Live News »

जून माह में 25 हजार किसानों को उपज रहन ऋण योजना से जोड़ने का लक्ष्य, फसल रहन ऋण के लिए 5500 ग्राम सेवा सहकारी समितियां को दी पात्रता

जून माह में 25 हजार किसानों को उपज रहन ऋण योजना से जोड़ने का लक्ष्य, फसल रहन ऋण के लिए 5500 ग्राम सेवा सहकारी समितियां को दी पात्रता

जयपुर: 1 जून से शुरू हो रही उपज रहन ऋण योजना के तहत जून माह में राज्य के 25 हजार किसानों को जोड़कर लाभ प्रदान किया जायेगा. राज्य सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना से किसानों के उपज बेचान से जुड़े हितों की सुरक्षा सम्भव हो सके. उन्होंने कहा कि योजना में पात्र समितियों का दायरा बढ़ाकर इसे 5500 से अधिक किया गया है ताकि अधिक से अधिक किसान लाभान्वित हो सके. 

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

किसान को उसकी उपज का 70 प्रतिशत ऋण मिलेगा:
आज सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव और रजिस्ट्रार नरेश पाल गंगवार पंत कृषि भवन में उपज रहन ऋण योजना, फसली ऋण वितरण एवं अन्य संबंधित बिन्दुओं पर जिलों में पदस्थापित सहकारिता के अधिकारियों एवं व्यवस्थापकों को विडियों काफ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि लघु एवं सीमान्त किसानों को 1.50 लाख रूपये एवं बड़े किसानों को 3 लाख रूपये रहन ऋण के रूप में देने के लिए योजना जारी की है. इसमें किसान को उसकी उपज का 70 प्रतिशत ऋण मिलेगा. किसान बाजार में अच्छे भाव आने पर अपनी फसल को बेच सकता है. यह योजना किसान की तात्कालिक वित्तीय आवश्यकता को पूरी करने तथा कम दामों में फसल बेचने की मजबूरी में मददगार साबित होगी. 

कार्मिकों के लिए आयेगी प्रोत्साहन स्कीम:
प्रमुख सचिव ने कहा कि राजस्थान की यह योजना भारत में सबसे कम ब्याज दर 3 प्रतिशत पर किसान को रहन ऋण देने की विशेष पहल है. जो किसानों एवं समितियों की आय में वृद्धि करेगी. उन्होंने निर्देश दिये कि सहकारी समितियां अपने आस-पास के गोदामों को ध्यान में रखते हुए अधिक से अधिक किसानों को उपज रहन ऋण देकर उनकी तात्कालिक आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करें. योजना में अच्छे कार्य करने वाली समितियों के कार्मिकों के लिए शीघ्र ही एपेक्स बैंक द्वारा प्रोत्साहन स्कीम जारी की जायेगी. 

4.44 लाख मै.टन सरसों एवं चना की हुई खरीद: 
गंगवार ने कहा कि कोविड-19 महामारी में केवीएसएस एवं जीएसएस घोषित गौण मण्डियां बहुत अच्छे से कार्य कर रही है और 427 गौण मण्डियां ओपरेशनल होकर किसानों को अपने खेत के नजदीक ही उपज बेचान की सुविधा दे रही है. उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य पर खरीद में जीएसएस को जोड़ने से किसानों को अपने नजदीकी उपज बेचान की सुविधा मिलने से खरीद कार्य में गति आयी है. जो खरीद पहले 58 दिन में होती थी, आज वह 26 दिन में ही पूरी हो रही है तथा किसानों के खाते में तीन से चार दिन में भुगतान भी हो रहा है. 27 मई तक 1 लाख 76 हजार 434 किसानों से 4 लाख 44 हजार 628 मै.टन सरसों एवं चना की खरीद हो चुकी है, जिसकी राशि 2 हजार 64 करोड़ रूपये है. इसमें से 1 हजार 723 करोड़ रूपये का भुगतान किसानों को हो चुका है. 

