Live News »

अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही टोंक की सुनहरी कोठी, जानिए क्या है इस कोठी की कहानी?

अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही टोंक की सुनहरी कोठी, जानिए क्या है इस कोठी की कहानी?

टोंक| टोंक मे पर्यटन की अपार संभावनाओं के बावजूद यहां पर विरासतों को सहेजने और उनका प्रचार-प्रसार करने मे जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधियों का उदासीन रवैया ही है जिसकी वजह से यहां पर पर्यटन के रूप मे आने वाला राजस्व शून्य है| कुछ ऐसे ही पर्यटन संभावनाओं को समेटे टोंक सुनहरी कोठी जहां वह अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है| वहीं दूसरी और इस कोठी की सुरक्षा दीवार के लिये किया जा रहा काम इसे पर्यटकों से और भी दूर कर सकता है|

टोंक के नजरबाग क्षेत्र मे स्थित सुनहरी कोठी का निर्माण जिस शानों-शौकत से करवाया गया था उसका एक उद्देश्य यह भी जरूर रहा है कि भविष्य में इसे देखकर नवाबी काल की याद सुनहरी हो जाए, लेकिन आज यहां पर हालात बद से बदतर हो चले है, यही कारण है इसके आस-पास जहां गदंगी के ढेर लगे रहते है तो असामाजिक तत्वों की मौजूदगी हमेशा ही इसकी सुरक्षा के प्रति संदेह पैदा करती है, लेकिन पिछले 15 सालों मे तीन बार इसकी सुरक्षा दीवार को लेकर लाखों का बजट खपाने वाली बात स्थानीय लोगो को खटकती रहती है|

दरअसल पिछले तीन दिनों से इसकी सुरक्षा दीवार को लेकर काम करवाया जा रहा है, जिसमें दीवार की ऊंचाई पांच फीट बढाकर 10-12 फीट की जाएगी और उसके ऊपर जालीदार लोहे की फैंसिंग की जाएगी, जिस पर स्थानीय निवासियों ने एतराज जताया है कि पहले ही पर्यटन और पुरातत्व विभाग की अनदेखी के चलते इस विश्वस्तरीय कोठी के लिये कोई पर्यटक नहीं जुटा पाये और दीवार ऊंची करवाने के बाद स्थानीय पर्यटक और यहां वाशिंदे इसे देख नहीं पाएंगे|

दअरसल राजस्थान के लखनऊ कहलाने वाले टोंक नगर के पहले नवाब अमीरूद्दोला के शासन काल मे शुरू हुआ सुनहरी कोठी का निर्माण 1824 मे जाकर पूरा हुआ, जिसकी दीवारों और मेहराबों पर सोने की नक्काशी से लेकर बेशकीमती रत्न जडित काम उसकी शोभा बढाते रहे, लेकिन जितना सुनहरा इस सुनहरी कोठी के निर्माण का इतिहास रहा है उससे कई बुरा हाल शासन और प्रशासन की लापरवाही के चलते आज है| यही कारण है विश्वस्तरीय पहचान होने के बावजूद यह बदहाली का शिकार हो रही है| 

जानकारों की माने तो इस कोठी की मरम्मत के लिए कई बार बजट स्वीकृत भी हुआ है, लेकिन सुरक्षा दीवार के निर्माण में ही पूरा बजट खपा दिया जाता रहा है| वही इस बार किया जा रहा है निर्माण इसलिये संदेह के घेरे में है कि आखिर कोठी के आस-पास इतनी ऊंची दीवार के माईने है क्योंकि लगभग 20 फीट की कोठी की सुरक्षा के लिये 10-12 फीट की दीवार और उसपर जालीदार फैंसिंग उस पूरी तरह छिपा देंगे, ऐसे मे यहां आने वाले स्थानीय पर्यटकों को बाहर से भी उसका दीदार नहीं हो पाएगा जबकि इससे पूर्व का बजट भी सुरक्षा दीवार की मरम्मत मे ही खपा दिया गया था, जिसके बाद मरम्मत कार्य पर सवालिया निशान खड़े होना स्वाभाविक है।

