साइकिल चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचा था बच्चा, पुलिसवालों ने ऐसे जीता लोगो का दिल

साइकिल चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचा था बच्चा, पुलिसवालों ने ऐसे जीता लोगो का दिल

साइकिल चोरी की शिकायत लेकर थाने पहुंचा था बच्चा, पुलिसवालों ने ऐसे जीता लोगो का दिल

तिरुवनंतपुरम: कहते है कि जब किसी का दिल जितना हो तो व्यक्ति कुछ भी रने का तैयार रहता है और एक बार जिता हुआ दिल उम्र भर तक याद रहता है. ऐसा ही एक मामला सामने आया केरल में जहां पुलिकर्मियों ने एक छोटे से बच्चे की गुम हुई साइकिल के बदले उसे नई साइकिल दिलवा दी.

बच्चे की साइकिल हो गई थी चोरी:
केरल के कुछ पुलिसवालों ने लोगों को दिल जीत लिया है. दरअसल उन्होंने एक मासूम बच्चे को साइकिल गिफ्ट की. पता है क्यों? क्योंकि बच्चे की साइकिल चोरी हो गई थी. याद करो वो दिन जब बचपन में साइकिल ही जिंदगी हुआ करती थी. इस स्कूलबॉय के साथ भी कुछ ऐसा ही था. इंडिया टाइम्स की खबर के अनुसार पुलिसकर्मी ने ऐसा तब किया जब स्कूल में पढ़ने वाला ये बच्चा पुलिस स्टेशन गया और उसने शिकायत की कि उसकी नई साइकिल चोरी हो गई है.

फेसबुक पर इस स्टोरी को मिल चुके है 12 हजार से ज्यादा शेयर:
फेसबुक पर ये स्टोरी Latheef Attappadi ने शेयर की है. वो पलक्कड के रहने वाले हैं. पेशे से वो एक दुकानदार हैं. न्यूज लिखे जाने तक उनके द्वारा शेयर की गई इस स्टोरी को 12 हजार से ज्यादा तो शेयर मिल चुके थे. उन्होने अपनी पोस्ट में लिखा कि शोलेयूर पुलिस लिमिट में थर्ड ग्रेडर ने पड़ोस के घर में नई साइकिल चलाने के लिए छोटे से दिल की इच्छा से ले लिया है. फिर चोरी के अपराध के रूप में शोलेयूर थाने में शिकायत दर्ज की गई. पुलिस ने शिकायत का निपटारा कर शिकायतकर्ताओं को साइकिल लौटा दी.
लेकिन शोलेयूर स्टेशन हाउस ऑफिसर श्री विनोद कृष्ण ने साइकिल लेने वाले बच्चे की मानसिक स्थिति को समझा, उन्होंने गोलिक्कादव में मेरी दुकान पर आकर नई साइकिल खरीदकर बच्चे को देने का फैसला किया. उनसे बात की तो उनकी अच्छाई और अनुभव समझ आया. जब पढ़ाई के दिनों में साइकिल नहीं थी तो वन्नेरी हाई स्कूल के सामने दुकान से किराए पर ले कर कार चला दी. उन्होंने बचपन में बिना साइकिल के ऐसी एक कहानी भी शेयर की थी. 

अभाव का अनुभव सभी के लिए एक समान है:
मैंने उसे एक साइकिल दी और निवेदन किया कि बच्चे को जबरदस्ती दे दो. हमसे जो भी शिकायतें हो. हमें गर्व है कि हमारे अभिभावक के रूप में इस तरह के अच्छे पुलिस अधिकारी हैं. कल उस बच्चे को मनचाहा साइकिल सौंपने पर पिल्ला के मन की खुशी का जिम्मेदार शोलेयूर थाने की सी विनोद कृष्ण और उनके सहयोगियों को बड़ा सलाम है.

बच्चे के लिए कुछ करने की सोची:
इस पोस्ट के अनुसार शोलेयूर पुलिस स्टेशन वालों को जब ये पूरा सीन समझ आया तो उन्होंने बच्चे के लिए कुछ ऐसा करने की सोची जिससे उसे खुशी मिले. वो काफी दुखी था. बच्चा पुलिस स्टेशन में साइकिल चोरी की शिकायत करने ही चला गया था. उन्होंने बच्चे के साइकिल के प्रति प्रेम को देखा. उसके दुख को समझा तो जाकर उसे नई साइकिल गिफ्ट करने की सोची.

बच्चे की इच्छा थी:
लतीफ ने लिखा कि इस बच्चे की साइकिल की इच्छा ने ही उसे नई साइकिल दिलवाई. यहां तक कि पड़ोसी ने बच्चे के साथ जाकर पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत भी दर्ज करवाई. जानकारी के लिए बता दें कि बच्चे ने साइकिल को अपने घर के बाहर ही खड़ा किया था. वहीं से साइकिल चोरी हो गई थी.

पुलिसवाले के दिल पे लगी बात:
विनोद कृष्णा जो कि स्टेशन हाउस ऑफिसर हैं उन्हें इस घटना ने बड़ा प्रभावित किया है. उन्होंने तुरंत ही बच्चे के लिए नई साइकिल लेने का निर्णय लिया. लतीफ ने बताया कि पुलिसकर्मी बच्चे की बात सुन रहे थे. विनोद जी और उनके दोस्तों ने मिलकर बच्चे को नई साइकिल गिफ्ट. इसके बाद बच्चा काफी खुश हुआ. फिलहाल साइकिल चोर की तलाश जारी है.

और पढ़ें