Live News »

गर्मियों के मौसम और लॉकडाउन में निर्बाध पेयजल आपूर्ति के लिए सभी जिलों में माकूल व्यवस्थाएंः जलदाय मंत्री

गर्मियों के मौसम और लॉकडाउन में निर्बाध पेयजल आपूर्ति के लिए सभी जिलों में माकूल व्यवस्थाएंः जलदाय मंत्री

जयपुर: जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग द्वारा प्रदेश में कोरोना के कारण उत्पन्न लॉकडाउन की स्थितियों और गर्मी के मौसम को देखते हुए राज्य के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में निर्बाध पेयजल आपूर्ति के लिए 'प्रोएक्टिव' तरीके से अग्रिम तैयारियों के साथ ठोस कदम उठाए गए हैं. 

धन एवं स्वीकृति की कोई समस्या नहीं आने दी जायेगी:
जलदाय मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने बताया कि जलदाय विभाग एवं राज्य सरकार के स्तर से प्रदेश की पेयजल स्थिति की लगातार मॉनिटरिंग नियंत्रण कक्षों एवं कोविड-19 वार रूम के माध्यम से की जा रही है. प्रदेश में कहीं भी पेयजल सम्बंधी आवश्यकताओं के लिए धन एवं स्वीकृति की कोई समस्या नहीं आने दी जायेगी. उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण प्रदेश में लॉकडाउन से पूर्व ही राज्य की जनता की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए गर्मियों के मौसम में पेयजल की सम्भावित समस्याओं का आंकलन करते हुए राज्य सरकार द्वारा सभी जिलों के जिला कलक्टर्स को 50-50 लाख रूपये की राशि 27 फरवरी 2020 को स्वीकृत कर दी गई है. इससे सम्बंधित जिलों में ग्रीष्म ऋतु के दौरान आने वाली समस्याओं को तात्कालिकता के आधार पर समाधान कर जनता को राहत दी जा सकेगी. सभी 33 जिलों में गर्मी के मौसम में आकस्मिक कार्य के लिए 50 लाख रुपये की इस राशि को जिला कलक्टर्स की अभिशंषा अनुसार आकस्मिक आधार पर स्वीकृति के लिए जलदाय विभाग के सभी क्षेत्रीय कार्यालयो के अतिरिक्त मुख्य अभियन्ताओं को अधिकृत किया गया है. जिला कलक्टर की अनुशंषा अनुसार विभागीय अधिकारियों से प्राप्त आकस्मिक प्रस्ताव जिनमें सूखे नलकूपों के स्थान पर नये नलकूप, किराये पर निजी कुएं लेने, क्षतिग्रस्त पाईप लाईन एवं खराब पम्प सेट को बदलने इत्यादि की स्वीकृति जारी की जा चुकी है एवं इनके विरूद्ध कार्य भी प्रगति पर है. विभाग द्वारा आवश्यकतानुसार अतिरिक्त प्रस्ताव भी स्वीकृत किये जा रहे हैं. 

गांवों में ट्रैक्टर एवं अन्य साधनों से जल परिवहन के निर्देश जारी:
डॉ. कल्ला ने बताया कि प्रदेश के जिन गांवों में स्थानीय स्रोत से पानी उपलब्ध हो रहा है, वहां ट्रैक्टर एवं अन्य साधनों से जल परिवहन के निर्देश जारी किए गए हैं. उन्होने बताया कि जिला कलक्टर्स को जारी 50-50 लाख रुपये की राशि कम पड़ने पर जिलों द्वारा और अधिक राशि की मांग की जा सकेगी. सभी जिलों में जिला कलक्टर्स की अध्यक्षता में नियमित अंतराल पर होने वाली बैठकों में गर्मी के मौसम में जनता की पेयजल और विद्युत आपूर्ति से सम्बंधित जरूरतों और समस्याओं के बारे में बैठकें आयोजित की जा रही है. इसकी राज्य स्तर से सतत मॉनिटरिंग की जा रही है. 

