नई दिल्ली राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू बोलीं- तेमसुला ने पूर्वोत्तर की सांस्कृति धरोहर को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू बोलीं- तेमसुला ने पूर्वोत्तर की सांस्कृति धरोहर को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू बोलीं- तेमसुला ने पूर्वोत्तर की सांस्कृति धरोहर को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी

नई दिल्ली: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने साहित्यकार डॉ. तेमसुला आओ के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए सोमवार को कहा कि उन्होंने पूर्वोत्तर की संस्‍कृति को अपनी साहित्यिक कृतियों के जरिये प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी .

राष्ट्रपति भवन ने मुर्मू के हवाले से ट्वीट किया कि डॉ. तेमसुला आओ के निधन से हमने एक शानदार लेखिका एवं मानव जाति विज्ञानविद् को खो दिया जिन्होंने महिला सशक्तिकरण में बहुमूल्य भूमिका निभायी थी . 

राष्ट्रपति ने कहा कि पद्मश्री से सम्मानित डा. आओ ने पूर्वोत्तर की समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर को प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी . ज्ञात हो कि साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त ओओ को साहित्य के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान के लिए ‘‘पद्मश्री’’ से भी सम्मानित किया जा चुका है. वह 76 वर्ष की थीं. सोर्स- भाषा

और पढ़ें