Live News »

राजस्थान रोडवेज में होने जा रहा नवाचार, कम्प्यूटर बताएगा किस रूट पर लगेगी ड्यूटी

राजस्थान रोडवेज में होने जा रहा नवाचार, कम्प्यूटर बताएगा किस रूट पर लगेगी ड्यूटी

जयपुर: खबर अच्छी है और पारदर्शिता लाने वाली भी. यह राजस्थान रोडवेज के 18 हजार कर्मचारियों से जुड़ी हुई है. अब उन्हें अवकाश लेना हो तो उच्चाधिकारियों के आगे-पीछे घूमने या उन्हें बताने की जरूरत नहीं होगी. यदि आपके खाते में छुट्टियां बकाया हैं तो कम्प्यूटर अपने आप छुट्टी जारी कर देगा. महिलाओं की सुरक्षा और बसों के आवागमन को लेकर भी आईटी सम्बंधी नवाचार किए जा रहे हैं. कैसे संभव होगा यह ऑटोमेशन, देखिए खास रिपोर्ट:

कर्मचारियों को होगी सहूलियत:
राजस्थान रोडवेज में अब मैनपाॅवर का बेहतर उपयोग हो सकेगा. न तो ड्यूटी लगने में गफलत रहेगी, न ही कर्मचारियों को यह मलाल रहेगा कि छुट्टियां बाकी रहने के बावजूद उन्हें अवकाश नहीं मिल रहा. ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट के लिए रोडवेज प्रशासन आईटी का नवाचार शुरू करने जा रहा है. इससे न केवल सभी कर्मचारियों-अधिकारियों का डेटा ऑनलाइन उपलब्ध रहेगा, साथ ही प्रत्येक दिन का रूट चार्ट, कर्मचारियों का रोस्टर भी ऑनलाइन बन सकेगा. 

रुकेगा ड्यूटी लगाने में होने वाला भ्रष्टाचार:
रोडवेज प्रशासन का मानना है कि इससे ड्यूटी लगाने में होने वाला भ्रष्टाचार भी रुकेगा. दरअसल पसंदीदा रूट पर चलने के लिए चालक-परिचालक उच्चाधिकारियों से सिफारिश करते हैं. पसंदीदा रूट पर बसों में यात्रियों को बेटिकट यात्रा करवाकर वे रोडवेज को आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचाते हैं. इसे रोकने के लिए रोडवेज प्रशासन ऑनलाइन सॉफ्टवेयर तैयार कर रहा है. रोडवेज की प्रदेशभर में स्थित सभी 56 इकाईयों पर ऑनलाइन HRMS यानी ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम कियोस्क लगाए जाएंगे. रोडवेज प्रशासन ने इसके लिए निविदा जारी कर दी है. 31 जुलाई निविदा की अंतिम तिथि है. कियोस्क लगाने का कार्य 31 अक्टूबर तक कर लिया जाएगा. 

कैसे काम करेगा सिस्टम ?
—सभी ईकाईयों में HRMS के कियोस्क लगाए जाएंगे
—इनमें रोडेवज के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों का पूरा डेटा रहेगा
—चालकों-परिचालकों को ड्यूटी जॉइन-ऑफ होते समय थंब इंप्रेशन करना होगा
—इससे कर्मचारियों की उपस्थिति दर्ज हो जाएगी
—यदि कर्मचारी को किसी दिन के लिए अवकाश चाहिए तो थंब इंप्रेशन करना होगा
—इस पर उसकी बकाया छुट्टियाें की सूचना स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगी
—यदि छुट्टी बची हुई है, और बसें चलाने के लिए उस दिन डिपो में पर्याप्त स्टाफ है तो छुट्टी अप्रूव हो जाएगी
—इसके बाद चालक-परिचालक को अधिकारियों को इस बारे में बताने की जरूरत नहीं होगी
—मौजूद स्टाफ की संख्या और बसों के रूट के आधार पर हर रोज शाम 4 बजे चार्ट बनेगा
—इसमें प्रत्येक कर्मचारी की ड्यूटी कम्प्यूटर लगाएगा, अफसरों का दखल खत्म होगा
—यानी अब चालक-परिचालक अफसरों की मिलीभगत से पसंद के रूट पर ड्यूटी नहीं लगवा सकेंगे