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू  

4295 करोड़ रूपये फसली ऋण का हुआ वितरण: 
राज्य के 13 लाख 18 हजार 177 किसानों को 4 हजार 295 करोड़ रूपये का सहकारी फसली ऋण का वितरण हो चुका है. उन्होंने भरतपुर, जैसलमेर, हनुमानगढ़, बारां एवं जालौर जिलों में ऋण वितरण की धीमी गति पर नाराजगी व्यक्त की. उन्होंने कहा कि संबंधित जिले इस कार्य में गति लाये और शीघ्र फसली ऋण वितरण करे. गंगवार ने कहा कि हमारी मंशा है कि ग्राम सेवा सहकारी समिति को किसान की समस्या समाधान एवं सुविधाओं के लिए सिंगल विड़ों के रूप में विकसित किया जाये. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

खेत में फव्वारा लाइन बदलते समय करंट लगने से मां-बेटे की मौत

खेत में फव्वारा लाइन बदलते समय करंट लगने से मां-बेटे की मौत

चूरू: जिले के बूटिया गांव में आज मां-बेटे की खेत में पानी के फव्वारे बदलते समय करंट लगने से मौत हो गई. बताया जा रहा है कि बूटिया गांव का एक किसान परिवार अपने खेत में सिंचाई कर रहा था उसी दौरान जब पानी के फव्वारे की लाइन बदल रहे मां बेटे को करंट लगा और दोनों की मौत हो गई. 

राज्यसभा चुनाव के बाद परवान चढ़ती आरोप-प्रत्यारोप की पॉलिटिक्स, अब मुख्यमंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का आरोप 

ट्रांसफार्मर के अर्थिंग से जमीन में आया करंट: 
खेत में लगे हुए ट्रांसफार्मर के अर्थिंग से जमीन में करंट आना प्रथम दृष्टया कारण माना जा रहा है जिससे फव्वारे की लाइन में भी करंट आया और लाइन बदलते समय यह हादसा हुआ है. सूचना मिलते ही सदर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों के शव राजकीय डीबी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाये, बाद में शवों का पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए हैं अब सदर थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है.

जयपुर: मुख्यमंत्री निवास को बम से उड़ाने की धमकी, पुलिस कंट्रोल रूम में आया फोन 

हवा में उड़ती आफत टिड्डियों को लेकर विभाग अलर्ट, अगस्त में पाकिस्तान के रास्ते देश में एंट्री करेगा करोड़ों टिड्डियों का दल

हवा में उड़ती आफत टिड्डियों को लेकर विभाग अलर्ट, अगस्त में पाकिस्तान के रास्ते देश में एंट्री करेगा करोड़ों टिड्डियों का दल

जैसलमेर: पाकिस्तान के रास्ते भारत आया टिड्डी दल फसलों को काफी नुकसान पहुंचा रहा है. खासतौर पर राजस्थान के कई जिलों में इनका असर सबसे ज्यादा है. कई किलोमीटर लंबे टिड्डी दल राजस्थान के आधा दर्जन से ज्यादा जिलों में बार-बार हमला कर रहे हैं. टिड्डी दल के हमले से अब पाकिस्तान बॉर्डर से लगे राजस्थान के जिलों में किसानों पर आफत आ गई है. अब अगस्त में एक बार फिर पाकिस्तान के रास्ते कारोड़ों टिड्डियों का दल भारत में आ सकता है. राजस्थान कृषि विभाग के अनुसार जुलाई और अगस्त में टिड्डी दल के हमलों में बढ़ोतरी हो सकती है. मानसून का सीजन शुरू हो चुका है, और बारिश में टिड्डियां ज्यादा अंडे देती हैं. 

सांसद दिया कुमारी के नाम से फेसबुक पेज बनाकर अश्लील वीडियो डालने का आरोपी गिरफ्तार 

अब तक 2 लाख हैक्टेयर फसल बर्बाद हो चुकी:  
टिड्डी दलों के हमले से अब तक 2 लाख हैक्टेयर फसल बर्बाद हो चुकी है. राजस्थान के कृषि विशेषज्ञों की मानें तो अब हमले ज्यादा बड़े और लगातार होंगे. इन हमलों से यदि प्रदेश की 10 प्रतिशत फसल भी बर्बाद हुई तो नुकसान का आंकड़ा लगभग 4 हजार करोड़ तक पहुंच सकता है. कृषि विशेषज्ञों एवं अधिकारियों की आशंका और अब तक हुए हमलों को ध्यान में रखते हुए टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए कारगर कदम उठाए जा रहे हैं. केंद्र सरकार ने हेलीकॉप्टर से कीटनाशक स्प्रे कराने का प्रबंध किया है. वहीं राज्य सरकार जमीनी स्तर पर कीटनाशक का स्प्रे कराने के साथ ही अन्य आवश्यक कदम उठा रही है. फायर ब्रिगेड, ड्रोन व ट्रेक्टर का सहारा लेकर इन पर नियंत्रण का प्रयास किया जा रहा है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 234 नये पॉजिटिव केस, एक्टिव केस की संख्या बढ़कर हुई 4 हजार 137 

