडियो डालने का आरोपी गिरफ्तार 

यूजीसी ने जारी की एग्जाम को लेकर नई गाइडलाइन: 
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने विश्वविद्यालयों की फाइनल ईयर/सेमेस्टर की परीक्षाओं और शैक्षणिक कैलेंडर को लेकर आज नई गाइडलाइन जारी की. मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट के जरिये एकेडमिक गाइडलाइन जारी की. नये दिशानिर्देश के मुताबिक टर्मिनल सेमेस्टर के छात्रों का मूल्यांकन जो जुलाई के महीने में परीक्षाओं के माध्यम से किया जाना था, अब उनकी परीक्षाएं सितंबर -2020 के अंत तक आयोजित की जाएंगी.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 234 नये पॉजिटिव केस, एक्टिव केस की संख्या बढ़कर हुई 4 हजार 137 

फाइल ईयर की परीक्षाओं का आयोजन होगा:
बता दें, यूजीसी ने पहले निर्णय लिया था कि विश्वविद्यालयों की फाइल ईयर की परीक्षाओं का आयोजन होना चाहिए. वहीं फर्स्ट ईयर के छात्रों को सेकंड ईयर में प्रमोट कर दिया जाएगा. उन्हें नंबर इंटरनल असेसमेंट के आधार पर दिए जाएंगे. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 234 नये पॉजिटिव केस, एक्टिव केस की संख्या बढ़कर हुई 4 हजार 137

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 234 नये पॉजिटिव केस, एक्टिव केस की संख्या बढ़कर हुई 4 हजार 137

जयपुर: देशभर के साथ राजस्थान में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. पिछले 12 घंटे में प्रदेश में कोरोना के चलते 4 मरीजों ने दम तोड़ा है. इसमें भरतपुर-धौलपुर-जोधपुर और नागौर में एक-एक मौत हुई है. वहीं 234 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. इसमें अलवर 36, बाड़मेर 8, भीलवाड़ा 2, बीकानेर 29, चूरू 2, गंगानगर 3, जयपुर 22, झुंझुनूं 2, जैसलमेर 1, जालोर 9, जोधपुर 57, कोटा 5, नागौर 34, सीकर 2, सिरोही 19, पाली 1, उदयपुर 2 और अन्य राज्य से 1 पॉजिटिव मरीज मिला है. ऐसे में अब प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़कर 20922 पहुंच गया है. वहीं मरने वालों का आंकड़ा भी बढ़कर 465 हो गया है. 

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में आए 22 हजार से ज्यादा नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा सात लाख के पार 

एक्टिव केस की संख्या बढ़कर हुई 4 हजार 137: 
लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या के चलते प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 4 हजार 137 हो गई है. वहीं राहत वाली खबर यह है कि 16320 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हो गए हैं. इसमें से 15966 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं. ऐसे में अब अस्पताल में उपचाररत कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 4137 हो गई है. 

VIDEO: राजधानी जयपुर में विदेशों की तरह विकसित होगा मानसरोवर का सिटी पार्क, यह होगा पार्क में खास 

सोमवार को सामने आए 524 नए पॉजिटिव केस: 
इससे पहले सोमवार को प्रदेश में 5 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 524 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अजमेर में दो, जयपुर में एक, नागौर में एक और राज्य से बाहर के एक मरीज की मौत हो गई. जबकि सर्वाधिक 80 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाली में मिले है. अजमेर- 28, अलवर- 55, बाड़मेर- 25, भरतपुर- 65 पॉजिटिव, भीलवाड़ा- 2, बीकानेर- 26, दौसा- 5, धौलपुर- 11 पॉजिटिव, डूंगरपुर- 7, हनुमानगढ़- 4, जयपुर- 47,जालोर- 58 पॉजिटिव, झुंझुनूं- 9,जोधपुर- 25, करौली- 3, कोटा- 9, नागौर- 21 पॉजिटिव, राजसमंद- 6,सवाई माधोपुर- 4, सीकर- 8, सिरोही- 9, टोंक- 1 पॉजिटिव, उदयपुर- 10,BSF- 1 और दूसरे राज्य के 5 मरीज पॉजिटिव मिले. 


