नई दिल्ली  सीरम इंस्टीट्यूट के CEO को खतरे की आशंका, केंद्र ने Y श्रेणी सुरक्षा दी; कोवीशील्ड की कीमत को लेकर विवादों में आए थे पूनावाला 

 सीरम इंस्टीट्यूट के CEO को खतरे की आशंका, केंद्र ने Y श्रेणी सुरक्षा दी; कोवीशील्ड की कीमत को लेकर विवादों में आए थे पूनावाला 

 सीरम इंस्टीट्यूट के CEO को खतरे की आशंका, केंद्र ने Y श्रेणी सुरक्षा दी; कोवीशील्ड की कीमत को लेकर विवादों में आए थे पूनावाला 

नई दिल्ली: कोविशिल्ड (Covishield) को लेकर विवदों में आए इंस्टीट्यूट (Serum Institute) के प्रमुख को केंद्र सरकार (Central Government) ने Y कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान की है. केंद्र सरकार के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी है. बताया गया है कि पूनावाला को खतरे की आशंका को देखते हुए उन्हें सिक्योरिटी दी गई है. अब सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) के 4-5 कमांडोज के साथ 11 सुरक्षाकर्मी हर वक्त पूनावाला के साथ रहेंगे। यह सिक्योरिटी कवर उन्हें पूरे देश में मिलेगा।

कोवीशील्ड के रेट को लेकर आए थे विवादों में:
SII (Serum Institute of India) के डायरेक्टर (Government and Regulatory Affairs) प्रकाश कुमार सिंह (Prakash Kumar Singh) ने 16 अप्रैल को गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखी थी. इसमें पूनावाला को सिक्योरिटी देने की अपील की गई थी. सीरम इंस्टीट्यूट कोरोना की वैक्सीन (कोवीशील्ड) बना रहा है. हाल ही में वैक्सीन की कीमत को लेकर इंस्टीट्यूट विवादों में आ गया था. इसने राज्यो को कोवीशील्ड 400 रुपए में देने का ऐलान किया था, जबकि केंद्र सरकार के लिए कीमत 150 रुपए ही रखी गई.

विपक्षी नेताओं ने बनाया था किमतों को लेकर माहौल:
कई विपक्षी नेताओं ने इसे मुद्दा बनाया और सोशल मीडिया (Social Media) पर भी वन वैक्सीन वन प्राइस ट्रेंड (Vaccine One Price Trend) होने लगा था. इसके बाद बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट ने राज्यों के लिए वैक्सीन की कीमत 25% घटाकर 300 रुपए करने ऐलान कर दिया.

केंद्रीय सुरक्षा के स्तर को ऐसे समझें:
केंद्र सरकार से मिलने वाली सुरक्षा 6 स्तरों पर दी जाती है, यानी X, Y, Y+, Z और Z+ और SPG (Special Protection Group) कैटेगरी की सुरक्षा.

SPG: ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च और डेवलपमेंट की रिपोर्ट के अनुसार एसपीजी सिर्फ प्रधानमंत्री एवं अन्य वीआईपी को सुरक्षा देती है.

X: दो PSO (Protective Service Officer) 24 घंटे सुरक्षा करते हैं. इसका मतलब है कि आठ-आठ घंटे की शिफ्ट में कुल छह PSO तैनात होते हैं.

Y: दो PSO और एक सशस्त्र गार्ड चौबीस घंटे सुरक्षा देता है. कुल 11 सुरक्षाकर्मी होते हैं. पांच स्टेटिक ड्यूटी (Static Duty) पर और 6 व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए.

Y+: इसमें भी Y कैटेगरी की सुरक्षा दी जाती है. इसमें 11 से 22 PSO तैनात होतें है. अधिकारियों के मुताबिक कंगना के PSO के लिए एक एस्कॉर्ट वाहन (Escort Vehicle) दिया जाएगा.

Z: 22 सुरक्षाकर्मी होते हैं इसमें 2 से 8 सशस्त्र गार्ड (Armed Guard) घर पर होते हैं. दो PSO चौबीस घंटे रहते हैं. सड़क यात्रा पर एक से तीन सशस्त्र जवान एस्कॉर्ट में होते हैं.

Z+: Z कैटगरी की सुरक्षा के अलावा इस कैटेगरी में एक बुलेट प्रूफ कार (Bullet Proof Car), तीन शिफ्ट में एस्कॉर्ट और आवश्यकता पड़ने पर अतिरिक्त सुरक्षा मिलती है.

और पढ़ें