सोनीपत प्रदर्शन के लिए गए किसानों को पुलिस ने रोका, राजमार्ग के एक हिस्से को खोलने की मांग

प्रदर्शन के लिए गए किसानों को पुलिस ने रोका, राजमार्ग के एक हिस्से को खोलने की मांग

प्रदर्शन के लिए गए किसानों को पुलिस ने रोका, राजमार्ग के एक हिस्से को खोलने की मांग

सोनीपत: दिल्ली के सिंघू बॉर्डर के पास के गांवों के लोगों ने राजमार्ग के एक हिस्से को खोलने की मांग को लेकर बुधवार को किसानों के प्रदर्शन स्थल पर जाने के लिए मार्च किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया. केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले साल नवंबर से ही दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. ग्रामीणों ने राजीव गांधी एजुकेशन सिटी से सिंघू बॉर्डर तक मार्च करना शुरू किया लेकिन पुलिस ने उन्हें कुछ दूरी के बाद रोक दिया. पुलिस ने कहा कि कानून-व्यवस्था के मद्देनजर उन्हें अनुमति देने से इनकार कर दिया गया.

प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़क के कम से कम एक हिस्से को खोल दिया जाए:
प्रदर्शन मार्च में शामिल एक स्थानीय निवासी ने संवाददाताओं से कहा कि किसानों के विरोध प्रदर्शन के कारण उन्हें काफी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़क के कम से कम एक हिस्से को खोल दिया जाए. बेहतर होगा कि उन्हें दिल्ली के रामलीला मैदान या जंतर-मंतर पर धरने की अनुमति दी जाए क्योंकि यहां महीनों से चल रहे विरोध प्रदर्शन के कारण हमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. स्थानीय निवासी ने कहा कि वह किसानों के प्रदर्शन या उनकी मांगों के खिलाफ नहीं है लेकिन सड़क को खोल देना चाहिए.

पिछले महीने, लगभग 20 गांवों के लोगों ने महापंचायत आयोजित की थी, जिसमें उनके क्षेत्र को दिल्ली के सिंघू बॉर्डर से जोड़ने वाली सड़क के एक हिस्से को खोलने की मांग की गयी थी.

और पढ़ें