जीपीएस आधारित व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम:
रोडवेज प्रशासन का मानना है कि इससे निचले स्तर पर कर्मचारियों का मनोबल बढ़ेगा और उन्हें छुट्टी लेने के लिए अफसरों की अनुमति का इंतजार नहीं करना होगा. आईटी में नवाचार करते हुए रोडवेज प्रशासन सभी बसों में व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम नए सिरे से इंस्टॉल करवाने जा रहा है. यह प्रयोग हालांकि 5 साल पहले भी शुरू किया गया था. उस समय रोजमार्टा कम्पनी से अनुबंध किया गया था, लेकिन अनुबंध में विवाद होने के बाद यह प्रोजेक्ट आगे नहीं बढ़ सका था. रोडवेज प्रशासन बसों की रियल टाइम लाेकेशन जानने के लिए जीपीएस आधारित व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम लगवाएगा. इससे बस अड्डों पर बसों के आगमन की सटीक सूचना मिलेगी. साथ ही महिलाओं की सुरक्षा के लिए बसों में पैनिक बटन भी लगवाए जा रहे हैं.

वित्तीय हालत सुधारने के लिए आईटी का सहारा:
रोडवेज एमडी शुचि शर्मा ने पद संभालने के साथ ही रोडवेज की वित्तीय हालत सुधारने के लिए आईटी का सहारा लेना शुरू कर दिया है. प्रबंध निदेशक का मानना है कि आईटी को बढ़ावा देकर ही रोडवेज में पारदर्शिता आएगी, जिससे राजस्व में लीकेज नहीं होगा. लिहाजा, रोडवेज के आर्थिक घाटे को कम करने में मदद मिलेगी. देखना होगा कि प्रबंध निदेशक के ये प्रयास कब सफल हो पाते हैं.

... संवाददाता काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

सीएम गहलोत ने अधिकारियों को दिए निर्देश, कहा-UPSC की तर्ज पर RPSC समयबद्ध परीक्षा कराएं

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि UPSC की तर्ज पर RPSC का शेड्यूल बनेगा. सीएम गहलोत ने कर्मचारी चयन बोर्ड को निर्देश देते हुए कहा कि भर्तियों को लेकर समयबद्ध टाइम टेबल हो. प्रदेश में कोई भी भर्ती नहीं अटकनी चाहिए. भर्ती में आने वाली अड़चनें शीघ्र दूर की जाएं. आज मुख्यमंत्री आवास पर अहम बैठक हुई थी. प्रमुख सचिव रोली सिंह ने सीएम को पूरी जानकारी दी. प्रदेश में प्रक्रियाधीन भर्तियों के बारे में प्रजेंटेशन दिया. 

प्रक्रियाधीन भर्तियों को लेकर CM गहलोत ने की समीक्षा:
आपको बता दें कि मुख्यमंत्री आवास पर 2 घंटे तक अहम बैठक चली. जिसमें सीएम गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए सभी विभागों में समयबद्ध भर्तियां पूरी की जाए. प्रक्रियाधीन भर्तियों को लेकर CM गहलोत ने समीक्षा की.बैठक में प्रमुख सचिव DOP ने डिटेल जानकारी दी. एक दर्जन विभागों के प्रमुखों ने प्रजेंटेशन दिया. भर्तियों की वर्तमान स्थितियों की जानकारी दी. मुख्यमंत्री ने सभी अधिकारियों को लंबित भर्तियां जल्दी पूरा करने के आदेश दिए है. साथ ही सीएम गहलोत ने कहा कि कोर्ट में अटकी भर्तियों का रास्ता निकालने के निर्देश. खाली पदों पर भर्ती के भी निर्देश दिए है. 