टिड्डी नष्ट करने के लिये हेलिकॉप्टर की मदद ली गई:
जैसलमेर में टिड्डी नियंत्रण अधिकारी राजेश कुमार व कृषि उपनिदेशक राधेश्याम नारवाल ने बताया कि जैसलमेर जिले में आज  टिड्डी नष्ट करने के लिये हेलिकॉप्टर की मदद ली गई. जैसलमेर जिले के धनाना क्षेत्र में 140 आर.डी क्षेत्र में हेलिकॉप्टर से कीटनाशक का स्प्रे कर 50 से ज्यादा हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण किया गया. इसके साथ ही जिले में रविवार को कुल 351 हेक्टेयर क्षेत्र मे टिड्डी नियंत्रण किया गया जिनमें पोकरण, डेलासर, एकां, अमीरों की बस्ती प्रमुख रूप से शामिल है. उन्होंने बताया कि जैसलमेर में 908 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण की कार्यवाही की गई. जिले के मुल्ताना, फतेहगढ़, बांधा, ओला, सोढ़ाकर पोकरण, दूधिया आदि क्षेत्रों में हेलिकॉप्टर, ड्रोन, व्हीकल माउंटेन स्प्रेयर के जरिए टिड्डी नियंत्रण किया गया. 

सीमा पार से आई टिड्डियों पर 'एयर स्ट्राइक' जारी

सीमा पार से आई टिड्डियों पर 'एयर स्ट्राइक' जारी

जैसलमेर: पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान से आने वाले टिड्डी दलों पर जैसलमेर के सीमावर्ती क्षेत्रों में हेलीकॉप्टर से धावा जारी है. जैसलमेर जिले में टिड्डी नियंत्रण में अब हैलिकॉप्टर की मदद भी ली जा रही है. रविवार को जिले के 140 आरडी क्षेत्र में  हैलिकॉप्टर से कीटनाशक का स्प्रे कर टिड्डी नियंत्रण किया गया. टिड्डियों के पड़ाव की सूचना विभाग को मिलने के बाद किसानों की फसलों व अन्य वनस्पति के लिए आतंक का सबब बने इन अवांछित मेहमानों पर एयर स्ट्राइक की जा रही है.

गैंगस्टर राजू ठेहट को 20 दिन की पैरोल, पुलिस और प्रशासन ने कहा जेल से बाहर आने पर गैंगवार की संभावना

हेलीकॉप्टर में पेस्टिसाइड और जरूरी पानी का बंदोबस्त किया गया: 
जिले में निजी कंपनी के एक हेलीकॉप्टर ने शनिवार सुबह जैसलमेर के पुलिस लाइन मैदान में बने हेलीपैड से उड़ान भरी. इससे पहले वहां हेलीकॉप्टर में पेस्टिसाइड और जरूरी पानी का बंदोबस्त किया गया. टिड्डी नियंत्रण अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि जिले के विभिन्न स्थानों पर कुल 351 हैक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण कार्य किया गया. इसमें अमीरों की बस्ती में 25 हैक्टेयर, 138 से 162 आरडी में 80 हैक्टेयर, डेलासर में 60 हैक्टेयर तथा एका, पोकरण में 150 हैक्टेयर में नियंत्रण किया गया. इसी प्रकार ड्रोन से 36 हैक्टेयर में टिड्डी नियंत्रण किया गया. इनमें डेलासर में 20 हैक्टेयर तथा एका, पोकरण में 16 हैक्टेयर क्षेत्र में ड्रोन से टिड्डी नियंत्रण कार्य को अंजाम दिया गया. 