 

VIDEO: राजधानी जयपुर में विदेशों की तरह विकसित होगा मानसरोवर का सिटी पार्क, यह होगा पार्क में खास

जयपुर: UDH मंत्री शांति धारीवाल ने सोमवार को मानसरोवर के सिटी पार्क और फाउंटेन स्क्वायर प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया. मंत्री ने खुली जिप्सी में बैठकर प्रमुख सचिव भास्कर सावंत और हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा के साथ पूरी जमीन का जायजा लिया. बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने मंत्री को पार्क की डिजाइन समेत पूरे प्रोजेक्ट के बारे में ब्रीफ़ किया.  

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों से मुठभेड़ के दौरान एक आतंकी ढेर, दो जवान घायल 

सिटी पार्क सेंट्रल पार्क से भी बड़ा होगा: 
निरीक्षण बाद मीडिया से बात करते हुए मंत्री धारीवाल ने कहा कि क़रीब 52 एकड़ जमीन में बनने वाला सिटी पार्क सेंट्रल पार्क से भी बड़ा होगा. मंत्री ने कहा कि कोरोना और लॉक डाउन जैसे कठिन समय के बाद भी  हाउसिंग बोर्ड ने पार्क को लेकर पूरी कार्ययोजना बना ली थी. पार्क की साफ-सफाई और मिट्टी डालने के टेंडर भी बोर्ड ने सही समय पर कर लिए, इसका फायदा यह हुआ कि लॉक डाउन हटते ही पार्क में मलबा हटाने का काम बोर्ड ने तेज़ी से शुरू कर दिया. बोर्ड ने पार्क की जमीन पर बने दर्जन भर स्ट्रक्चरो को भी हटाया है. धारीवाल ने बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा और उनकी टीम की तारीफ करते हुए कहा कि बोर्ड ने जमीन की सफाई और मलबा हटाने जैसा काम 2 महीने की जगह 1 महीने में ही पूरा कर लिया है. बोर्ड ने इस जमीन से 12 लाख घनफुट मलबा और 18 लाख वर्गफीट इलाके में सफाई का काम किया है.

जमीन पार्क के लिए उपयुक्त भी दिखने लगी:
मंत्री ने कहा कि अब यह जमीन पार्क के लिए उपयुक्त भी दिखने लगी है. मंत्री धारीवाल ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड की जबसे स्थापना हुई है तबसे पार्क के क्षेत्र में यह बोर्ड का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है. मुख्यमंत्री गहलोत ने जयपुर साउथ को अब तक की सबसे बड़ी सौगात दी है जो कि कोई मुख्यमंत्री या सरकार नहीं दे पाए थे. 

जॉगिंग और वॉकिंग के लिए पार्क में 2 ट्रैक बनाये जाएंगे:
हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि पार्क में जॉगिंग और वॉकिंग के लिए पार्क में 2 ट्रैक बनाये जाएंगे. इन ट्रैकों की लंबाई साढ़े 3 किलोमीटर की होगी वहीं चौड़ाई 20 फीट होगी. दोनों ट्रैकों को विभाजित करने के लिए हरित पट्टी विकसित की जाएगी जो कि फूलदार पौधों से बनाई जाएगी. अरोड़ा ने कहा कि सिटी पार्क और फाउंटेन स्क्वायर का निर्माण विश्वस्तरीय होगा. जिस तरह के पार्क और फाउन्टेन लोग विदेशों में देखते हैं वैसा ही नजारा जयपुर में देखने को मिलेगा. 

सीएम गहलोत से पार्क में वृक्षारोपण की शुरुआत कराई जाएगी:
धारीवाल ने कहा कि आने वाले दिनों में सीएम गहलोत से पार्क में वृक्षारोपण की शुरुआत कराई जाएगी. सीएम से कल्प वृक्ष और रुद्राक्ष के पेड़ लगाकर पार्क में इस अभियान की शुरुआत कराई जाएगी. मानसून में इस पार्क में बड़े स्तर पर वृक्षारोपण कराया जाएगा वृक्षारोपण में आमजन, स्वयंसेवी संस्था,सामाजिक संस्थाओं की भी जोड़ा जाएगा. रोटरी क्लब ऑफ इंडिया, इंडिया इंटरनेशनल कॉलेज, ब्रह्मकुमारी संस्था की ओर से बोर्ड को अपनी तरफ से पेड़ लगाने और उनकी देखभाल करने का प्रस्ताव मिल भी चुका है. 