{related}

CMR से वीसी के माध्यम से हुई बैठक: 
बैठक में प्रक्रियाधीन भर्तियों के मामले में चर्चा हुई. CMR से वीसी के माध्यम से यह बैठक हुई. जिसमें मुख्य सचिव राजीव स्वरूप मौजूद रहे. ACS वित्त निरंजन आर्य, प्रमुख सचिव DOP रोली सिंह भी मौजूद रही. प्रमुख सचिव चिकित्सा, सचिव शिक्षा विभाग को CMR बुलाया गया. सचिव महिला व बाल विकास और राजस्थान लोक सेवा आयोग के सचिव भी CMR मौजूद रहे. 

सामूहिक आत्महत्या प्रकरण: पुलिस को ​मौके से मिला सुसाइड नोट, मृतक यशवंत ने लिखा था सुसाइड नोट...

सामूहिक आत्महत्या प्रकरण: पुलिस को ​मौके से मिला सुसाइड नोट, मृतक यशवंत ने लिखा था सुसाइड नोट...

जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर में कर्ज के चलते एक ही परिवार के 4 लोगों ने सामूहिक खुदकुशी कर ली. माता-पिता और 2 बच्चों ने आत्महत्या कर ली. ये घटना जयपुर के कानोता थाना इलाके के जामडोली की है. पुलिस को मौके पर एक सुसाइड नोट मिला है. यह सुसाइड नोट यशवंत सोनी ने लिखा था, जिसमें लिखा है कि कर्ज नहीं चुकाने की वजह से हमें परेशान किया जा रहा है. उसमें 3 लोगों का ​जिक्र किया गया है.

पुलिस ने नामजद तीन व्यक्तियों को लिया हिरासत में:
पुलिस ने नामजद 3 लोगों को हिरासत में ले लिया है. पुलिस ने मृतकों के शव मोर्चरी में रखवाए है. फिलहाल पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है. बताया जा रहा है कि परिवार कर्ज से परेशान था. घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई है. प्राथमिक तौर पर यह मामला खुदकुशी से जुड़ा माना जा रहा है.

{related}

माता-पिता और दो बच्चों ने की सामूहिक आत्महत्या:
पुलिस ने बताया कि माता-पिता और दो बच्चों ने की सामूहिक आत्महत्या की है. पति यशवंत सोनी और पत्नी ममता सोनी, दो पुत्र भारत और अजित सोनी ने सामूहिक आत्महत्या की. परिवार के इन सदस्यों ने फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. जांच के लिए फॉरेंसिक टीम को भी बुलाया गया है. यह परिवार ज्वैलरी के कारोबार से जुड़ा हुआ था. 

कर्जे और आर्थिक तंगी की वजह से की आत्महत्या:
बताया जा रहा है कि कर्जे और आर्थिक तंगी की वजह से परिवार ने आत्महत्या की. यह जानकारी डीसीपी ईस्ट राहुल जैन ने दी. इस मामले में 3 लोगों को हिरासत में लिया है. बहरहाल, पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है और मामले में आगे की जांच की जा रही है. हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ की जा रही है. 

जयपुर में एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्या, कर्जे और आर्थिक तंगी से परेशान था परिवार 

जयपुर में एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्या, कर्जे और आर्थिक तंगी से परेशान था परिवार 

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर से सनसनीखेज खबर सामने आई है. यहां पर कर्ज के चलते एक ही परिवार के 4 लोगों ने सामूहिक आत्महत्या कर ली है. माता-पिता और 2 बच्चों ने आत्महत्या कर ली. ये घटना जयपुर के कानोता थाना इलाके के जामडोली की है. बताया जा रहा है कि परिवार कर्ज से परेशान था. घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई है. हालांकि मौके से किसी तरह का सुसाइड नोट मिला है या नहीं, पुलिस ने फिलहाल इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. प्राथमिक तौर पर यह मामला खुदकुशी से जुड़ा माना जा रहा है.

माता-पिता और दो बच्चों ने की सामूहिक आत्महत्या:
पुलिस ने बताया कि माता-पिता और दो बच्चों ने की सामूहिक आत्महत्या की है. पति यशवंत सोनी और पत्नी ममता सोनी, दो पुत्र भारत और अजित सोनी ने सामूहिक आत्महत्या की. परिवार के इन सदस्यों ने फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. जांच के लिए फॉरेंसिक टीम को भी बुलाया गया है. यह परिवार ज्वैलरी के कारोबार से जुड़ा हुआ था. 