टैंकरों से हो रहा शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में जल परिवहन:
जलदाय मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार के स्तर सभी जिलों में पेयजल व्यवस्था के समुचित प्रबंधन के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाओं के बारे में दिशा निर्देश जारी किए गए हैं. वर्तमान में प्रदेश के 27 शहरों में 1962 टैंकर ट्रिप्स प्रतिदिन से पेयजल परिवहन किया जा रहा है. इसी प्रकार पेयजल की कमी वाले 757 ग्रामढाणियों में 640 टैंकर ट्रिप प्रतिदिन से पेयजल परिवहन किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि  प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में तहसील-वार एवं शहरी क्षेत्रों में शहर-वार पेयजल कार्य की निविदा प्राप्त कर कार्य आदेश दे दिये गये हैं तथा जिला कलक्टर की कमेटी द्वारा पेयजल परिवहन दर भी स्वीकृत की जा चुकी है. सभी जिलों में हर वर्ष की भांति आवश्यकतानुसार पेयजल परिवहन बढ़ा दिया जाएगा.

कुल 65 करोड़ रुपये की स्वीकृति:
डॉ. कल्ला ने बताया कि प्रदेश में जल परिवहन की व्यवस्था के लिए अप्रैल से जुलाई 2020 की अवधि के लिए ग्रामीण क्षेत्र में 41 करोड़ तथा शहरी क्षेत्र में 24 करोड़ रुपये की राशि सहित कुल 65 करोड़ रुपये की स्वीकृति 30 मार्च 2020 को जारी कर दी गई थी. सभी जिलों में जल परिवहन की व्यवस्था सम्बंधित जिला कलक्टर की अनुशंषा और सहमति के आधार पर की जाएगी. चार अभावग्रस्त जिलों यथा जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर एवं हनुमानगढ़ में एसडीआएफ के तहत जल परिवहन कराने के लिए भी विशेष निर्देश 23 मार्च 2020 को जारी किए गए हैं.

हैण्डपम्पों की मरम्मत का अभियान जारी:
डॉ. कल्ला ने बताया कि राज्य में 44वां हैण्डपम्प मरम्मत अभियान गत एक अप्रैल से आरम्भ हो चुका है, इसके तहत अब तक 16 हजार 610 हैण्डपम्पों का मरम्मत कार्य कराया जा चुका है. राज्य में इसके अतिरिक्त, वर्ष 2019-20 में ग्रामीण क्षेत्रों में 2 लाख 11 हजार 302 एवं शहरी क्षेत्रों में 32 हजार 147 हैंडपम्पों का मरम्मत कार्य पूरा हो चुका है. उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा हैण्डपम्प मरम्मत अभियान व जल योजनाओं के संधारण के लिए किराये के 531 वाहन एवं 2500 संविदा श्रमिकों की भी स्वीकृति गत 31 जनवरी को जारी की गई. 

ग्रीष्म काल में पेयजल प्रबन्धन की मॉनिटरिंग के लिए विशेष व्यवस्था:
जलदाय मंत्री ने बताया कि सभी जिलों में स्थानीय स्तर पर पेयजल आपूर्ति की मॉनिटरिंग के अतिरिक्त राज्य स्तर से सघन निरीक्षण के लिए समस्त जिलों के लिए मुख्य अभियन्ता (सीई) एवं अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता (एसीई) स्तर के अधिकारियों को प्रभारी बनाया गया है, इन  अधिकारियों को नियमित अंतराल पर अपने प्रभार वाले जिलों का दौरा कर अपनी विस्तृत रिपोर्ट उच्च स्तर पर भिजवाने की व्यवस्था भी लागू की गई है. इस सम्बंध में गत अप्रेल माह के प्रथम पखवाड़े में ये सीई और एसीई स्तर के अधिकारी अपने प्रभार वाले जिलों का दौरा कर चुके है. इनके द्वारा समस्याग्रस्त क्षेत्रों की विजिट कर प्रकरणों के मौके पर ही समाधान का प्रयास किया गया है. 

