परीक्षाएं ऑनलाइन करवाने की मांग को लेकर पानी की टंकी पर चढ़ा छात्र, करीब ढाई घंटे की समझाइश के बाद उतारा गया नीचे

 परीक्षाएं ऑनलाइन करवाने की मांग को लेकर पानी की टंकी पर चढ़ा छात्र, करीब ढाई घंटे की समझाइश के बाद उतारा गया नीचे

जयपुर: राजस्थान विश्व विद्यालय से जुड़े हुए विधि महाविद्यालय की प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं ऑनलाइन आयोजित करवाने की मांग को लेकर आज एक छात्र राविवि कैम्पस स्थित पानी की टंकी पर चढ़ा.करीब ढाई बजे पानी की टंकी पर चढ़े छात्र को ढाई घंटे की समझाइश के बाद नीचे उतारा गया. 15 दिसम्बर से प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं ऑनलाइन आयोजित करवाने के लिए छात्र पिछले 15 दिनों से विवि प्रशासन को ज्ञापन सौंप रहा था. लेकिन कोई नतीजा नहीं निकलने से हताश होकर आज छात्र ने पानी की टंकी पर चढ़ने का फैसला लिया.

विधि के एक 5 छात्रों के प्रतिनिधि मंडल ने कुलपति से की मुलाकात: 
छात्र ने आरोप लगाते हुए कहा की अक्टूबर में अंतिम वर्ष की परीक्षाओं का आयोजन हुआ,लेकिन प्रथम और द्वितीय वर्ष में करीब 4 हजार छात्र पंजीकृत हैं. ऐसे में वर्तमान में कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है और छात्रों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ नहीं होना चाहिए, हालांकि विधि के एक 5 छात्रों के प्रतिनिधि मंडल ने कुलपति से मुलाकात की. जिसके बाद कुलपति ने परीक्षा से वंचित रहने वाले विद्यार्थियों के लिए अलग से विशेष परीक्षा का आयोजन करवाने का आश्वासन दिया. जिसके बाद छात्र पानी की टंकी से नीचे उतरा.

ऑनलाइन परीक्षा करवाना मुमकिन नहीं:
राविवि चीफ प्रोक्टर एसएस पलसानिया ने बताया कि राविवि के पास ऑनलाइन परीक्षा आयोजन करवाने के लिए इतना इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है.ऐसे में ऑनलाइन परीक्षा करवाना मुमकिन नहीं है. इसलिए छात्र पानी की टंकी पर चढ़ा. हालांकि समझाइश के बाद छात्र को पानी की टंकी से उतार लिया गया है और आगे जो कार्रवाई  होगी उसको अंजाम दिया जाएगा. छात्र को नीचे उतारने में सिविल डिफेंस और छात्र नेता रामसिंह सामोता का भी विशेष योगदान रहा.पानी की टंकी पर चढ़े छात्र को समझाइश के लिए सिविल  डिफेंस और छात्र नेता रामसिंह सामोता और सज्जन सैनी भी पानी की टंकी पर चढ़े. जिसके बाद छात्र नीचे उतरा.बहरहाल, पहले जहां लॉ प्रथम और द्वितीय परीक्षा पहले 25 नवम्बर से होनी थी. लेकिन परीक्षा क्लेश होने के चलते इनकी परीक्षा तिथि 15 दिसम्बर की गई,तो वहीं राविवि प्रशासन कोरोना गाइड लाइन के तहत परीक्षा आयोजित करवाने को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त नजर आ रहा है.

और पढ़ें