{related}

कर्जे और आर्थिक तंगी की वजह से की आत्महत्या:
बताया जा रहा है कि कर्जे और आर्थिक तंगी की वजह से परिवार ने आत्महत्या की. यह जानकारी डीसीपी ईस्ट राहुल जैन ने दी. इस मामले में 3 लोगों को हिरासत में लिया है. बहरहाल, पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है और मामले में आगे की जांच की जा रही है. हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ की जा रही है. 

जयपुर में एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्त्या, कानोता इलाके के जामडोली की है घटना

जयपुर में एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्त्या, कानोता इलाके के जामडोली की है घटना

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर में एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने सामूहिक आत्महत्या करने का मामला सामने आया है. जिसके बाद इलाके में सनसनी फैल गई. यह घटना कानोता थाना इलाके के जामडोली की की बताई जा रही है. माता-पिता और दो बच्चों ने सामूहिक आत्महत्या की है. 

{related}

फंदा लगाकर की अपनी जीवनलीला समाप्त:
अब सूचना पर पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे. FSL को भी मौके पर बुलाया गया है. सुसाइड करने वालों में ममता सोनी, भारत सोनी, अजित और यशवंत सोनी शामिल है. इन सभी ने  फंदा लगाकर की अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली. आत्महत्या करने की वजह  कर्जे और आर्थिक तंगी बताई जा रही है. 

कोविड 19 संक्रमित मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बड़ा फैसला, अब अस्पताल में भर्ती मरीज से मिल सकेंगे परिजन

कोविड 19 संक्रमित मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बड़ा फैसला, अब अस्पताल में भर्ती मरीज से मिल सकेंगे परिजन

जयपुर: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कोविड संक्रमित मरीजों को राहत देते हुए कोरोना से संक्रमित मरीजों के परिजनों को पीपीई किट व अन्य सुरक्षित साधनों के साथ मरीजों से मिलने व उन्हें भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं. चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोरा ने कोरोना से संक्रमित मरीजों के एकाकीपन व उसके कारण उत्पन्न तनाव को दृष्टिगत रखते हुए यह निर्देश जारी किए हैं.

तय प्रोटोकॉल के साथ मुलाकात का वक़्त रहेगा तय:
निर्देशों के अनुसार किया कोविड-19 से संक्रमित मरीज जो राजकीय/निजी चिकित्सालयों में उपचाररत हैं, उनसे उनके परिजनों/रिश्तेदारों को समस्त सुरक्षात्मक उपाय (यथा पीपीई किट, मास्क, दस्ताने, नियत दूरी आदि) अपनाते हुए अस्पताल द्वारा तय समय अवधि में मिलने दिया जाए. साथ ही यह भी निर्देशित किया जाता है कि मरीज के परिजन/रिश्तेदार यदि मरीज को घर का खाना देना चाहते हैं तो निर्धारित प्रॉटोकॉल के अनुसार दिया जा सकता है.

{related}

सुरक्षात्मक उपाय को करना होगा फॉलो:
साथ ही निर्देशित किया जाता है कि कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों में बैड क्षमता को देखते हुए, उपचार हेतु आने वाले मरीजों की सुविधा व आपात स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए पर्याप्त संख्या में व्हील चेयर/स्ट्रेचर एवं छोटे ऑक्सीजन सिलेण्डर हैल्प डेस्क पर उपलब्ध रखा जाना सुनिश्चित करें, जिससे आपात स्थिति में आवश्यकता होने पर मरीज़ को व्हील चेयर/स्ट्रेचर पर ही लो फ्लो ऑक्सीजन, सिलेण्डर के माध्यम से उपलब्ध करावें ताकि मरीज को आपातकालीन स्थिति में तत्काल राहत देते हुए मरीज की स्थिति को स्थिर किया जा सके. 