Rajasthan Weather : राजधानी में बदला मौसम का मिजाज, सावन के पहले सोमवार को बरसे मेघ 

टिड्डी कोरोना की तरह महामारी केंद्र सरकार को गंभीर होने जरूरत : मंत्री शाले मोहम्मद

टिड्डी कोरोना की तरह महामारी केंद्र सरकार को गंभीर होने जरूरत : मंत्री शाले मोहम्मद

जैसलमेर: अल्पसंख्यक मामलात, वक्फ एवं जन अभियोग निराकरण मंत्री शाले मोहम्मद ने ग्रामीणों से कहा है कि सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ पाकर अपनी तकदीर संवारें और गांवों की तस्वीर बदलें. इसके लिए यह जरूरी है कि ग्रामीण पूरी तरह जागरुक रहकर इन योजनाओं की जानकारी पाएं और अपने काम की गतिविधियों से जुड़कर आत्मनिर्भरता पाते हुए खुशहाली लाएं.

Coronavirus Updates: सात लाख के करीब पहुंचा कोरोना के मरीजों का आंकड़ा, दुनिया में तीसरा सबसे प्रभावित देश बना भारत 

ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्यों का अवलोकन किया:  
अल्पसंख्यक मामलात मंत्री ने जैसलमेर जिले के विभिन्न सीमावर्ती और नहरी क्षेत्रों का दौरे में ग्रामीणों को यह बात कही.कैबिनेट मंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्यों का अवलोकन किया और जन सुनवाई करते हुए ग्रामीणों की समस्याओं को सुना तथा इनके समाधान के लिए आश्वासन दिया. उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में महात्मा गांधी नरेगा योजना में समय पर भुगतान के साथ ही जरूरतमन्दों के लिए पर्याप्त काम खोलकर ग्रामीणों को रोजगार मुहैया कराने के निर्देश दिए.

VIDEO: पर्यटन पर 'कोरोना का ग्रहण', राजधानी में सामान्य दिनों में 1 दिन में आने वाले पर्यटक पूरे प्रदेश में 1 महीने में दिखाई दिए 

राज्य सरकार लगातार किसानों से साथ खड़ी:
वहीं मंत्री शाले मोहम्मद ने कहा की कोरोना की तरह टिड्डी भी बहुत बढ़ी आफ़ात है इसको लेकर राज्य सरकार लगातार किसानों से साथ खड़ी है.  किसानों की आवाज केंद्र की तरफ पंहुचा रही है लेकिन केंद्र सरकार को राजस्थान में और संसाधन जुटाने की आवश्यकता है ताकि यह टिड्डी कंट्रोल यही किया जाए ताकि भारत वर्ष में यह टिड्डी न फैले. वहीं उन्होंने कहा की केंद्र के मंत्री केवल आरोप लगाते है करते कुछ नहीं, इसलिए कुछ काम करे. 

पाकिस्तान से आने वाली टिड्डी पर होगी एयर स्ट्राइक, सीमा पर तैनात किया हेलीकॉप्टर

पाकिस्तान से आने वाली टिड्डी पर होगी एयर स्ट्राइक, सीमा पर तैनात किया हेलीकॉप्टर

जैसलमेर: पिछले साल राजस्थान ही नहीं बल्कि कई राज्यों में तबाही की स्याह दास्तां लिखने के बाद पिछले करीब दो माह में पाकिस्तान से टिड्डियों के लाखों की तादाद में आए झुंड भारत मे घुस कर एक दर्जन राज्यों में फसलों को बर्बाद करने में लगे हैं. इनके आंतक के खात्मे के लिए सरकार अब जमीन के बजाए आसमान से करने जा रही है. किसानों पर कहर बरपा रहे हवाई आतंक पर अब एयर स्ट्राइक के जरिए ही काबू पाने की तैयारी है. टिड्डियों पर अब हेलिकॉप्टर के जरिए कीटनाशक का छिड़काव किया जाएगा. टिड्डियों के खात्मे के लिए माउटेंड स्प्रेयर ट्रैक्टर, ड्रोन के बाद अब हेलीकॉप्टर की मदद ली जा रही है. इसके केहर आज एक हेलीकॉप्टर जैसलमेर पुलिस लाइन मैदान हेलीपेड पर उतरा जैसलमेर के सीमावर्ती क्षेत्रों में हेलीकाप्टर से छिड़काव किया. 