प्रधानमंत्री मोदी से लेकर सूबे की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जहां विदेश नीति के जरिए देश-प्रदेश में रोजगार और पर्यटन को बढावा देने का प्रयास कर रहे है वहीं टोंक मे नवाबी काल के सुनहरे पन्नों की गवाह वर्तमान में जीर्ण-शीर्ण हालत में खड़ी सुनहरी कोठी उपेक्षा आजकल से नही बल्कि कई दशकों से चली आ रही है| सरकारे और प्रशासन बदलते रहे लेकिन नहीं बदली इस कोठी की दुर्दशा की कहानी| वही पिछले 15 सालों मे लाखों का बजट स्वीकृत खर्च होने के बावजूद आज कोठी की हालत मे रत्तीभर भी सुधार नहीं हुआ है जबकि सारा बजट सुरक्षा दीवार पर खर्च करना भ्रष्टाचार की कहानी बयां कर रहा है।

 

और पढ़ें

Most Related Stories

टोंक घटनाक्रम पर डिप्टी सीएम ले रहे है पल पल की रिपोर्ट, स्थानीय लोगों से की शांति बनाए रखने की अपील

टोंक घटनाक्रम पर डिप्टी सीएम ले रहे है पल पल की रिपोर्ट, स्थानीय लोगों से की शांति बनाए रखने की अपील

जयपुर: प्रदेश के टोंक जिले में कोरोना वारियर्स पर किए गए हमले को लेकर डिप्टी सीएम सचिन पायलट पल पल की रिपोर्ट ले रहे है. जिला प्रशासन से इस पूरे मामले पर फीडबैक लिया है. सचिन पायलट ने स्थानीय लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. शुक्रवार को गश्त कर रहे है पुलिस के दल पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया था. जिसमें 3 पुलिस जवान घायल हो गए थे.

DGP भूपेंद्र सिंह ने किया दौरा:
प्रदेश के डीजीपी भूपेंद्र सिंह ने शनिवर को टोंक पहुंचे. डीजीपी पुलिसकर्मियों पर हुए हमले वाले स्थान पर भी पहुंचे. बावड़ी कसाइयों के मोहल्ले में तैनात पुलिसकर्मियों से डीजीपी ने पूरी जानकारी ली. वहीं मीडियाकर्मियों से कहा कि हमारे जवान हर हालत में काम करने को तैयार है,ये समय कठिन है ऐसे में हमें संयम से काम लेना होगा.

Modified lockdown: सचिवालय में प्रवेश करते वक्त अधिकारियों और कर्मचारियों को इन नियमों का पालन करना जरूरी

3 पुलिसकर्मी हुए थे जख्मी:
राजस्थान के टोंक जिले में शुक्रवार को कोरोना वॉरियर्स पर हमला किया गया था. कोरोना प्रभावित इलाकों में गश्त करने गई पुलिस टीम पर लोगों ने घेर कर हमला किया गया. लाठी-डंडे और तलवार से हुए हमले में 3 पुलिसकर्मी जख्मी हैं. उन्हें टोंक के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

सख्त कार्रवाई करने का दिया था आश्वासन: 
घटना की सूचना मिलने पर ASP विपिन शर्मा टोंक के अस्पताल पहुंचे, जहां पर उन्होंने घायल  जवानों से कुशलक्षेम पूछी. साथ ही आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने का आश्वासन दिया. शुक्रवार सुबह पुलिसकर्मी टोंक के बावड़ी चौराहे गश्त कर रहे थे. तभी भीड़ ने पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया था. इसमें 3 पुलिस कर्मी घायल हो गए. प्रदेश में लगातार कोरोना वारियर्स पर हमले और अभद्रता की खबरें सामने आ रही है. राज्य सरकार के सख्त निर्देश के बाद भी ये घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही है.

Rajasthan Corona Updates: प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 20वें मरीज की मौत, जयपुर के एसएमएस अस्पताल में तोड़ा दम!