सोशल मीडिया पर पेपर आउट ऑडियो वायरल मामला: राज.अधीनस्थ बोर्ड अध्यक्ष ने कहा-हमारे पास अभी तक नहीं है इस तरह की कोई सूचना

 सोशल मीडिया पर पेपर आउट ऑडियो वायरल मामला: राज.अधीनस्थ बोर्ड अध्यक्ष ने कहा-हमारे पास अभी तक नहीं है इस तरह की कोई सूचना

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर पुस्तकालय अध्यक्ष ग्रेड थर्ड सीधी भर्ती-2018 परीक्षा पेपर आउट ऑडियो वायरल मामले पर राजस्थान अधीनस्थ बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास अभी तक इस तरह की कोई सूचना नहीं है. अगर इस तरह का कोई मामला आया है, तो इस मामले की जांच करना पुलिस का काम है. हम कल भर्ती परीक्षा की तैयारियां पूरी कर चुके है. कल पूरी सावधानी के साथ परीक्षा करवाई जाएगी. 

पेपर आउट गिरोह सक्रिय होने की खबर आई थी सामने:
इससे पहले खबर सामने आई थी कि परीक्षा के एक दिन पहले पेपर आउट गिरोह सक्रिय हो गए है. जानकारी के मुताबिक सोशल मीडिया पर पेपर आउट करने का ऑडियो वायरल हो रहा है. जानकारी के मुताबिक परीक्षा से 5 घंटे पहले 13 लाख रुपए में पेपर देने की बात कही जा रही है. जयपुर और जोधपुर में पेपर आउट गिरोह सक्रिय हो रहे हेै. परीक्षा से पहले 3 लाख रुपए देने की बात हो रही है. तो वहीं अंतिम सिलेक्शन के बाद 10 लाख रुपए देने की बात हो रही है. दिसंबर 2019 में पहले भी पेपर आउट होने के चलते यह परीक्षा रद्द हुई थी. 

{related}

शनिवार को आयोजित होगी परीक्षा:
आपको बता दें कि पुस्तकालय अध्यक्ष ग्रेड थर्ड सीधी भर्ती परीक्षा-2018 शनिवार को आयोजित की जाएगी. यह परीक्षा प्रदेश के 23 जिलों में आयोजित होगी. सुबह 11 बजे से 2 बजे तक परीक्षा आयोजित होगी. 700 पदों पर करीब 90 हजार परीक्षार्थी परीक्षा में बैठेंगे. परीक्षा को लेकर कोरोना गाइड लाइन अनुसरण के निर्देश दिए गए है.बिना मास्क के किसी परीक्षार्थी को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. परीक्षार्थियों की तापमान जांच और हाथ सैनिटाइज की व्यवस्था होगी.

जयपुर में 18047 परीक्षार्थी हैं पंजीकृत:
पुस्तकालय अध्यक्ष ग्रेड थर्ड सीधी भर्ती परीक्षा-2018 के लिए जयपुर में 18047 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं. जयपुर में 69 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा आयोजित होगी. परीक्षा के लिए 15 सतर्कता दल और 15 उप समन्वयकों की नियुक्ति की गई है.

VIDEO: RHUS में बैड क्षमता होगी दोगुनी! SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत

जयपुर: प्रदेश के सबसे बड़े कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में जल्द ही बैड की क्षमता दोगुना तक बढ़ाई जाएगी.मरीजों की बढ़ती तादाता को देखते हुए गहलोत सरकार ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है.एक तरफ जहां आरयूएचएस में बैड क्षमता 800 से 900 करने के लिए प्रयास जारी है, वहीं दूसरी ओर कोरोना डेडिकेटेड जयपुरिया और ESI हॉस्पिटल  में भी सुविधाओं में विस्तार किया जा रहा है.एसएमएस मेडिकल कॉलेज को RUHS-जयपुरिया-ESI की सभी प्रशासनिक जिम्मेदारी मिलने के बाद प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत की फर्स्ट इंडिया संवाददाता विकास शर्मा ने...