VIDEO: जयपुर एयरपोर्ट पर सोने की बड़ी तस्करी का खुलासा, 3 फ्लाइट से अब तक 32.5 किलो सोना पकड़ा 

60 दिन में इसकी 100 घंटे की उड़ान अनिवार्य:  
निजी हेलिकॉप्टर एक बार में महज 250 लीटर कीटनाशक का स्प्रे सिर्फ 50 हेक्टेयर क्षेत्र में ही कर सकता है. इसमें पायलट के नीचे दोनों तरफ स्प्रे करने की सुविधा है. कंपनी से हुए करार के तहत 60 दिन में इसकी 100 घंटे की उड़ान अनिवार्य है. इससे पहले एक हेलिकॉप्टर बाड़मेर के उत्तरलाई एयरबेस पर तैनात है. वहीं आज जैसलमेर में हेलीकाप्टर को तैनात किया गया है. जरूरत के आधार पर इसे बाड़मेर के साथ ही जैसलमेर, जोधपुर, बीकानेर और नागौर जिलों में टिड्‌डी नियंत्रण के लिए काम में लिया जाएगा.

Corona Update:  देश में पहली बार एक दिन में आए 22 हजार से ज्यादा नए केस, 442 लोगों की मौत 

40 मिनट में 750 हेक्टेयर क्षेत्र में 800 लीटर कीटनाशक का छिड़काव: 
वहीं दूसरी तरफ टिडि्डयों के सफाया के लिए अब इंडियन एयरफोर्स मदद के लिए आगे आया है. एयरफोर्स ने अपने तीन एमआई-17 हेलिकॉप्टरों को मॉडिफाइड कर टिड्‌डी पर स्प्रे करने को तैयार कर दिया है. ये हेलिकॉप्टार महज 40 मिनट में 750 हेक्टेयर क्षेत्र में 800 लीटर कीटनाशक का छिड़काव कर देगा. इन तीन में से एक हेलिकॉप्टर को जोधपुर एयरबेस पर तैनात किया जाएगा. यहां टिड्‌डी दलों के भारतीय सीमा में प्रवेश करते ही ये हेलिकॉप्टर हमला करने को उड़ान भरेगा. आज शाम तक जैसलमेर पहुंच जायेंगे.  

ऋणी किसानों के लिए फसल बीमा योजना स्वैच्छिक

ऋणी किसानों के लिए फसल बीमा योजना स्वैच्छिक

जयपुर: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ-2020 में ऋणी काश्तकारों के लिए भी स्वैच्छिक रहेगी. फसल बीमा से अलग रहने के इच्छुक ऋणी किसान को आगामी 8 जुलाई तक संबंधित बैंक शाखा में आवेदन करना होगा. कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बताया कि फसल बीमा योजना में खरीफ-2020 से केन्द्र सरकार की ओर से कई बदलाव किए गए हैं. 

मारवाड़ जंक्शन में पकड़े गये 49 जुआरी, 35 लाख से अधिक की राशि के साथ 13 से अधिक लग्जरी गाड़ियां जब्त 

किसानों के लिए फसल बीमा स्वैच्छिक किया गया: 
इसके तहत वित्तीय संस्थान से फसली ऋण लेने वाले किसानों के लिए फसल बीमा स्वैच्छिक किया गया है. फसली ऋण लेने वाले किसानों को 8 जुलाई तक संबंधित बैंक में जाकर फसल बीमा से पृथक रखने के लिए निर्धारित प्रपत्र में लिखित में आवेदन करना होगा. आवेदन पत्र बैंक शाखाओं में उपलब्ध है. कटारिया ने बताया कि केन्द्र सरकार ने किसानों के लिए फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 15 जुलाई निर्धारित की है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 9 मौत, 127 नये पॉजिटिव केस आए सामने 

टिड्डी दलों ने चट की कपास और मूंगफली की पूरी फसल, किसानों ने जमीन पर लेटकर जताया विरोध, मुआवजे की मांग की

टिड्डी दलों ने चट की कपास और मूंगफली की पूरी फसल, किसानों ने जमीन पर लेटकर जताया विरोध, मुआवजे की मांग की

सरदारशहर: सरदारशहर तहसील में पिछले एक हफ्ते में बड़ी संख्या में आये टिड्डी दलों ने नरमा, कपास और मूंगफली की फसलों को पूरी तरह चट कर दिया है. जिसके चलते मानो किसानों की कमर टूट गई हो. टिड्डी दल के आने की पहले से सूचना होने के बावजूद भी प्रशासन की ओर से इनको रोकने की किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं की गई, जिससे किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है. इसी कड़ी में अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में शुक्रवार को बड़ी संख्या में किसान एसडीएम ऑफिस पहुंचे. 