प्रदेश में कोरोना वॉरियर्स पर हमला, टोंक में गश्त कर रहे पुलिस जवानों पर हुआ हमला, 3 पुलिसकर्मी घायल

जयपुर: कोरोना वॉरियर्स पर हमले की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है. ताजा घटना राजस्थान के टोंक जिले की है, जहां पर शुक्रवार को कोरोना वॉरियर्स पर हमला किया गया है. आपको बता दें कि कोरोना प्रभावित इलाकों में गश्त करने गई पुलिस टीम पर लोगों ने घेर कर हमला किया गया. लाठी-डंडे और तलवार से हुए हमले में 3 पुलिसकर्मी जख्मी हैं. उन्हें टोंक के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

परबतसर पुलिस थाने की महिला कांस्टेबल को हुआ कोरोना, बुखार और जुकाम की थी शिकायत

ASP विपिन शर्मा पहुंचे अस्पताल :
घटना की सूचना मिलने पर ASP विपिन शर्मा टोंक के अस्पताल पहुंचे, जहां पर उन्होंने घायल  जवानों से कुशलक्षेम पूछी. साथ ही आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने का आश्वासन दिया. शुक्रवार सुबह पुलिसकर्मी टोंक के बावड़ी चौराहे गश्त कर रहे थे. तभी भीड़ ने पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया. इसमें 3 पुलिस कर्मी घायल हो गए. प्रदेश में लगातार कोरोना वारियर्स पर हमले और अभद्रता की खबरें सामने आ रही है. राज्य सरकार के सख्त निर्देश के बाद भी ये घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही है.

टोंक जिले में बेकाबू कोरोना:
प्रदेश के टोंक जिले में कोरोना बेकाबू होता जा रहा है. यहां पर लगातार मामले बढते जा रहे है. इस वजह से कर्फ्यू लगा दिया गया है और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम संदिग्ध मरीजों का सर्वे कर रही है. शुक्रवार को 6 और पॉजिटिव केस आए सामने आये है. जिनमें 4 पुरूष 2 महिलाओं में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है. सभी मरीज बम्बोर गेट क्षेत्र के बताए जा रहे है. अब तक टोंक में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 77 पहुंच गई है.

प्रदेश में 1169 पहुंची मरीजों की संख्या
प्रदेशभर में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. ये आंकडे लगातार बढ रहे है,जो चिंता का विषय है. प्रदेश के जोधपुर जिले में कोरोना की वजह से एक व्यक्ति की मौत हो गई है. अब तक प्रदेश में कुल 16 लोग कोरोना की चपेट में आने से  जान गंवा चुके है. जोधपुर में 56 वर्षीय व्यक्ति ने MDM अस्पताल में दम तोड़ दिया. साथ ही पिछले 12 घंटे में 38 नए केस सामने आये है. अकेले जोधपुर में 18 नए मामले सामने आये है. जयपुर में 5, झुंझुनूं, अजमेर और झालावाड में एक-एक मरीज सामने आया है. नागौर में 2, टोंक में 6 कोरोना संक्रमित लोग मिले है. कोटा में चार केस सामने आये है. राजस्थान में अब तक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकडा 1169 पहुंच गया है.

Lockdown: यूपी सरकार स्टूडेंट्स को लेने के लिए भेजेगी 250 बसें, लॉकडाउन के चलते फंसे हैं हजारों छात्र

Rajasthan Coronavirus Updates: जयपुर में प्रशासन की सख्ती के बाद आई राहत की खबर, तो टोंक में 6 संदिग्धों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

Rajasthan Coronavirus Updates: जयपुर में प्रशासन की सख्ती के बाद आई राहत की खबर, तो टोंक में 6 संदिग्धों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर में प्रशासन की सख्ती के बाद गुरुवार सुबह सुखद खबर सामने आई. यहां पर आज एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला है, जबकि बुधवार को यहां पर कोरोना संक्रमित सबसे ज्यादा केस सामने आये थे. गुरुवार सुबह की खबर राहत देने वाली है, जिला प्रशासन और मेडिकल टीम की सख्ती का असर जयपुर में नजर आ रहा है.  बुधवार को जयपुर में 30 नए पॉजिटिव केस सामने आये थे. यहां पर कुल मरीजों का ग्राफ 483 पहुंच गया है.