पेयजल समस्या के निदान के लिए थ्री-टियर सिस्टम:
डॉ. कल्ला ने बताया कि कोरोना के कारण लॉकडाउन अवधि तथा गर्मियों के मौसम में जनता की पेयजल सम्बंधी शिकायतों की सुनवाई और उनके समयबद्ध निस्तारण के लिए थ्री-टियर सिस्टम से मॉनिटरिंग की जा रही है. इसके लिए सभी जिलों के अलावा राज्य स्तर पर भी नियंत्रण कक्ष स्थापित है, जो लगातार 24 घंटे एक्टिव मोड पर कार्य कर रहे हैं. सभी जिलों में स्थापित नियंत्रण कक्ष अपने स्तर पर दूरभाष पर प्राप्त होने वाली शिकायतों का समाधान करते है. इसके अलावा राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष भी जयपुर के जल भवन में स्थापित है. राज्य स्तरीय नियंत्रण द्वारा सभी जिलों के नियंत्रण कक्षों की मॉनिटरिंग की जा रही है, साथ ही इसमें प्राप्त शिकायतों को जिला स्तरीय नियंत्रण कक्षों को भेजकर उनका समाधान कराया जा रहा है. इसके अलावा तीसरे स्तर पर विभाग के विशिष्ट सचिव के स्तर से वॉटस एप ग्रुप के माध्यम से सभी जिलों में कार्यरत विभाग के अधिकारियों से प्रतिदिन व्यक्तिगत रूप से रिपोर्ट एवं फीडबैक लिया जा रहा है. इस वॉटस एप ग्रुप के माध्यम से पेयजल आपूर्ति, जल परिवहन और जन शिकायतों के निवारण की लगातार मॉनिटरिंग हो रही है. 

पेयजल योजनाओं के लिए पर्याप्त बजट आवंटित:
जलदाय मंत्री ने बताया कि राज्य में पेयजल योजनाओं के निर्बाध रूप से संचालन एवं संधारण के लिए पर्याप्त बजट आवंटन किया जा चुका है. राज्य की जनता को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के संकल्प के साथ वर्ष 2020-21 में पेयजल योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए कुल 4997.44 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया हैं. राज्य निधि में वर्ष 2020-21 में शहरी क्षेत्रों में राशि रुपये 1041.48 करोड, ग्रामीण क्षेत्रों के लिए राशि रूपये 3099.95 करोड़ तथा केन्द्रीय सहायता मद में राशि रूपये 856 करोड़ का प्रावधान पेयजल योजनाओं एवं कार्यो के क्रियान्वयन के लिए रखा गया हैं. 

कोविड-19 के मद्देनजर विशेष सर्तकता:
डॉ. कल्ला ने बताया कि राज्य सरकार एवं विभाग द्वारा गर्मियों के मौसम को देखते हुए अग्रिम स्तर पर ही सभी आवश्यक स्वीकृतियां जारी की जा चुकी हैं. सभी विभागीय अधिकारी एवं कर्मचारी ग्रीष्मकाल में पेयजल की समस्या विशेषकर कोविड-19 के मद्देनजर विशेष रूप से सजग एवं सतर्क होकर अपने दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं. इस कठिन अवधि में भी विभागीय अधिकारी एवं कर्मचारी समर्पित भाव से अपना पूर्ण योगदान दे रहे हैं. विभाग एवं सभी जिलों में जिला प्रशासन के सभी अधिकारियों को मुख्य सचिव के द्वारा अलग से 27 मार्च को विशेष दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 13 मौत, रिकॉर्ड 1278 नए केस, जोधपुर में मिले सर्वाधिक 202 पॉजिटिव मरीज 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 13 मौत, रिकॉर्ड 1278 नए केस, जोधपुर में मिले सर्वाधिक 202 पॉजिटिव मरीज 

