जयपुर Rajasthan: कलराज मिश्र बोले- प्रतिभाशाली लोग युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति से जोड़ने की करें पहल

Rajasthan: कलराज मिश्र बोले- प्रतिभाशाली लोग युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति से जोड़ने की करें पहल

Rajasthan: कलराज मिश्र बोले- प्रतिभाशाली लोग युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति से जोड़ने की करें पहल

जयपुर: राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने प्रबुद्धजनों और प्रतिभा संपन्न लोगों से आह्वान किया कि वे पाश्चात्य संस्कृति के अंधानुकरण से युवा पीढ़ी को बचाकर उन्हें भारतीय संस्कृति से जोड़े रखने के लिए पहल करें.

उन्होंने कहा कि युवाओं में राष्ट्रबोध जाग्रत करने के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे. मिश्र ने मंगलवार को संस्कृति युवा संस्थान द्वारा आयोजित राजस्थान गौरव अलंकरण समारोह-2022 को सम्बोधित किया. उन्होंने कहा कि संस्कृति वास्तव में समाज की सूक्ष्म संस्कार है जो अतीत और भविष्य के बीच सेतु का कार्य करती है. उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति केवल अपने लिए नहीं, बल्कि सभी की कल्याण की सोच रखकर जीवन जीने की प्रेरणा देती है. इसीलिए भारतीय संस्कृति विश्व संस्कृति की जननी कही जाती है. राज्यपाल ने कहा कि प्रतिभा स्वतः स्फूर्त होती है. वह किसी बाधा और कठिनाई से कुंठित नहीं होती और क्षेत्र, समाज और भौगोलिक सीमाओं से परे जाकर अपना स्थान बनाती है. 

उन्होंने राजस्थान गौरव से सम्मानित प्रतिभाओं को बधाई देते हुए कहा कि जिस समाज में प्रतिभाओं का सम्मान होता है, वहां सकारात्मक कार्यों को करने के लिए बड़े स्तर पर वातावरण तैयार होता है. मिश्र ने समारोह में भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी प्रसन्न कुमार खमेसरा, भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी राजन विशाल, वैभव गालरिया, उदयपुर के पूर्व राजपरिवार के लक्ष्यराज सिंह मेवाड़, साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित कवि एवं साहित्यकार डॉ. राजेश कुमार व्यास, शिक्षाविद् प्रो. ए.के. गहलोत सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान करने वाली विभूतियों को सम्मानित किया. सोर्स- भाषा

और पढ़ें