टोंक में 6 संदिग्धों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव
प्रदेश के टोंक जिले में कोरोना बेकाबू होता जा रहा है. यहां पर 6 संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. यहां पर तीन पुरूष और तीन महिलाओं की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. यह सभी टोंक के बमोर गेट क्षेत्र की रहने वाले हैं. टोंक में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 66 पहुंच गई है.

जैसलमेर में राहत की खबर:
जैसलमेर जिले में गुरुवार सुबह कोई नया पॉजिटिव मरीज सामने नहीं आया है. साथ ही यहां पर 35 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है. 64 की रिपोर्ट आना बाकी है. हजारों श्रमिक रामदेवरा पहुंचे गए है, जो प्रशासन के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. यहां पर ट्रक से राशन सामग्री पहुंचाई जा रही है. कलेक्टर और एसपी फुल एक्शन में दिखाई दे रहे है. पोकरण की गलियों में आना जाना मुश्किल हो गया है. प्रशासन सख्ती से लॉकडाउन की लोगों से पालना करवा रहा है.

शेल्टर हाउस में भिखारी कोरोना पॉजिटिव:
अजमेर जिले के रेलवे स्टेशन से लाये गए 22 वर्षीय भिखारी को शेल्टर हाउस रखा गया था. उसकी गुरुवार सुबह जांच रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव आई है. लगभग 400 से ज्यादा खानाबदोश और भिखारी शेल्टर हाउस में रखे गए. 

Covid-19 Updates: कोरोना वायरस का कहर, देश में मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 11 हजार पार,तो अब तक 392 लोगों की मौत

कोरोना मरीजों की संख्या 1100 पार:
प्रदेशभर में कोरोना वायरस के मामले बढते जा रहे है. राजस्थान में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 1100 के पार पहुंच गया है. वहीं अब तक इस वायरस की चपेट में आने से 14 लोगों की मौत हो चुकी है. पिछले 12 घंटे में सामने आए 25 नए पॉजिटिव मामले सामने आये है. टोंक जिले में सर्वाधिक 11 पॉजिटिव केस आए सामने, जोधपुर में 10, बीकानेर में एक, झुंझनूं में 2 कोरोना केस सामने आये है. अजमेर में एक कोरोना पॉजिटिव मामला सामने आया है.

लॉक डाउन में निजी स्कूलों की फीस नहीं लिए जाने पर क्या कार्रवाई की, हाईकोर्ट ने केन्द्र व राज्य सरकार समेत सीबीएसई से मांगा जवाब

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने टोंक पहुंचे पायलट, कहा-जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मेहनत से किया काम

 कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने टोंक पहुंचे पायलट, कहा-जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मेहनत से किया काम

टोंक: लॉक डाउन और कर्फ्यू के बीच सचिन पायलट अपने निर्वाचन क्षेत्र टोंक के दौरे पर पहुंचे. मास्क लगाकर और सोशल डिस्टेंशिंग का ध्यान रखते हुये सचिन पायलट ने बैठक ली. जिला प्रशासन के अधिकारियों की  बैठक लेकर  कोरोना वायरस को लेकर फीडबैक लिया.

Rajasthan Corona Update: भरतपुर में दो और नए पॉजिटिव केस आए सामने, 200 पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा

पायलट ने टोंक में जिला प्रशासन की बैठक ली:
बैठक में टोंक जिला कलेक्टर, अजमेर IG ,टोंक पुलिस अधीक्षक ,स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ,टोंक नगर परिषद सभापति मौजूद रहे. पायलट ने संक्रमण रोकने की लिए अब तक किये गए कार्यों की समीक्षा की. अधिकारियों को जनता की हरसंभव मदद करने निर्देश दिए. पायलट ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए संसाधनों में कमी नही आने देंगे.

कर्फ़्यू का पालन करने की अपील की:
पायलट ने कहा कि उनका आज टोंक में आने का उद्देश्य कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाना है, ज़िला-पुलिस प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग पूरी मेहनत से लगे हुये है. उन्होंने सभी टोंकवासियों से विपदा की घड़ी में सहयोग करने की अपील, घरों में रहने और कर्फ़्यू का पालन करने की अपील की.

