हैदराबाद तेलंगाना हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने स्वच्छता, पर्यावरण की रक्षा की आवश्यकता पर दिया बल , कहा- हाथ जोड़कर करता हूं विनती, अपने शहर को बनाए स्वच्छ

तेलंगाना हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने स्वच्छता, पर्यावरण की रक्षा की आवश्यकता पर दिया बल , कहा- हाथ जोड़कर करता हूं विनती, अपने शहर को बनाए स्वच्छ

तेलंगाना हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने स्वच्छता, पर्यावरण की रक्षा की आवश्यकता पर दिया बल , कहा-  हाथ जोड़कर करता हूं विनती, अपने शहर को बनाए स्वच्छ

हैदराबाद: तेलंगाना हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सतीश चंद्र शर्मा ने शहर में स्वच्छता और पर्यावरण की रक्षा की आवश्यकता पर बल दिया.न्यायमूर्ति शर्मा ने रविवार को यहां एक समारोह में कहा कि उन्हें यह जानकर हैरानी हुई कि तेलंगाना उच्च न्यायालय के पास बह रहा जलाशय नाला नहीं, बल्कि मूसी नदी है. न्यायमूर्ति शर्मा ने कहा, ‘‘जब मैं उच्च न्यायालय आ रहा था, तो मैंने पूछा कि उच्च न्यायालय के पास एक नाला क्यों है... मैंने इन्हीं शब्दों का इस्तेमाल किया था. (इसके बाद) मुझे बताया गया कि नहीं श्रीमान, यह नाला नहीं है... यह मूसी नदी है, मैं स्तब्ध रह गया. 

हाथ जोड़ कर शहर को साफ रखने की अपील की:
उन्होंने कहा कि इसलिए, मैं हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि कृपया अपने शहर को स्वच्छ बनाएं और पर्यावरण की रक्षा के लिए आवश्यक हर संभव कदम उठाएं. न्यायमूर्ति शर्मा ने कहा कि जब वह हैदराबाद आ रहे थे, तब उन्हें बताया गया था कि हैदराबाद में एक बहुत खूबसूरत झील (ऐतिहासिक) हुसैन सागर है. उन्होंने कहा कि मैं जब हुसैन सागर देखने गया, तो मेरा भरोसा कीजिए, मैं वहां पांच मिनट भी रुक नहीं पाया, हमने अपने पर्यावरण का यह हाल कर दिया है. न्यायमूर्ति शर्मा ने 11 अक्टूबर को तेलंगाना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर शपथ ग्रहण की थी. सोर्स-भाषा
 

और पढ़ें