Live News »

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार'

जयपुर: पूरा प्रदेश जब कोरोना संकट से जूझ रहा है, तो कुछ ऐसे योद्धा भी है, जो अग्रिम पंक्ति में खड़े होकर प्रदेश की जनता की रक्षा के लिए इस वायरस से जंग लड़ रहे हैं. इन योद्धा में सबसे आगे सेनापति की तरह डटे हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जिनका न अब सोने का ठिकाना है और न खाने का. बस मन में एक ही संकल्प, प्रदेश को कोराना महामारी से जंग जिताकर ही दम लें. 

 Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए:
प्रदेश में जब विकास का खाका खिंचा जा रहा था और विधानसभा में बजट पास हुआ था, तब ही एक चिंता भरी खबर आई कि इटली का एक नागरिक कोराना पॉजिटिव पाया गया है. चिंता इसलिए गहरी थी क्योंकि यह नागरिक राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई इलाकों में रुका था. अब इस घटना के बाद प्रदेश में सबकुछ बदल गया. सीएम गहलोत जहां बजट के अनुसार प्रदेश के विकास का सपना देख रहे थे, अचानक सेनापति की भूमिका में आकर खड़े हो गए, क्योंकि अब जंग ऐसे अद्श्य दुश्मन से होनी थी, जिसने पूरी द़ुनिया में हाहाकर मचा रखा था. गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए. तुरंत फैसले लिए और साथ ही एक ऐसी टीम बनाई, जो दिन रात कोराना से जंग में लड़ाइ लड़ सके. सेनापति की भांति खुद गहलोत मोर्चे पर डटे है. एक तरफ लोगों से बीमारी से बचाने का जिम्मा है, तो दूसरी तरह गरीब, बेसहारा व जरूरतमंदो को भूखा न सोने देने का दृढसंकल्प. कोराना से जंग में प्रदेश के इस योद्धा न अब तक क्या क्या किया इस पर एक नजर डाल लेते हैं. 

- 18 मार्च को पूरे प्रदेश में धारा 144 लगाने की घोषणा की
- 21 मार्च को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन करने का फैसला
- लॉकडाउन करने वाला देश का पहला राज्य बना राजस्थान
- राजस्थान का अनुसरण फिर अन्य राज्यों व केंद्र ने किया
- जनता के जीवन का सर्वापरि मानकर कुछ जगह कर्फ्यू लगाया
- लॉकडाउन के कारण प्रदेश की जनता की चिंता भी सताने लगे
- मजदूरों, गरीबों व असहायों के लिए विशेष प्रबंध किए गहलोत ने
- पहले 1000 फिर 1500  रुपए की नकद सहायता राशि देने का फैसला
- 'प्रदेश में कोई भूखा न सोए' अभियान का आगाज किया गहलोत ने
- सभी राजनीतिक दलों से बैठक करके कोरोना से लड़ाई में मदद मांगी
- धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं के प्रमुख से मीटिंग की मुख्यमंत्री ने
- विधायक व मंत्रियों के साथ अपना वेतन स्थगित किया गहलोत ने
- बिजली व पानी के बिल स्थगित करके जनता को बड़ी राहत दी
- चिकित्सा कर्मियों के लिए विशेष प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की

प्रदेश में धारा 144 लगाने के बाद से लेकर अब तक कोई ऐसा दिन नहीं गया हो, जब मुख्यमंत्री ने दिन में दो से तीन मीटिंग न ली हो. वरिष्ठ अधिकारियों का कोर ग्रुप बनाया, जो तुरंत फैसले ले. अब तो सीएम ने दो टास्क फोर्स का भी गठन कर दिया है. भीलवाड़ा में तो कोराना को नाकों चने चबाकर ऐसा मॉडल स्थापित किया कि आज पूरे देश में सीएम के इस भीलवाड़ा मॉडल की तारीफ हो रही है. प्रदेश की जनता भूखी न सोए इसके लिए ऐसा अभियान छेड़ा कि आज हर कोई मदद के लिए आगे बढ़कर आ रहा है. मुख्यमंत्री ने कोविड 19 विशेष कोष भी स्थापित किया है, जिसमें लोगों ने खुले हाथों से मदद की. अब तक इस कोष में 170 करोड़ रुपए से अधिक आ गए हैं.