Coronavirus Updates: संक्रमितों की संख्या 2902 हुई, 601 नए मामले, सरकार ने चेहरा ढक कर निकलने की एडवाइजरी जारी की

VIDEO: टोंक शहर कभी भी आ सकता है कोरोना की चपेट में! जयपुर के रामगंज से चोरी छिपे टोंक आ रहे लोग

टोंक: प्रदेश में पिछले 15 घंटे में कोरोना वायरस का कोई भी पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है. राजस्थान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 93 पर स्थिर है. इसमें 17 केस ईरान से लौटे भारतीयों के भी शामिल है. यह प्रदेश के लिए राहत की खबर है. लेकिन इसी बीच चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जयपुर के रामगंज से चोरी छिपे लोग टोंक आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में 2 दर्जन से अधिक लोग टोंक पहुंचे हैं. 

VIDEO- Rajasthan Corona Update: पिछले 12 घंटे में राजस्थान में नहीं आया कोई नया पॉजिटिव केस, भीलवाड़ा से राहत की खबर  

प्रशासन कर रहा टोंक जिले की सीमाओं को सील होने का दावा:
वहीं प्रशासन टोंक जिले की सीमाओं को सील होने का दावा कर रहा है. लेकिन सबसे बड़ा सवाल तो यह खड़ा होता है कि जब सीमाएं सील है तो लोग इतनी तादाद में कैसे आ गए? क्या रामगंज पुलिस कुछ मुस्लिम जनप्रतिनिधियों के दबाव में काम कर रही है? 

VIDEO- WHO ने की कोरोना वायरस की हवा में मौजूदगी की पुष्टि, अपने पहले के बयान को बदला 

राजस्थान के 5 जिलों से 17 सदस्य गए थे दिल्ली: 
वहीं दूसरी ओर राजस्थान के 5 जिलों से 17 सदस्य दिल्ली तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शिरकत करने गए थे. जानकारी के अनुसार सीकर, झुंझुनूं, जयपुर, टोंक और जैसलमेर से लोग दिल्ली गए थे. हालांकि इन 17 लोगों की फिलहाल पहचान की पुष्टि नहीं हुई है. ऐसे में प्रशासन के सामने यह चुनौति बन गया है. हालांकि प्रशासन इस पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है लेकिन फिर भी लोगों के सहयोग के बिना कोरोना वायरस पर कंट्रोल कर पाना काफी कठिन कार्य है. 


 

टोंक में बच्ची से दुष्कर्म का आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या 5 दिन के पुलिस रिमांड पर

टोंक में बच्ची से दुष्कर्म का आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या 5 दिन के पुलिस रिमांड पर

टोंक: टोंक में 6 वर्षीय मासूम से दुष्कर्म और हत्या के आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या को  कोर्ट ने 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है. आरोपी को पॉक्सो एक्ट में पेश किया गया. वहीं इससे पहले आरोपी को कोर्ट में लाते समय वकीलों ने उससे मारपीट का प्रयास किया. इस दौरान आरोपी को बचाने के प्रयास में पुलिस और वकील आमने-सामने हो गए. कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस आरोपी को कोर्ट के अंदर लेकर गई. 

पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही किया मामले का खुलासा: 
बता दें कि इससे पहले पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही मामले का खुलासा करते हुए आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या मीना को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की. पुलिस की शुरुआती पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल लिया था. 

स्कूल बेल्ट से गला घोटकर बच्‍ची की हत्या:
दरअसल आरोपी ट्रक ड्राइवर बच्ची के गांव में ही रहता है. स्नीफर डॉग की मदद से पुलिस आरोपी तक पहुंची है. पुलिस ने आधिकारिक तौर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए इस मामले में खुलासा भी किया है. बता दें कि दरिंदगी की इस वारदात में महज 6 साल की मासूम छात्रा से रेप करने के बाद उसके ही स्कूल बेल्ट से गला घोटकर बच्‍ची की हत्या कर दी गई. मासूम का शव रविवार को बबूल की घनी झाड़ियों में पड़ा मिला. घटना की जानकारी मिलते ही ग्रामीणों में जमकर आक्रोश फैल गया. पुलिस अधीक्षक समेत अन्य आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. उसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई. वारदात के बाद बच्ची के कपड़ों पर काफी खून भी मिला था. 

