VIDEO: परिवहन विभाग की बड़ी पहल, एम्नेस्टी स्कीम में ट्रांसपोर्टर्स को मिलेगा फायदा

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/16 04:01

जयपुर (काशीराम चौधरी)। परिवहन विभाग ने ट्रांसपोर्टर्स के लिए पिछले सप्ताह एक बड़ी राहत दी है। टोल नाकों के सीसीटीवी फुटेज और खान विभाग द्वारा जारी ई-रवन्ना के अनुसार ओवरलोड वाहनों के चालानों के निस्तारण का सरल उपाय निकाला गया है। इस एम्नेस्टी योजना से ट्रांसपोर्टर्स लाभान्वित होंगे। क्या मिलेगा इसका फायदा, कब तक मिलेगी राहत, क्या सभी ट्रांसपोर्टर्स को होगा लाभ और परिवहन विभाग के खाते में कितना मिलेगा राजस्व, खुलासा करती फर्स्ट इंडिया न्यूज की विशेष रिपोर्ट-

लम्बे समय से ट्रांसपोर्टर्स टोल नाकों से या ई-रवन्ना के जरिए भेजे गए चालानों से परेशान हैं। दरअसल परिवहन विभाग के उड़नदस्ते तो सड़कों पर ओवरलोड वाहनों पर कार्रवाई करते ही हैं, साथ ही ऐसे वाहन जो उड़नदस्तों की नजरों से बच निकलते हैं, उनके लिए परिवहन विभाग ने नई व्यवस्था की है। इसके तहत ऐसे वाहनों के चालान टोल प्लाजा के सीसीटीवी कैमराें पर लगे कांटों से प्राप्त आंकड़ों और खान विभाग द्वारा जारी ई-रवन्ना में दर्ज वजन के आधार पर किए जा रहे हैं। इन चालानों से पिछले कई महीनों से ट्रांसपोर्टर्स में रोष व्याप्त है। ट्रांसपोर्टर्स का कहना है कि जब उड़नदस्ते ही चालान कर रहे हैं, तो अलग से टोल नाकों के सीसीटीवी फुटेज या खान विभाग के ई-रवन्ना के चालान का क्या मतलब है। लेकिन वाहनों को सीज किए जाने के डर से ट्रांसपोर्टर्स को ये चालान कम्पाउंड भी करवाने पड़ रहे हैं। मार्च माह में राजस्व लक्ष्य को पूरा करने के उद्देश्य से और ट्रांसपोर्टर्स को राहत देने के उद्देश्य से परिवहन विभाग ने एमनेस्टी स्कीम लागू की है। इसके आदेश परिवहन विभाग ने पिछले सप्ताह जारी कर दिए हैं।

क्या है ट्रांसपोर्टर्स के लिए एम्नेस्टी योजना ?
- 31 दिसंबर 2018 तक के बने चालानों को लेकर एम्नेस्टी योजना
- 18.7 टन तक के भार वाले वाहनों के लिए-
- 1 माह में 3 बार तक के चालान पर 6000 रुपए में निस्तारण
- और 3 से ज्यादा बार चालान पर 9000 रुपए जमा करवा कर निस्तारण
- 18.5 टन से ज्यादा भार वाले वाहनों के लिए-
- 1 माह में 3 बार तक के चालान पर 10 हजार रुपए और
- 3 से ज्यादा चालान पर 15 हजार रुपए जमा करवा कर निस्तारण
- ई-रवन्ना और टोल नाकों से 20 हजार से 70 हजार रुपए तक के चालान बनाए थे
- इस योजना में अधिकतम 15 हजार रुपए में हो रहा निस्तारण
- परिवहन आयुक्त राजेश यादव ने की ट्रांसपोर्टर्स के लिए पहल

परिवहन विभाग को इस योजना से उम्मीद है कि बड़ी संख्या में वाहन चालक अपने चालानों को कम्पाउंड करवा लेंगे। इसके प्रचार-प्रसार के लिए ट्रांसपोर्टर्स के निवास के पतों पर चालान और निस्तारण की स्कीम के कागज भेजे जा रहे हैं। व्यक्तिगत डाक से भेजने के अलावा पोस्टर-बैनर अन्य माध्यमों से भी प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। परिवहन विभाग ने कहा है कि इस योजना में छूट उन्हीं ट्रांसपोर्टर्स को मिलेगी, जो 31 मार्च तक अपने चालान कम्पाउंड करवा लेंगे। इसके बाद एम्नेस्टी योजना लागू नहीं होगी। परिवहन विभाग के अधिकारियों ने इसके लिए जयपुर में ट्रांसपोर्ट नगर, अजमेर रोड और वीकेआई एरिया में 3 कैश काउंटर और झालाना, जगतपुरा व विद्याधर नगर कार्यालयों में भी अतिरिक्त काउंटर लगाए हैं।

जयपुर में कितने वाहनों के चालान ?
- टोल नाकों के सीसीटीवी के आधार पर 4678 वाहनों के चालान
- ई-रवन्ना के आधार पर 9200 वाहनों के चालान
- एम्नेस्टी स्कीम में 31 मार्च तक करवा सकते हैं कम्पाउंड
- इसके बाद पूरी चालान राशि भरनी होगी ट्रांसपोर्टर्स को
- परिवहन विभाग को उम्मीद, इनमें से 3000 से ज्यादा चालान होंगे कम्पाउंड
- 3 से 5 करोड़ रुपए के राजस्व अर्जन की है उम्मीद

राजस्व लक्ष्य को लेकर परिवहन विभाग ने इस महीने सभी अवकाश भी रद्द कर दिए हैं। शनिवार और रविवार के अवकाश के दिनों में आरटीओ के कर्मचारी टैक्स वसूली और चालान कम्पाउंड करने के कार्यों में व्यस्त रहेंगे। हालांकि होली और धूलंडी के अवकाश के दिन छूट दी गई है। कुलमिलाकर इस माह परिवहन विभाग केवल राजस्व अर्जन को लेकर ही व्यस्त रहेगा। देखना होगा कि इस योजना से परिवहन विभाग की उम्मीदें कितनी पूरी हो पाती हैं।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in