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के मरीजों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 13 मरीजों की मौत हो गई. जबकि रिकॉर्ड 1278 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अजमेर में एक, भरतपुर में तीन, बीकानेर में 2, पाली में 1, जयपुर में 3,जैसलमेर में 2 और राजसमंद में 1 मरीज की मौत हो गई. जोधपुर में सर्वाधिक 202 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर 119, अलवर 150, बांसवाड़ा 29, बारां 6, बाड़मेर 15, भरतपुर 22, बीकानेर 126, बूंदी 22, चित्तौड़गढ़ 28, दौसा 27, डूंगरपुर 29, श्रीगंगानगर 13, जयपुर 166, झुंझुनूं 14, जोधपुर 202, करौली 7, कोटा 61, नागौर 64, पाली 30, प्रतापगढ़ 10, सवाईमाधोपुर 4, सीकर 89, टोंक 19, उदयपुर में 43 पॉजिटिव मिले. 
प्रदेश में मौत का आंकड़ा 846 पहुंच गया. कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 58 हजार 692 पहुंच गई.

अमित शाह की कोरोना रिपोर्ट आई नेगेटिव, ट्वीट करके कहा-कुछ दिन घर पर होम क्वारंटीन रहूंगा

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए कुल 43 हजार 897 मरीज:
प्रदेश में कोरोना के इलाज के बाद कुल 43 हजार 897 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. वहीं इलाज के बाद अस्पताल से कुल 41 हजार 963 मरीज डिस्चार्ज किए गए. अस्पताल में कुल 13 हजार 949 एक्टिव मरीज उपचाररत है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 8 हजार 888 पहुंच गई है.

जयपुर में बढ़ता कोरोना का खौफ: 
जयपुर में कोरोना वायरस का खौफ बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत हो गई. जबकि रिकॉर्ड 166 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. आदर्श नगर- 4, अजमेर रोड- 2, अंबाबाड़ी- 2, आमेर- 1, बगरू- 1 पॉजिटिव, बनीपार्क- 2, ब्रह्मपुरी- 5, सेंट्रल जेल घाटगेट- 5, चांदपोल- 2 पॉजिटिव, सी-स्कीम- 1, स्वास्थ्य निदेशालय- 1, दूदू- 1, दुर्गापुरा- 2, ईदगाह- 6 पॉजिटिव, गलता गेट- 1, गांधी नगर- 4, गंगापोल- 1, गोपालपुरा- 2, गोविंदगढ़- 4 पॉजिटिव, हरमाड़ा- 4, हसनपुरा- 1, हाईकोर्ट -5, जगतपुरा- 8, जमवारामगढ़- 2 पॉजिटिव, जवाहर नगर- 5, झोटवाड़ा- 8, जौहरी बाजार- 2, ज्योति नगर- 2 पॉजिटिव, कोटपूतली- 4, लूणियावास- 1, मालवीय नगर- 8, मानसरोवर- 9 पॉजिटिव, प्रवासी- 1, मुरलीपुरा- 4, फागी- 2, रामगंज- 3, रेनवाल- 2, सांगानेर- 7 पॉजिटिव, सेठी कॉलोनी- 1, सीकर रोड- 2, सिरसी- 2, सीतापुरा- 1, SMS- 2 पॉजिटिव, सोडाला- 6, सुभाष चौक- 3, तिलक नगर- 3, टोंक फाटक- 1 पॉजिटिव, टोंक रोड- 5, ट्रांसपोर्ट नगर- 2, वैशाली नगर- 2, विद्याधर नगर- 8 पॉजिटिव मरीज मिले है. जयपुर में अब तक 226 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 7 हजार 144 पॉजिटिव मिले है.