फोर्ब्स सूची: दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति पर कोरोना का कहर, आधे से ज्यादा की संपत्ति में गिरावट!

रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य:
कोराना से इस जंग में मुख्यमंत्री का कंधे से कंधे मिलाकर साथ दिया एक और योद्धा ने. यह योद्धा है मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका. प्रशासन में 100 फीसदी डिलीवरी के लिए पहचान रखने वाले रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य है. मुख्यमंत्री द्वारा लिए गए फैसलों को तुरंत पूरे प्रदेश में लागू कराना और उनकी मॉनिटरिंग करके मुखिया को रिपोर्ट देने का काम रांका ने बखूबी किया है. न दिन का चैन न रात का सुकुन. ब्यूरोक्रेसी के माध्यम से इस जंग को जीतने में अहम भूमिका निभाई है कुलदीप रांका ने. मुख्यमंत्री व रांका की प्रेरणा से ही अधिकारियों व कर्मचारियों ने आगे बढ़कर अपने वेतन में से सहयोग दिया. जब सरकार ने वेतन स्थगित करने का फैसला किया, तो कर्मचारियों ने इसका भी समर्थन किया. यह संभव हो पाया कुलदीप रांका के कारण. 

और पढ़ें

Most Related Stories

Cyclone Nisarga: कमजोर पड़ा तूफान निसर्ग, बड़ा खतरा टला

Cyclone Nisarga: कमजोर पड़ा तूफान निसर्ग, बड़ा खतरा टला

मुंबई: चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से गुजरने के बाद कमजोर पड़ गया है. तूफान अब उत्तर महाराष्ट्र तथा गुजरात की ओर बढ़ गया है. मौसम विभाग के अनुसार इस समय तूफान की तीव्रता भी कुछ कम हुई है. ऐसे में तूफान का मुंबई के लिए खतरा लगभग खत्म हो चुका है. वहीं मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश जारी रहेगी. इस दौरान निसर्ग के चलते मुंबई, रत्नागिरी, रायगड, नवी मुंबई में जमकर तेज हवाएं चलीं और जोरदार बारिश हुई. सड़कों पर जगह-जगह पेड़ों के गिरने के दृश्य नजर आ रहे हैं. 

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत तक ऋण, चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी 

मुंबई में जनजीवन अस्तव्यस्त: 
तूफान निसर्ग की वजह से मुंबई में जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है. तूफान का सबसे ज्यादा असर रायगड में देखा जा रहा है और यहां भारी तबाही हुई है. बारिश के साथ तूफानी हवाओं ने पूरे शहर में जगह-जगह पेड़ों को गिरा दिया. वहीं रत्नागिरी में तूफानी हवाओं की चपेट में आकर एक छोटा जहाज रास्ता भटक गया, हालांकि बाद में इसे रेस्क्यू कर लिया गया.

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल 

एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गईं:
चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गईं. इसमें मुंबई में 8 टीमें, रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है. वहीं, कुछ टीमों को स्टैंडबाई पर रखा गया था. बता दें कि दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है. पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी.

चिकित्सा मंत्री से सेंट्रल टीम की मुलाकात, कोरोना रोकथाम कार्यो की सराहना

चिकित्सा मंत्री से सेंट्रल टीम की मुलाकात, कोरोना रोकथाम कार्यो की सराहना

जयपुर: चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा से बुधवार को केंद्रीय संयुक्त सचिव राजीव ठाकुर के नेतृत्व में आयी सेंट्रल टीम ने भेंट की. इस दौरान टीम ने प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए किए गए कार्यों की सराहना की. डॉ शर्मा ने टीम को प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए गए प्रयासों की विस्तार से जानकारी दी. 

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत तक ऋण, चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी 

विधायक कोष का उपयोग 2 वर्ष के लिए केवल स्वास्थ्य सेवाओं पर व्यय होगा: 
उन्होंने प्रदेश में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग, क्वारेंटाइन सुविधाओं, कोरोना टेस्ट सुविधाओं सहित अन्य गतिविधियों के बारे में जानकारी दी. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में स्वास्थ्य के आधार भूत ढांचे को सुदृढ़ करने के लिए व्यापक कार्यवाही की जा रही है. विधायक कोष का उपयोग 2 वर्ष के लिए केवल स्वास्थ्य सेवाओं पर व्यय होगा. स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मजबूत बनाने के संसाधनों की कोई कमी नही आने दी जाएगी. 