टोंक में बच्ची के साथ दुष्कर्म मामले में आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या गिरफ्तार

टोंक में बच्ची के साथ दुष्कर्म मामले में आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या गिरफ्तार

टोंक: टोंक में 6 वर्षीय मासूम से दुष्कर्म और हत्या के मामले में पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है. पुलिस ने मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. 24 घंटे के भीतर ही पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए आरोपी महेंद्र उर्फ धौल्या मीना को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है. पुलिस की शुरुआती पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल लिया है. 

स्कूल बेल्ट से गला घोटकर बच्‍ची की हत्या:
दरअसल आरोपी ट्रक ड्राइवर बच्ची के गांव में ही रहता है. स्नीफर डॉग की मदद से पुलिस आरोपी तक पहुंची है. पुलिस ने आधिकारिक तौर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए इस मामले में खुलासा भी किया है. बता दें कि दरिंदगी की इस वारदात में महज 6 साल की मासूम छात्रा से रेप करने के बाद उसके ही स्कूल बेल्ट से गला घोटकर बच्‍ची की हत्या कर दी गई. मासूम का शव रविवार को बबूल की घनी झाड़ियों में पड़ा मिला. घटना की जानकारी मिलते ही ग्रामीणों में जमकर आक्रोश फैल गया. पुलिस अधीक्षक समेत अन्य आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. उसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई. वारदात के बाद बच्ची के कपड़ों पर काफी खून मिला. 

टोंक में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में स्नीफर डॉग की मदद से आरोपी तक पहुंची पुलिस

टोंक में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में स्नीफर डॉग की मदद से आरोपी तक पहुंची पुलिस

टोंक: राजस्थान के टोंक में 6 वर्षीय मासूम से दुष्कर्म और हत्या के मामले में पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है. पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है. संदिग्ध का नाम महेंद्र उर्फ धौल्या मीना बताया जा रहा है. जानकारी के अनुसार पुलिस की शुरुआती पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल लिया है. आरोपी ट्रक ड्राइवर बच्ची के गांव में रही रहता है. स्नीफर डॉग की मदद से पुलिस आरोपी तक पहुंची है. हालांकि पुलिस ने आधिकारिक तौर पर इस मामले में अभी तक कोई खुलासा नहीं किया है. 

शाम को 4 बजे बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस: 
इस जघन्य अपराध के बारे में एसपी आदर्श सिंधु शाम 4 बजे प्रेस कांफ्रेंस कर खुलासा करेंगे. प्रेस कांफ्रेंस पुलिस लाइन में आयोजित की जाएगी. बता दें कि दरिंदगी की इस वारदात में महज 6 साल की मासूम छात्रा से रेप करने के बाद उसके ही स्कूल बेल्ट से गला घोटकर बच्‍ची की हत्या कर दी गई. मासूम का शव रविवार को बबूल की घनी झाड़ियों में पड़ा मिला. घटना की जानकारी मिलते ही ग्रामीणों में जमकर आक्रोश फैल गया. पुलिस अधीक्षक समेत अन्य आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. उसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई.

वारदात के बाद बच्ची के कपड़ों पर काफी खून मिला:  
वारदात के बाद बच्ची के कपड़ों पर काफी खून मिला. मौके पर पहुंची एफएसएल टीम ने घटना से जुड़े साक्ष्य जुटाए. वारदात में गांव या आसपास के ही किसी व्यक्ति का हाथ होने की आशंका है. एसपी आदर्श सिद्धू का कहना है कि 'प्रथम दृष्टया, दुष्कर्म और हत्या का मामला है. घटना की जांच की जा रही है. कुछ साक्ष्य मिले हैं.  जल्द ही खुलासा करेंगे. 

Open Covid-19