देश के नाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का संबो​धन,कहा-गलवान घाटी के वीरों पर देश को गर्व

राजस्थान: गहलोत सरकार ने हासिल किया विधानसभा में विश्वास मत, 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित

राजस्थान: गहलोत सरकार ने हासिल किया विधानसभा में विश्वास मत, 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित

जयपुर: पिछले एक माह से राजस्थान में सियासी संकट जारी था. इस बीच शुक्रवार को 15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र शुरू हुआ. जिसमें गहलोत सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत हासिल किया. ध्वनि मत से सदन में विश्वास मत पारित हुआ. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सदन में विश्वास मत जीता. अब 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित की गई. विश्वास मत हासिल करने पर सचिन पायलट ने मुख्यमंत्री गहलोत को बधाई दी. 

सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे:
इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकार के विश्वास मत पर सदन में संबो​धन दिया. इस दौरान सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे. सीएम गहलोत ने कहा कि आप में से कई लोग नहीं चाहते कि सरकार गिराई जाए. BJP के नेता छिपकर रात को दिल्ली गए. छिपकर तभी काम करते हैं जब षड्यंत्र होता है. बीजेपी के कुछ नेता मुख्यमंत्री बनने के ख्वाब देखने लगे. सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान सरकार किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा. आप कौन होते हो हमारी पार्टी के बारे में बोलने वाले?

15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला:
सीएम गहलोत ने सदन में नेता प्रतिप​क्ष गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर पलटवार करते हुए कहा कि आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला है. मैं उनके सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं. कोरोना प्रबंधन में तो पीएम और दुनिया ने तारीफ की. लेकिन आप ने उसकी भी तारीफ नहीं की. हमारी पार्टी में खूबसूरती के साथ एपिसोड का समापन हुआ. इसका धक्का अमित शाह को लगा है. इस षड्यंत्र में केंद्र के नेता शामिल थे.विधायकों की कोई फोन टेपिंग नहीं हुई. षड्यंत्र BJP और BJP आलाकमान का था.बीजेपी ने पूरे देश मे नंगा नाच किया. देश में डेमोक्रेसी खतरे में है.

वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने किया गुमराह:
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने गुमराह किया. कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हम जीवन व आजीविका बचाने का काम कर रहे हैं. और लोग सरकार गिराने में लगे हुए है. 14 विधायक तोड़ने के बावजूद अहमद पटेल को नहीं हरा सके. विधायकों के पास जनता का फोन आता है कि सरकार गिरनी नहीं चाहिए. राज्यपाल के पद की गरिमा होती है. सीएम गहलोत ने कहा कि राज्यपाल के पत्र का मैंने जवाब दे दिया था, लेकिन मैं उसका उल्लेख सदन में नहीं करना चाहता.

चुनी हुई सरकारों को गिराने का करते है काम: 
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि देश में 2 लोग राज कर रहे हैं. लेकिन राजस्थान में कुछ नहीं कर पाए. चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम करते है. 100 चूहे खाकर बिल्ली  हज को निकली. 50 साल से मैं राजनीति कर रहा हूं,तीसरी बार मैं मुख्यमंत्री बना हूं.कैलाश मेघवाल के बयान की सब जगह तारीफ हुई. भैरोसिंह की सरकार गिराने का प्रयास हुआ,तब मैं उसके खिलाफ था.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र, सरकार के विश्वास प्रस्ताव पर बहस, गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर हुआ हंगामा

सदन में विपक्ष पर जमकर बरसे सीएम गहलोत, कहा-राजस्थान में किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा सरकार 

सदन में विपक्ष पर जमकर बरसे सीएम गहलोत, कहा-राजस्थान में किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा सरकार 

जयपुर: 15वीं राजस्थान विधानसभा के पांचावे सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकार के विश्वास मत पर सदन में संबो​धन दिया. इस दौरान सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे. सीएम गहलोत ने कहा कि आप में से कई लोग नहीं चाहते कि सरकार गिराई जाए. BJP के नेता छिपकर रात को दिल्ली गए. छिपकर तभी काम करते हैं जब षड्यंत्र होता है. बीजेपी के कुछ नेता मुख्यमंत्री बनने के ख्वाब देखने लगे. सीएम गहलोत ने कहा कि  राजस्थान सरकार किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा. आप कौन होते हो हमारी पार्टी के बारे में बोलने वाले?

आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला:
सीएम गहलोत ने सदन में नेता प्रतिप​क्ष गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर पलटवार करते हुए कहा कि आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला है. मैं उनके सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं. कोरोना प्रबंधन में तो पीएम और दुनिया ने तारीफ की. लेकिन आप ने उसकी भी तारीफ नहीं की. हमारी पार्टी में खूबसूरती के साथ एपिसोड का समापन हुआ. इसका धक्का अमित शाह को लगा है. इस षड्यंत्र में केंद्र के नेता शामिल थे.विधायकों की कोई फोन टेपिंग नहीं हुई. षड्यंत्र BJP और BJP आलाकमान का था.बीजेपी ने पूरे देश मे नंगा नाच किया. देश में डेमोक्रेसी खतरे में है.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने किया गुमराह:
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने गुमराह किया. कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हम जीवन व आजीविका बचाने का काम कर रहे हैं. और लोग सरकार गिराने में लगे हुए है. 14 विधायक तोड़ने के बावजूद अहमद पटेल को नहीं हरा सके. विधायकों के पास जनता का फोन आता है कि सरकार गिरनी नहीं चाहिए. राज्यपाल के पद की गरिमा होती है. सीएम गहलोत ने कहा कि राज्यपाल के पत्र का मैंने जवाब दे दिया था, लेकिन मैं उसका उल्लेख सदन में नहीं करना चाहता.

चुनी हुई सरकारों को गिराने का करते है काम: 
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि देश में 2 लोग राज कर रहे हैं. लेकिन राजस्थान में कुछ नहीं कर पाए. चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम करते है. 100 चूहे खाकर बिल्ली  हज को निकली. 50 साल से मैं राजनीति कर रहा हूं,तीसरी बार मैं मुख्यमंत्री बना हूं.कैलाश मेघवाल के बयान की सब जगह तारीफ हुई. भैरोसिंह की सरकार गिराने का प्रयास हुआ,तब मैं उसके खिलाफ था.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र, सरकार के विश्वास प्रस्ताव पर बहस, गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर हुआ हंगामा

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

जयपुर: राजस्थान में सियासी घमासान थमने के बाद 15वीं विधानसभा का 5वां सत्र आज 11 बजे से शुरू होने जा रहा है. इसमें गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव तो वहीं भाजपा अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में है. इस बीच बसपा ने बसपा ने भी अपने 6 विधायकों को व्हिप जारी कर अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति में कांग्रेस के खिलाफ वोट करने को कहा है. 

विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया:
इससे पहले गुरुवार को भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ हुई विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया गया था. बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता वसुंधरा राजे भी शामिल हुई थीं. पार्टी सूत्रों की माने तो अविश्वास प्रस्ताव लाने के फैसले का संख्याबल से कोई लेना देना नहीं है. बीजेपी जानती है कि सीएम गहलोत के पास बहुमत है और उनकी योजना विश्वास मत कायम करने की है जिससे उन्हें छह महीने के लिए राहत मिल जाएगी. ऐसे में बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव की बात कहकर गहलोत की योजना को विफल करने का प्रयास किया है. 

सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी:
वहीं सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी. डिप्टी सीएम के पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट अब अशोक गहलोत के बगल वाली सीट पर नहीं बैठेंगे. बताया जा रहा है कि पायलट को निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा के बगल वाली सीट अलॉट की गई है. सचिन पायलट के साथ ही दो मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किया गया था. इस वजह से विश्वेंद्र सिंह सबसे आखिरी पंक्ति में 14वें नंबर सीट पर बैठेंगे, जबकि रमेश मीणा को दूसरे रूम में पांचवी पंक्ति के 54 नंबर सीट दी गई है.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

 कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

जयपुर: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया है. सीएम गहलोत ने कहा कि सदन में हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे. हम 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते, लेकिन अभी जो खुशी है वो नहीं होती. क्योंकि अपने तो अपने होते हैं, जो हुआ उसे भूल जाएं. किसी भी विधायक की शिकायत को दूर करेंगे. अभी चाहो तो अभी बाद में चाहो तो बाद में मिल लें. बैठक में सभी ने एक साथ हाथ खड़े कर एकजुटता दिखाई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तमाम विधायक मौजूद रहे. यह बैठक सीएमआर में हुई. जहां पर सभी कांग्रेस के विधायक एक जुट दिखाई दिए. इससे पहले पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने सीएमआर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की. विवाद खत्म होने के बाद सीएम गहलोत और पायलट ने एक दूसरे से हाथ मिलाया. 

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

आखिर सामने आ गयी एक सुखद तस्वीर:
राजस्थान सियासी संकट के बाद आखिर एक सुखद तस्वीर सामने आ गई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत और पायलट दोनों बैठक में मौजूद रहे. बैठक में केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, सुरजेवाला, अजय माकन भी मौजूद रहे. बैठक में गहलोत-पायलट समेत सभी ने विक्ट्री का साइन दिखाया. बैठक में गोविंद सिंह डोटासरा ने अपने संबो​धन में कहा कि अंग्रेजों की फूट डालो राज करो की तर्ज पर भाजपा ने षड़यंत्र किया, लेकिन भाजपा अपने षड़यंत्र में कामयाब नहीं हुई. बैठक में विवेक बंसल, काजी निजामुद्दीन ,देवेन्द्र यादव और तरुण कुमार समेत तमाम मं​त्री और विधायक गण मौजूद रहे.

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म:
आपको बता दें कि राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

गहलोत सरकार को गिराने का लगा था आरोप:
बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. 

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

जयपुर: प्रदेश में कोरोना महामारी में आमजन की दिक्कतों को देखते हुए गहलोत सरकार ने एकओर बड़ा फैसला किया है.इसके तहत प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैनों के जरिए आमजन को न मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत दी जाने वाली दवाओं का वितरण किया जाएगा बल्कि जरूरी जांचों की सुविधा भी इन वैनों में उपलब्ध कराई जाएगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत न सिर्फ कोरोना की रोकथाम को लेकर गंभीर है, बल्कि इस दरमियान आमजन को हो रही दिक्कतों का भी हर संभव समाधान कर रहे है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि वर्तमान में ज्यादातर अस्पतालों को कोविड फ्री कर दिया गया है.फिर भी सरकार ने प्रदेश भर में चलाई जा रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए आमजन को और अधिक राहत देने के लिए निशुल्क दवा और जांच योजना की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं.

वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4:
उन्होंने बताया कि कोरोना के अलावा बीमारियों के उपचार के लिए प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए हजारों लोग प्रतिदिन चिकित्सा सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं.कोरोना रोकथाम को लेकर डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में जीवनरक्षक इंजेक्शन की खरीद आरएमएससीएल के द्वारा कर ली गई है.सभी जिला अस्पतालों में ये इंजेक्शन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं.उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 रह गई है.इस दर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना में प्लाज्मा थेरेपी अहम पद्धति साबित हुई है.जिन लोगों को थेरेपी दी गई थी, वे अब पूरी तरह स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं.