RHUS में हर मरीज को मिले ऑक्सीजन बैड और बेहतर इलाज
-SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत
-भण्डारी ने कहा, SMS ने टेकओवर किए है तीनों कोविड अस्पताल
-अनुभवी फैकल्टी मैम्बर्स की टीम को दी गई है वहां की जिम्मेदारी
-हमारी कोशिश रहेगी कि सभी मरीजों को अच्छे वातावरण में ट्रीटमेंट दें
-रिसेप्शन पर हर समस्या का समाधान हो, ये रहेगा हमारा फोकस
-यदि अस्पताल में नहीं होगा बैड तो दूसरी जगह करेंगे शिफ्ट
-लेकिन किसी भी मरीजों को उपचार के लिए नहीं किया जाएगा इनकार

{related}

पैटर्न ऑफ कोविड में आया बड़ा बदलाव
-SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत
-मार्च अप्रेल मई में कोरोना मरीजों में जो लक्षण आ रहे थे
-उनमें अब काफी बदलाव सामने आ रहा है
-कई मरीजों में क्लासिकल कोविड निमोनिया की स्थित बन रही है
-एक्सरे-सीटी में तो पेंच दिखते है,लेकिन कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आती है
-ऐसे मरीजों में शॉट ड्यूरेशन में भी लंग इफेक्ट हो रहे है
-भण्डारी ने आमजन से की अपील, लोग कोविड को गंभीरता से लें
जरा भी लक्षण दिखे तो जांच कराए, आईसोलेशन की पालना करें

राज्यपाल कलराज मिश्र बोले, स्मार्ट वर्कर होता है उद्यमी, युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित

राज्यपाल कलराज मिश्र बोले, स्मार्ट वर्कर होता है उद्यमी, युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित

जयपुर: राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा और शंकरा इंस्टीट्यूट के संयुक्त तत्वाधान में उद्यमिता विकास विषय पर दो दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट कार्यक्रम शुरू हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यपाल कलराज मिश्र रहे. राज्यपाल ने कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए संबोधित किया. राज्यपाल ने कहा कि एक सफल उद्यमी हार्ड वर्क के साथ स्मार्ट वर्क करता है. वह नई सोच पर काम कर उसे सफल व्यवसाय में बदल देता है.

युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित:
राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों से आह्वान किया कि वे युवाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करें. युवाओं को आत्मनिर्भर भारत में भागीदार बनने के लिए उनमें आत्मविश्वास पैदा करें. आत्मनिर्भर भारत के लिए राज्य के तकनीकी विश्वविद्यालयों को बदली हुई परिस्थितियों में भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए उद्योग धंधों के विकास की रूपरेखा तैयार करनी होगी. राज्यपाल ने इस मौके पर संविधान की प्रस्तावना और कर्तव्यों का वाचन भी कराया. राज्यपाल ने कहा कि सफल उद्यमी में रिस्क लेने की क्षमता और दूर की सोच जैसे कई गुण होते हैं.

कोरोना महामारी के इस दौर में हमें देनी होगी लोकल को प्राथमिकता:
विश्वविद्यालय युवाओं के स्वरोजगार शुरू करने में उनके संशयों को दूर करें. बैंकों से लोन दिलाने और स्टार्टअप शुरू करने में विश्वविद्यालय सहयोग करें. कोरोना महामारी के इस दौर में हमें लोकल को प्राथमिकता देनी होगी. विश्वविद्यालयों द्वारा गोद लिए गए गांवों में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों की शुरुआत कराने के लिए विश्वविद्यालयों को प्रयास करने होंगे. 

{related}

इससे मिल सकेगा गांवों में ही युवाओं को रोजगार:
इससे गांवों में ही युवाओं को रोजगार मिल सकेगा. युवाओं को नौकरी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा. हमें युवाओं को नौकरी देने वाला बनाना होगा. इस तरह की चर्चा आज पूरे विश्व में हो रही है. भारत में भी ऐसे वातावरण का निर्माण करने की रणनीति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बना दी है. हम सभी को इस रणनीति में भागीदार बनना होगा. समारोह को विश्वविद्यालय के कुलपति आरए गुप्ता ने भी संबोधित किया.

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

Open Covid-19