close ads


सोमवार से खुलेगी प्रदेश में अदालतें, हाईकोर्ट में रेगुलर सुनवाई के लिए रोस्टर भी जारी हुआ, सुनवाई के समय में भी किया गया बदलाव

सोमवार से खुलेगी प्रदेश में अदालतें, हाईकोर्ट में रेगुलर सुनवाई के लिए रोस्टर भी जारी हुआ, सुनवाई के समय में भी किया गया बदलाव

जयपुर: कोरोना महामारी के चलते 22 मार्च से के बाद सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट सहित प्रदेशभर की अदालतों में रेगुलर अदालतें शुरू होगी.राजस्थान हाईकोर्ट में लॉकडाउन और 15 जून से दो सप्ताह के ग्रीष्मावकाश के बाद सोमवार से नियमित कामकाज शुरू होगा. हाईकोर्ट में सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक न्यायिक काम होगा इस बीच दोपहर 1 बजे एक घंटे का मध्यांतर होगा. राजस्थान हाईकोर्ट ने कोरोना के चलते 22 मार्च से ही अति आवश्यक प्रकरणों की सुनवाई करते हुए सिर्फ वीडियो कॉलिंग के जरिए ही सुनवाई तय की थी.

ग्रीष्मावकाश के बाद शुरू होगी सुनवाई:
ग्रीष्मावकाश के बाद सोमवार से शुरू हो रही सुनवाई में मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति हाईकोर्ट जयपुर पीठ में सुनवाई करेंगे.जयपुर में दो खंडपीठ और आठ एकलपीठ का गठन किया गया है.सभी न्यायालय में एक सौ मामले सूचीबद्ध होंगे, जिसमें नए, अत्यावश्यक तथा कोर्ट तिथि के मामले शामिल रहेंगे. अन्य मामले परस्पर पक्षकारों की सहमति से सूचीबद्ध हो सकेंगे. समान प्रकृति के मामलों को एक प्रकरण माना जाएगा. कोर्ट रूम के आकार के हिसाब से परस्पर दूरी सुनिश्चित करते हुए कुर्सियां लगाई जाएंगी. खाली कोर्ट रूम में सीमित संख्या में उचित दूरी के साथ अधिवक्ता बैठ सकेंगे.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर प्रकरण: सीबीआई का सबसे बड़ा दावा, कहा-फेक नहीं था एनकाउंटर 

सुनवाई के दोनों माध्यम:
अभी तक न्यायालय केवल वीडियोकालिंग के जरिए मामलों की सुनवाई कर रहा था लेकिन अब सुनवाई के दोनों माध्यम रहेंगे. अधिवक्ता व्यक्तिगत उपस्थिति भी दे सकेंगे और वीडियो कांफ्रेंसिंग से भी अपनी दलीलें दे सकेंगे. वीडियो कांफ्रेंसिंग से केवल उन्हीं मामलों की सुनवाई होगी, जिनमें मामले नए होंगे या सभी अधिवक्ता वीसी से उपस्थिति दे सकते हों। नए मामले व्यक्तिगत या ई-फाइलिंग के माध्यम से पेश किए जा सकेंगे.

मास्क पहनना अनिवार्य:
राजस्थान हाईकोर्ट में अब अधिवक्ताओं के साथ ही सभी पक्षकारों और स्टाफ को मास्क पहनना अनिवार्य होगा.इसके साथ ही हाईकोर्ट प्रशासन ने दस्ताने पहनने की भी सलाह दी गई है। अधिवक्ताओं को कोर्ट गाउन और कोट पहनना वैकल्पिक होगा. फिलहाल लॉ इंटर्न्स का कोर्ट परिसर में प्रवेश वर्जित रहेगा. सरकार की गाइडलाइन के अनुसरण में 65 वर्ष से अधिक उम्र के अधिवक्ताओं को व्यक्तिगत उपस्थिति से बचने की सलाह दी गई है, जिसके चलते हाईकोर्ट ने वीडियो कॉलिंग के जरिए भी सुनवाई की व्यवस्था को रखा है.

सिर्फ ई पास से मिलेगा अधिवक्ताओं को प्रवेश:
राजस्थान हाईकोर्ट में प्रवेश के लिए अब अधिवक्ताओं को ई पास लेना होगा.हाईकोर्ट की वेबसाईट से अधिवक्ता खुद ही पास के लिए आवेदन कर सकते है.जिन अधिवक्ताओं के केस सूचीबद्ध होंगे उन्ही अधिवक्ताओं के ई प्रवेश पास जारी किये जायेगे इसके साथ ही प्रवेश द्वार पर सभी अधिवक्ताओं, स्टाफ तथा अन्य पक्षकारों को थर्मल स्केनिंग के बाद प्रवेश दिया जाएगा.

COVID-19: दुनियाभर में एक करोड़ के पार पहुंची कोरोना संक्रम‍ितों की तादाद, अब तक 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत  

और पढ़ें