विवाद खत्म होने के बाद सचिन पायलट ने की मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात, आज होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक

लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता:
उन्होंने बताया कि लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता आने लगी है.जो लोग कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं, वे आगे आकर अपना प्लाज्मा दान कर रहे हैं.पिछले दिनों झुंझनूं में 48 लोगों ने प्लाज्मा दान किया है.जोधपुर के कलेक्टर ने पॉजिटिव से नेगेटिव होने के बाद प्लाज्मा दान कर लोगों की प्रेरणा बने हैं.जोधपुर में प्लाज्मा कैंप लग रहा है, पाली व अन्य जिलों में व्यापक स्तर पर कैंप आयोजित कर लोगों को प्लाज्मा दान के लिए प्रेरित किया जा रहा है.उन्होंने कोरोना डिफिटर्स से अपील करते हुए कहा कि प्लाज्मा दान देने से कोई परेशानी, कोई कमजोरी नहीं आती लेकिन इस कोशिश से किसी की जिंदगी जरूर बच सकती है.

पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी:
डॉ. शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी हुई लेकिन बढ़ती संख्या के पीछे ज्यादा जांचें होना भी है.प्रदेश में 32 हजार से ज्यादा जांचें प्रतिदिन की जा रही हैं.उन्होंने कहा कि ज्यादा लोग असिंप्टोमेटिक हैं, ऐसे में जितनी ज्यादा जांचें होंगी उतनी ही जल्द हम कोरोना के प्रसार को थाम सकेंगे.उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य बेहतर रिकवरी और कोरोना से होने वाली मृत्युदर को कम करना है.इसके लिए विभाग और सरकार द्वारा कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जा रही है.राज्य में 73-74 फीसद मरीज बेहतर उपचार के बाद ठीक हो रहे हैं, वहीं कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 फीसद हो गई है. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि क्वारंटीन सुविधाओं के क्रियान्वयन को बेहतर करने के लिए कमेटियों का गठन किया गया था. अब इन कमेटियों को फिर से प्रभावी बनाकर गांव-गांव तक क्वारंटीन व्यवस्था को मजबूती दी जाएगी.उन्होंने बताया कि सभी चिकित्सा अधिकारी, सरपंच, जन प्रतिनिधि व अन्य अधिकारियों को होम क्वारंटीन सुविधाओं को मजबूत बनाने के लिए निर्देश दिए जाएंगे.

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

जयपुर: राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. ह

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

बीकानेर: जिले के जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना क्षेत्र में हुए महिला के ब्लाइंड मर्डर का पुलिस ने आज खुलासा कर दिया. जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना पुलिस ने ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे मामले का खुलासा किया. सीओ सदर पवन कुमार भदौरिया, JNVC थानाधिकारी गोविंद सिंह चारण भी दौरान मौजूद रहे. 

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार 

नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या:  
ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने बताया कि महिला द्वारा तीन लाख रुपये और मकान की नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या कर दी गई और उसके बाद शव को जलाकर जोधपुर बाईपास पर गणेश विहार में एक जर्जर मकान में फेंक दिया गया. उन्होंने बताया कि मृतक महिला परमेश्वरी ने अपनी जाति छुपाकर बीकानेर के गंगाशहर निवासी लालचंद उपाध्याय के साथ प्रेम विवाह किया था. कुछ दिनों बाद महिला की जाति का पता चलने पर लालचंद व उसके मध्य विवाद होने लगे. उसके बाद महिला के प्रेमी लालचंद के दोस्त पूनमचंद के साथ भी नाजायज संबंध बन गए. मृतक महिला शराब पीने की भी आदि थी. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी: 
उन्होंने बताया कि महिला परमेश्वरी ने लालचंद और पूनमचंद से तीन लाख रुपये और मकान देने की मांग की ओर नही देने पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी. जिस पर लालचंद और पूनम चंद ने अपने दोस्त पंकज के साथ मिलकर परमेश्वरी को मारने की योजना बनाई और उसे शराब पिलाकर रस्सी से गला घोट दिया. उसके बाद उसका शव जला कर खंडहर नुमा मकान में फेंक दिया. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से हत्या के अन्य तथ्यों के बारे में भी पूछताछ कर रहे हैं. गैरतलब है कि दो दिन पूर्व महिला का अधजला शव मिला था. 

...संजय पारीक फ़र्स्ट इंडिया न्यूज बीकानेर

Open Covid-19