Google CEO सुंदर पिचई बोले, महामारी के समाप्त होने के पश्चात भी कहीं से भी सीखने और सिखाने की जरूरत समाप्त नहीं होगी

Google CEO सुंदर पिचई बोले, महामारी के समाप्त होने के पश्चात भी कहीं से भी सीखने और सिखाने की जरूरत समाप्त नहीं होगी

वाशिंगटनः सर्च इंजन गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के समाप्त होने के पश्चात भी कहीं से भी सीखने और सिखाने की जरूरत समाप्त नहीं होगी. गूगल ने बुधवार को दूर दराज के क्षेत्रों में शिक्षा के लिए 50 से अधिक नए सॉफ्टवेयर टूल जारी किए है ताकि शिक्षक और छात्र वैश्विक महामारी के दौरान वर्चुअल कक्षाओं में एक दूसरे से रूबरू होते रहें. 

कंपनी का उद्देश्य सूचनाओं को व्यवस्थित करना

पिचाई (48) ने कहा है कि महामारी समाप्त होने के बाद भी कहीं से भी सीखने और सिखाने की जरूरत समाप्त नहीं होगी. हमारे पास यह अवसर है कि हम कल्पना कर सकें की आगे क्या हो सकता है और इस लिए हमने पिछले वर्ष सीखने और शिक्षा के क्षेत्र पर औपचारिक रूप से ध्यान केन्द्रित किया है. उन्होंने कहा कि कंपनी का मुख्य उद्देश्य विश्व भर की सूचनाओं को व्यवस्थित करना और उसे ऐसा बनाना है कि पूरी दुनिया उस तक पहुंच सके और उससे लाभ ले सके.

दुनिया भर के 17 करोड़ छात्र और शिक्षक कर रहें हैं गूगल वर्कस्पेस का इस्तेमाल

पिचाई ने कहा है कि दोनों बड़ी गहराई से जुड़े है. सीखना वह है जो सूचना को उपयोगी बनाती है और लोगों को अपने लिए, अपने परिवारों और समुदाय की भलाई के लिए ज्ञान का इस्तेमाल करने लायक बनाती है. गूगल के अनुसार, 17 करोड़ छात्र और शिक्षक दुनिया भर में शिक्षा के लिए गूगल वर्कस्पेस का इस्तेमाल कर रहे हैं. गूगल में लर्निंग एंड एजुकेशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बेन गोम्स ने कहा कि शिक्षा में मदद तथा और ज्यादा सीखने में प्रौद्योगिकी अधिक टूल, अधिक संसाधनों के इस्तेमाल की अनुमति देती है. (सोर्स-भाषा) 

 

और पढ़ें