राजस्थान में कोरोना मरीजों पर सफल प्लाज्मा थैरेपी, अभी तक 22 मरीजों को दी जा चुकी सफल प्लाज्मा थैरेपी

राजस्थान में कोरोना मरीजों पर सफल प्लाज्मा थैरेपी, अभी तक 22 मरीजों को दी जा चुकी सफल प्लाज्मा थैरेपी

राजस्थान में कोरोना मरीजों पर सफल प्लाज्मा थैरेपी, अभी तक 22 मरीजों को दी जा चुकी सफल प्लाज्मा थैरेपी

जयपुर: कोरोना मरीजों के ट्रीटमेंट में जुटे एसएमएस मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों को प्लाज्मा थैरेपी से बड़ी मदद मिली है.कॉलेज में अब तक 22 मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी दी जा चुकी है, जिसके बाद वे काफी हद तक ठीक हुई है.देशभर की बात की जाए तो एसएमएस मेडिकल कॉलेज दूसरा ऐसा संस्थान है, जहां इतने मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी देकर ठीक किया गया है.कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी ने इसकी पुष्टि की है.भण्डारी ने कहा है कि प्लाज्मा थेरेपी की अनुमति एसएमएस मेडिकल कॉलेज को देरी से मिली, अन्यथा एसएमएस अस्पताल देश का पहला ऐसा अस्पताल बन जाता. 

राष्ट्रीय पक्षी मोर के शिकार का मामला आया सामने, ग्रामीणों ने तीन लोगों को पकड़ा

SMS मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के लिए एक बड़ी उपलब्धि:
जहां अभी तक सबसे अधिक मरीज प्लाज्मा थेरेपी से ठीक हुए होते.उन्होंने बताया कि अस्पताल में हर दिन मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी से इलाज दिया जा रहा है और अभी तक करीब 22 मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी से इलाज के जरिए ठीक भी किया जा चुका है.ये सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के लिए एक बड़ी उपलब्धि है.भंडारी ने यह भी दावा किया है कि आगामी कुछ दिनों के अंदर सवाई मानसिंह अस्पताल देश का पहला ऐसा अस्पताल बन जाएगा. 

कोरोना पॉजिटिव मरीज प्लाज्मा थेरेपी से हुए ठीक:
जहां सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीज प्लाज्मा थेरेपी द्वारा स्वस्थ किए जाएंगे.दरअसल, आईसीएमआर से अनुमति मिलने के बाद 6 मई को जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में प्लाजमा थेरेपी का सफल ट्रायल किया गया था.डॉ सुधीर भंडारी ने यह भी जानकारी दी कि सवाई मानसिंह अस्पताल में अब तक 500 से अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज किया गया है.मौत के आंकड़ों को छोड़ दे तो 97 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्हें बिना वेंटिलेटर ही पॉजिटिव से निगेटिव किया गया.सवाई मानसिंह अस्पताल के लिए यह अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है.

बालिका संरक्षण गृह में 7 लड़कियां निकलीं गर्भवती, प्रियंका गांधी ने साधा यूपी सरकार पर निशाना

और पढ़ें