यह होगा पार्क में खास-

- पार्क में थीम बेस्ड प्लांटेशन किया जाएगा. जिसमे अलग रंग के फूलों वाले पेड़ लगाए जाएंगे. 

- पार्क में मुख्य प्रवेश मध्यम मार्ग से होगा, यहां एक बड़ा एंट्रेंस प्लाजा बनाया जाएगा,,,पार्क में प्रवेश के लिए 3 गेट और होंगे जो न्यू सांगानेर रोड, अरावली रोड और वीटी रोड पर होंगे. 

- सभी गेटों के पास अलग अलग पार्किंग विकसित की जाएंगी. 

- पार्क के चारों तरफ़ फ़ूड कोर्ट और रेस्टोरेंट के लिए भी जगह रखी गई है. 

- पार्क में सेंट्रल पार्क जितनी ऊंचाई का राष्ट्रीय ध्वज भी लगाया जाएगा. 

- पार्क में कोरोना को देखते हुए सेंसर युक्त सेनेटाइजेशन स्टेशन भी बनाये जाएंगे. 

- पार्क में अलग अलग प्रजातियों के 21 हजार पौधे लगाए जाएंगे. 40 हजार झाड़ियां और फूलदार पौधे भी लगाए जाएंगे. 

- यहां वुडलैंड पार्क, वाटर बॉडीज, फार्म हाउस, पाम गार्डन, मेज गार्डन, लेब्रोलिक गार्डन, लोटस पांड, स्कल्पचर्स, बॉटनिकल गार्डन, चिल्ड्रन प्ले एरिया, आउटडोर जिम, ओपन जिम, फर्नीचर समेत कई सुविधाएं विकसित की जाएंगी. 

आमजन के मनोरंजन के लिए मध्यम मार्ग के दूसरी तरफ़ करीब 40 हजार वर्गमीटर जमीन पर फाउंटेन स्क्वायर बनाया जाएगा. यह जयपुर में अब तक का सबसे शानदार फाउंटेन स्क्वायर होगा जो सिटी पार्क की खूबसूरती में 4 चांद लगाएगा. यहां हर सप्ताह सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाएंगे. इससे यह जगह सिर्फ मानसरोवर के लिए नहीं बल्कि पूरे जयपुर और पर्यटकों के लिए पिकनिक स्पॉट की तरह विकसित होगी. 

लॉक डाउन का हाउसिंग बोर्ड पर कोई असर नहीं हुआ: 
मंत्री धारीवाल ने निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि लॉक डाउन का हाउसिंग बोर्ड पर कोई असर नहीं हुआ है. बोर्ड के सभी प्रोजेस्ट समय पर ही पूरे होंगे. बोर्ड की परफॉर्मेंस की तारीफ करते हुए धारीवाल ने कहा कि बोर्ड ने किश्तों में आवास योजना से 12 दिनों में 1213 मकान बेचकर अपना ही बनाया हुआ विश्व रिकॉर्ड तोड़ा है. आने वाले दिनों में भी  बोर्ड का यह अच्छा काम ऐसे ही जारी रहेगा. बोर्ड ने राजस्व प्राप्ति में भी अब तक के सभी रिकॉर्ड को तोड़ दिया है. 