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल 

स्वास्थ्य कर्मियों की नियुक्ति व प्रशिक्षण पर ध्यान दिया गया:
स्वास्थ्य कर्मियों की नियुक्ति व प्रशिक्षण पर ध्यान दिया गया है. प्रदेश में 735 चिकित्सकों की नियुक्ति के बाद आज ही 2 हजार चिकित्सको भर्ती हेतु विज्ञप्ति जारी की गई है. साथ ही 12 हजार से अधिक पैरा मेडिकल स्टाफ की नियुक्ति की गई है. इस अवसर पर टीम सदस्य डॉ तंजिन डिकिड एवं डॉ संजय मट्टू के साथ ही एमडी एनएचएम नरेश ठकराल, अतिरिक्त निदेशक डॉ रवि शर्मा भी मौजूद रहे.  

चीन में हड़कंप मचाने वाले Remove China Apps और Mitron app को गूगल प्‍लेस्‍टोर ने हटाया

चीन में हड़कंप मचाने वाले Remove China Apps और Mitron app को गूगल प्‍लेस्‍टोर ने हटाया

नई दिल्ली: पिछले कुछ दिनों से काफी पॉप्युलर हो रहे Remove China Apps और Mitron app को गूगल प्ले स्टोर ने हटा दिया है. चीनी एप को हटाने के लिए विकसित किए गए 'रिमूव चाइना एप' को व्‍यापक समर्थन मिला और रिकॉर्ड 50 लाख से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया. इस ऐप के जरिए आप अपने स्मार्टफोन में मौजूद सभी चीनी ऐप्स को डिलीट कर पाते थे. 

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत तक ऋण, चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी 

यह एक दिन में दूसरा पॉप्युलर ऐप: 
जिन यूजर्स के फोन में यह ऐप पहले से डाउनलोडेड है, उनके फोन में यह काम करता रहेगा. यह एक दिन में दूसरा पॉप्युलर ऐप है जिसे गूगल ने रिमूव किया. इससे पहले मंगलवार को ही प्ले स्टोर से टिकटॉक की तरह ही काम करने वाले Mitron ऐप को भी हटाया गया है. मिट्रोन ऐप चीनी ऐप टिक टोके का विकल्प था. दोनों ऐप भारत में हाल ही में बहुत लोकप्रिय हो रहे थे.

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल 

जयपुर की कंपनी OneTouchAppLabs ने डिवेलप किया:
रिमूव चाइना ऐप को जयपुर की कंपनी OneTouchAppLabs ने डिवेलप किया था. गूगल के रिमूव करने पर कंपनी 'वन टच एपलैब' ने ट्वीट कर कहा है कि एप को प्‍लेस्‍टोर से हटा दिया गया है. हालांकि ऐसा क्‍यों किया गया है कंपनी ने भी कुछ नहीं बताया है. हालांकि गूगल प्‍ले स्‍टोर की ओर से अभी इस बात की पुष्टि नहीं की गई है कि इस एप को क्‍यों हटाया गया है या यह भविष्‍य में गूगल प्‍ले स्‍टोर पर उपलब्‍ध होगा या नहीं. 


 

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल

Coronavirus Vaccine: रूस ने किया कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा, सैनिकों पर हो रहा है ट्रायल

नई दिल्ली: दुनियाभर में लगातार कोरोना का कहर बरकरार है. इसी के चलते शोधकर्ता कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ कारगर दवा और टीका ईजाद करने की कोशिशों में जुटे हुए हैं. इसी बीच रूस के रक्षा मंत्रालय ने एक महत्वपूर्ण दावा है. रूसी सेना के अनुसार उसने कोविड19 के टीके का अपने सैनिकों के साथ ट्रायल शुरु कर दिया है. ऐसे में यह ट्रायल अगले महीने के अंत तक खत्म हो जाएंगे.

Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र से टकराया चक्रवाती तूफान निसर्ग, 129 साल बाद इतना भयानक तूफान  

इस परीक्षण के लिए 50 सैन्यकर्मियों का चयन किया गया: 
रूसी रक्षा विभाग के मुताबिक इस परीक्षण के लिए 50 सैन्यकर्मियों का चयन किया गया, जिनमें पांच महिलाएं भी हैं. चिकित्सा परीक्षण पूरा होने के बाद सभी को टीके की डोज देने के लिए तैयार किया जाएगा. रूसी वैज्ञानिकों ने 1 जून को नए टीके के प्रायोगिक नमूने का प्रीक्लीनिकल अध्ययन पूरा कर लिया. जानकारी के अनुसार इन सभी सैन्यकर्मियों ने स्वेच्छा से आधुनिक दवा के परीक्षण में भाग लेने की इच्छा व्यक्त की थी. ऐसे में नए टीके के लिए क्लीनिकल ट्रायल जुलाई के अंत तक पूरे हो जाएंगे. 

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक 

रूस तीसरा सबसे ज्यादा संक्रमित देश:
बता दें कि रूस दुनियाभर में तीसरा ऐसा देश है जहां कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी ज्यादा है. सबसे ज्यादा मामले अमेरिका में दर्ज किए गए हैं उसके बाद ब्राजील और तीसरे स्थान पर रूस है.  

शिकारियों के फंदे का शिकार हुआ पैंथर, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

शिकारियों के फंदे का शिकार हुआ पैंथर, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

अजमेर: प्रदेश में शिकारी अपनी काली कारतूतों को अंजाम देने से बाज नहीं आ रहे हैं. अजमेर के ब्यावर के वन क्षेत्रों में वे फंदा लगा कर पैंथर का शिकार करने का जाल बिछा रहे हैं. ब्यावर क्षेत्र के जंगल में लगाए गए एक ऐसे ही फंदे में पैंथर फंस गया, जिसे वन विभाग की टीम ने रेस्क्यू किया. इस घटना से वन विभाग की मॉनिटरिंग पर सवाल उठ रहे हैं. 

राजस्थान में भी चक्रवात निसर्ग का असर, तेज हवाओं के साथ कई इलाकों में हो रही बारिश 

शिकारी के फंदे बने पैंथर के दुश्मन: 
यह पहला मौका नहीं है, जब कोई पैंथर शिकारी की ओर से बिछाए गए फंदे में फंसा हो. पहले भी इस तरह की घटनाएं सामने आई हैं. वहीं, कई बार वन विभाग के अधिकारियों ने जंगल से कई फंदे भी जब्त किए हैं लेकिन अभी तक शिकारियों को पकड़ने में विभाग को काई सफलता नहीं मिली है. ऐसे में अब विभाग के अधिकारियों को अपनी जांच को तेज कर शिकारियों को पकड़ने की ठोस योजना तैयार करनी होगी. इससे पैंथर का शिकार करने वाले शिकारियों को फंदे में फंसाया जा सके. 

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

राजस्थान में भी चक्रवात निसर्ग का असर, तेज हवाओं के साथ कई इलाकों में हो रही बारिश

राजस्थान में भी चक्रवात निसर्ग का असर, तेज हवाओं के साथ कई इलाकों में हो रही बारिश

जयपुर: चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ महाराष्ट्र से टकरा गया है. लैंडफाल की प्रक्रिया शुरू हो गई है जो अगले तीन घंटे तक चलेगी. वहीं इसका असर प्रदेश के मौसम मौसम पर भी पड़ गया है. राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर शुरू हो गया है. राजधानी के सी स्कीम, बाइस गोदाम, नंदपुरी, टोंक फाटक, सोडाला, मानसरोवर, डीसीएम, अजमेर रोड सहित कई इलाकों में बूंदाबांदी हो रही है. ऐसे में लोगों को गर्मी से कुछ राहत भी मिली है. 

Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र से टकराया चक्रवाती तूफान निसर्ग, 129 साल बाद इतना भयानक तूफान  

अगले तीन दिन भारी बारिश होने की चेतावनी: 
इससे पहले मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के चलते प्रदेश के 12 जिलों में अगले तीन दिन भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की थी. मौसम विभाग (Rajasthan Weather Forecast ) ने प्रदेश में 3 से 5 जून तक अंधड़ के साथ भारी बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी दी है. 

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक 

40—50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलेगी हवा:
मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार तूफान के असर से प्रदेश में अगले तीन दिन करीब बीस जिलों में 40—50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चलने और गुजरात राज्य से सटे प्रदेश के सीमावर्ती 12 जिलों में मेघगर्जन के साथ भारी बारिश होने की आशंका है. 

Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र से टकराया चक्रवाती तूफान निसर्ग, 129 साल बाद इतना भयानक तूफान

Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र से टकराया चक्रवाती तूफान निसर्ग, 129 साल बाद इतना भयानक तूफान

मुंबई: चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ महाराष्ट्र से टकरा गया है. लैंडफाल की प्रक्रिया शुरू हो गई है जो अगले तीन घंटे तक चलेगी.  मुंबई के ब्राद्रा-वर्ली सी लिंक वाले इलाके में भारी बारिश शुरू हो गई है. इसी के चलते सी लिंक पर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है. कई जगह पेड़ गिरने के साथ मकानों की खतें उड़ गई हैं. 100 से 110 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के चलते परेशानी बढ़ना शुरू हो गई है. मौसम विभाग की माने तो ये तूफान करीब 3 घंटे महाराष्ट्र में रहेगा. 

 UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक 

महाराष्ट्र में 129 साल बाद इतना भयानक तूफान आया: 
मौसम विभाग के अनुसार महाराष्ट्र में 129 साल बाद इतना भयानक तूफान आया है. मुंबई के नवी मुंबई इलाके में तेज हवाओं ने काफी नुकसान पहुंचाया है. निसर्ग का सबसे ज्यादा असर रत्नागिरी और अलीबाग में देखने को मिल रहा है. हवाओं के चलते ऐसे लग रहा है कि जैसे पेड़ उखड़ कर उड़ जाएंगे. सुरक्षा एजेंसिया अलर्ट मोड पर हैं. 

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

लोगों के लिए 35 स्कूलों में रहने की व्यवस्था: 
भयानक तूफान के चलते महाराष्ट्र सरकार ने तटीय इलाकों के रहने वाले लोगों के लिए 35 स्कूलों में रहने की व्यवस्था की है. एनडीआरएफ समेत तमाम सुरक्षा एजंसियां अलर्ट मोड पर हैं. एनडीआरएफ समेत तमाम सुरक्षा एजंसियां एलक्ट मोड पर हैं. हेलीकॉप्टर सर्विस को भी तैयार रहने के लिए बोला गया है.
 

जैसलमेर बैंकों के बाहर सोशल डिस्टेंस की उड़ रही धज्जियां, बैंकों के बाहर उमड़ रही है भारी भीड़

जैसलमेर बैंकों के बाहर सोशल डिस्टेंस की उड़ रही धज्जियां, बैंकों के बाहर उमड़ रही है भारी भीड़

जैसलमेर: पूरा विश्व कोरोना वैश्विक महामारी से जूझ रहा है. देश में इसके संक्रमित मरीजों की संख्या कम होने के स्थान पर तेजी से लगातार बढ़ रही है. इसके बावजूद अनलॉक-1 के बाद लोगों ने सामाजिक दूरी को तार-तार कर दिया. इस ओर किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया. बैंकों के सामने सोशल डिस्टेंस का भी पालन नहीं हो रहा है. अधिकांश बैंकों में लोगों का जमावड़ा लगा है. 

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक 

बैंक प्रबंधक भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा: 
कोरोना वायरस के इस दौर में लोग लॉकडाउन चार में छूट मिलने के बाद सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर रहे हैं और बैंक प्रबंधक भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है. यहां पर तो बैंक अधिकारियों की तरफ से सोशल डिस्टेंस का पालन करने के लिए कहा जा रहा है और ना ही लोग इस तरफ ध्यान दे रहे हैं. हाल यह है कि काफी लोग तो मास्क तक नहीं लगाते हैं जबकि लॉक डाउन के दौरान प्रशासन की तरफ से स्पष्ट आदेश दिए गए हैं कि कोई भी व्यक्ति किसी जरूरी काम से घर से बाहर निकलता है तो उसे मास्क लगाना अनिवार्य है. 

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

पुलिस प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहा:
इतना ही नहीं शहर में बैंकों के सामने भीड़ एकत्रित होने के बाद पुलिस प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. जैसलमेर शहर की सभी मुख्य बैंकों के सामने ऐसी भीड़ लगाई जैसे मेले में तमाशा हो रहा हो. खाताधारक सोशल डिस्टेंस के साथ लाइन में खड़े होना मंजूर नहीं कर रहे हैं. जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है. 

Open Covid-19