हिंडौन सिटी में व्यापारी पुत्र की हत्या के पांच में से एक आरोपी युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर की आत्महत्या

किसानों ने जताया विरोध:
आक्रोशित किसान उपखंड अधिकारी कार्यालय में जमीन पर लेट गए और अपना विरोध प्रकट किया. किसानों ने उपखंड अधिकारी रीना छिंपा को ज्ञापन सौंपकर टीडी दल से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा दिलवाने और लगातार आ रहे टीडी दल पर नियंत्रण करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा. अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने बताया की बड़ी संख्या में आ रहे टीडी दल को मारने के लिए ट्रैक्टर या यहां पर उपलब्ध उपकरण निष्क्रिय साबित हो रहे हैं अगर इन टिड्डी दलो को मारना है तो हेलीकॉप्टर या हवाई जहाज के जरिए इनको मारा जा सकता है इसलिए सरकार को जल्द से जल्द हवाई मार्ग से इन टिड्डी दलों को नष्ट करना चाहिए.

पहले मौसम की मार से तबाह हुई थी फसलें:
किसानों ने बताया कि किसान पहले से दुखी है पहले बिन मौसम हुई ओलावृष्टि और फिर कोरोना के चलते मजदूर नहीं मिलने से किसानों को भारी नुकसान हुआ और फिर जब किसानों की फसल पक चुकी थी उस समय बिन मौसम हुई बारिश ने भी किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है और अब टिड्डी दलों ने किसानों की नरमे कपास और मूंगफली की फसल को 100 प्रतिशत नष्ट कर दिया है. गौरतलब है कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में किसानों ने अपने अन्य के भंडार खोल दिए थे जिससे राज्य सरकार व केंद्र सरकार को बहुत बड़ा संबल प्राप्त हुआ था लेकिन अब किसानों पर टिड्डी रूपी महा संकट आ खड़ा हुआ है जिस की ओर सरकार को ध्यान देना चाहिए जिससे किसान आगे आने वाली सावनी की फसल को बुवाई कर सके.

दिल्ली में कोरोना के कहर पर सीएम केजरीवाल बोले, 74 हजार में से 45 हजार लोग हुए ठीक, रोजाना 3 गुना बढ़े टेस्ट

करौली जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा चलाया जा रहा अभियान

करौली जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा चलाया जा रहा अभियान

करौली: जिले में टिड्डी पर नियंत्रण के लिए कृषि विभाग द्वारा अभियान चलाया जा रहा है. अभियान के तहत देर रात सपोटरा तहसील के गोविंदपुरा व सलेमपुर क्षेत्र में पेड़, झाड़ीयों व अन्य स्थानों पर दमकल की मदद से दवा का स्प्रे किया गया. जिससे क्षेत्र में 90% से अधिक टिड्डी खत्म हो गई. अभियान के दौरान कृषि उपनिदेशक रामलाल जाट सहित कृषि विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद रहे. 

जयपुर के मुहाना थाना इलाके में एटीएम लूट से मचा हड़कंप, करीब 20 लाख रुपए बताए जा रहे ATM मशीन में 

किसानों को ध्वनि यंत्र बजाकर भगाने की सलाह दी जा रही:
कृषि उपनिदेशक बीडी शर्मा ने बताया कि जिले में टिड्डी के प्रकोप से निपटने के लिए रणनीति बनाकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है. अभियान के तहत दमकल, ट्रैक्टर व अन्य उपकरणों के माध्यम से उनके विश्राम स्थल पर दवाओं का छिड़काव किया जा रहा है. साथ ही दिन में किसानों को ध्वनि यंत्र बजाकर भगाने की सलाह दी जा रही है. जिसके चलते जिले में टिड्डी द्वारा फसल और पेड़ों को नुकसान ना के बराबर हुआ है. देर रात गोविंदपुरा सलेमपुर क्षेत्र में चलाए गए अभियान के दौरान 2 किलोमीटर सर्किल क्षेत्र में दवाओं का छिड़काव कर टिड्डियों को खत्म किया गया. दवाओं के छिड़काव के कारण क्षेत्र में जमीन पर टिड्डियों की चादर सी बिछ गई. 

राजस्थान में आज 67 नए पॉजिटिव केस आए, कोरोना के खिलाफ प्रदेश में 10 दिवसीय जागरुकता अभियान शुरू 

Open Covid-19