मुंबई शेयर बाजारों में लगातार तीसरे दिन तेजी, सेंसेक्स 1,041 अंक और चढ़ा, निफ्टी चार सप्ताह के उच्चस्तर पर

शेयर बाजारों में लगातार तीसरे दिन तेजी, सेंसेक्स 1,041 अंक और चढ़ा, निफ्टी चार सप्ताह के उच्चस्तर पर

 शेयर बाजारों में लगातार तीसरे दिन तेजी, सेंसेक्स 1,041 अंक और चढ़ा, निफ्टी चार सप्ताह के उच्चस्तर पर

मुंबई: शेयर बाजारों में सोमवार को लगातार तीसरे कारोबारी सत्र में तेजी रही और दोनों मानक सूचकांक बीएसई सेंसेक्स तथा एनएसई निफ्टी करीब दो प्रतिशत उछलकर बंद हुए. वैश्विक बाजारों में मजबूत रुख के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज और इन्फोसिस के शेयरों में तेजी के साथ बाजार में मजबूती आई. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 1,041.08 अंक यानी 1.90 प्रतिशत चढ़कर 55,925.74 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 1,197.99 अंक तक चढ़ गया था.

सेंसेक्स के 26 शेयर लाभ में रहे.नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 308.95 अंक यानी 1.89 प्रतिशत के लाभ के साथ 16,661.40 अंक पर बंद हुआ. यह इसका चार सप्ताह का उच्चस्तर है.तीन दिन की तेजी से सेंसेक्स 2,176 अंक या करीब चार प्रतिशत और निफ्टी 635 अंक या 3.92 प्रतिशत मजबूत हुआ है. केरल में मानसून जल्दी आने और वैश्विक स्तर पर मुद्रास्फीति को लेकर चिंता दूर होने तथा हाल में जारी अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक के ब्योरे में रुख में नरमी से निवेशकों की धारणा मजबूत हुई है.

सेंसेक्स के शेयरों में टाइटन सबसे अधिक 4.94 प्रतिशत मजबूत हुआ. इसके अलावा महिंद्रा एंड महिंद्रा (4.69 प्रतिशत), इन्फोसिस (4.57 प्रतिश्त), लार्सन एंड टुब्रो (3.77 प्रतिशत), टेक महिंद्रा (3.5 प्रतिशत), रिलायंस इंडस्ट्रीज (3.44 प्रतिशत) और टीसीएस (3.47 प्रतिशत) में भी मजबूती रही.साथ ही एचसीएल टेकनोलॉजीज, अल्ट्राटेक सीमेंट, विप्रो और भारती एयरटेल में तेजी रही. इसके उलट, कोटक महिंद्रा बैंक, सन फार्मा, डॉ. रेड्डीज और आईटीसी नुकसान में रहे.

रेलिगेयर ब्रोकिंग लि. के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा कि बाजार में तीन सप्ताह से जारी गिरावट का दौर समाप्त हो गया और वैश्विक बाजारों में अनुकूल रुख के साथ यह लगभग दो प्रतिशत मजबूत रहा. उन्होंने कहा कि फेडरल रिजर्व की हाल की बैठक में ब्योरे में कुछ कम आक्रमक रुख से भी बाजार को मजबूती मिली. घरेलू स्तर पर मानसून के समय से पहले आने की खबर से धारणा मजबूत हुई. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि अमेरिका में मुद्रास्फीति के नरम पड़ने से वहां बाजार में मजबूती रही. यह फेडरल रिजर्व की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक का रुख तय करने की दृष्टि से महत्वपूर्ण होगा. चीन में लंबे समय से जारी ‘लॉकडाउन’ में ढील से भी एशियाई बाजारों में धारणा मजबूत हुई.

उन्होंने कहा कि घरेलू बाजार में निकट भविष्य में स्थिति में बदलाव की प्रवृत्ति है. शेयरों के मूल्य संतोषजनक होने तथा वैश्विक बाजारों में सकारात्मक रुख से घरेलू बाजार को समर्थन मिलेगा. चीन में कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिये लगायी गयी कारोबारी पाबंदियों में ढील से एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, चीन का शंघाई कंपोजिट, जापान का निक्की और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में दोपहर के कारोबार में तेजी का रुख रहा.अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.43 प्रतिशत बढ़त के साथ 119.9 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया.शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को 1,943.10 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे. (भाषा) 

और पढ़ें