10 हजार में 1 करोड़ के सोने की तस्करी ! दुबई से लेकर भारत तक जुड़े हैं तस्करों के तार 

राजधानी के सभी बड़े प्रोजेक्टस हाउसिंग बोर्ड के ही पास:
मौज़ूदा सरकार के कार्यकाल में राजधानी के सभी बड़े प्रोजेक्टस हाउसिंग बोर्ड के ही पास हैं. कोचिंग हब, चौपाटी, के बाद सिटी पार्क वह प्रोजेक्ट है जो आने वाले कई सालों तक मानसरोवर समेत आस पास के लोगों को अच्छी फीलिंग देता रहेगा. जैसी मॉनीटिरिंग इस प्रोजेक्ट की पवन अरोड़ा कर रहे हैं उससे यह भी तय है कि तय समय मे ही मानसरोवर को सबसे बड़े गिफ़्ट सिटी पार्क की सौगात मिल जाएगी. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

10 हजार में 1 करोड़ के सोने की तस्करी ! दुबई से लेकर भारत तक जुड़े हैं तस्करों के तार

10 हजार में 1 करोड़ के सोने की तस्करी ! दुबई से लेकर भारत तक जुड़े हैं तस्करों के तार

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट पर तस्करी कर लाए गए 32 किलो सोने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. जानकारी के मुताबिक 1 करोड़ रुपए के सोने की डिलीवरी करने वाले एक व्यक्ति को 10 से 15 हजार रुपए दिए जाते हैं. यह खुलासा कस्टम अधिकारियों द्वारा तस्करों से की गई पूछताछ में हुआ है. 

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों से मुठभेड़ के दौरान एक आतंकी ढेर, दो जवान घायल 

सभी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा: 
जयपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार देर रात सोने की तस्करी करते हुए पकड़े गए सभी 14 आरोपियों को आज आर्थिक मामलों की विशेष अदालत में पेश किया गया. जहां सभी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया. कस्टम विभाग के अधिकारियों ने सभी तस्करों से प्राथमिक पूछताछ कर कोर्ट के समक्ष प्राथमिक सबूत भी पेश किए. सेंट्रल बोर्ड ऑफ इन डायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स (सीबीआईसी) मामले की सीधी निगरानी कर रहा है.

पूछताछ में महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आई: 
कस्टम विभाग के सूत्रों के मुताबिक सभी 14 आरोपियों से पूछताछ में महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आई हैं. जिन 14 लोगों को तस्करी के मामले में गिरफतार किया गया है, वे इरादतन तस्कर नहीं हैं. सभी 14 लोग राजस्थान के अलग-अलग जिलों के रहने वाले हैं. सभी खाड़ी देशों में कामकाज के सिलसिले के आते-जाते रहते हैं. सभी को भारत में सोना लाने के लिए 10 से 15 हजार रुपए और टिकट का भुगतान करने का लालच दिया गया था. जिसके बाद सभी अपने साथ सोना ले आए. प्रत्येक व्यक्ति अपने साथ करीब 1 करोड़ रुपए कीमत का सोना लेकर आया था. पूछताछ में उन्होंने उन लोगों की भी पहचान बताई है, जिन्होंने उन्हें सऊदी से जयपुर ले जाने के लिए सोना दिया था. इसके साथ ही उन्होंने उस व्यक्ति के बारे में भी जानकारी दी जो उनसे जयपुर में सोने की डिलीवरी लेने वाला था. हालांकि कस्टम विभाग अब यह जांच कर रहा है कि तस्करों द्वारा दी गई जानकारी सही है या गलत.

VIDEO: कोविड फ्री होने की राह पर संवेदनशील परकोटा, जयपुर के रामगंज में अब सिर्फ तीन एक्टिव केस

नेटवर्क जयपुर सहित देश के कई अन्य शहरों के बड़े व्यापारियों से जुड़ा: 
पूछताछ में यह भी खुलासा हुआ है कि तस्करी का सोना भेजने वाले लोगों का नेटवर्क जयपुर सहित देश के कई अन्य शहरों के बड़े व्यापारियों से जुड़ा हुआ है. विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तस्करों ने जयपुर के भी कुछ बड़े सराफा कारोबारियों का नाम लिया है. जिसकी जांच की जा रही है. जयपुर से ही अन्य शहरों के लिए सोना सप्लाई किया जाना था. अब प्रकरण में आगामी जांच सीबीआईसी कर रहा है और इस मामले में जल्द ही अन्य खुलासे होने की उम्मीद है. 

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

Open Covid-19