पैसे लेकर भी नहीं दिया फ्लैट का पजेशन, कंज्यूमर आयोग ने लगाया रियल एस्टेट कंपनी पर जुर्माना

पैसे लेकर भी नहीं दिया फ्लैट का पजेशन, कंज्यूमर आयोग ने लगाया रियल एस्टेट कंपनी पर जुर्माना

पैसे लेकर भी नहीं दिया फ्लैट का पजेशन, कंज्यूमर आयोग ने लगाया रियल एस्टेट कंपनी पर जुर्माना

चंडीगढ़: तय समय पर प्लॉट का पजेशन न देना एक रियल एस्टेट कंपनी को काफी महंगा पड़ा. कंपनी को कस्टमर द्वारा जमा कराए 44 लाख रुपए रिफंड करने होंगे और साथ ही 50 हजार रुपए हर्जाना भी बनना पड़ेगा. चंडीगढ़ स्टेट कंज्यूमर कमिशन ने पटियाला के कुलदीप सिंह मान की शिकायत पर एयरोपोलिस इन्फ्राट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के खिलाफ यह फैसला सुनाया है.

2012 में चंडीगढ़ के सेक्टर 66 में खरीदा था 200 गज का प्लॉट:
68 वर्षीय मान ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन्होंने मई 2012 में कंपनी के सेक्टर 66 मोहाली स्थित एक प्रोजेक्ट येलोस्टोन लैंड मार्क इंफोसिटी में 200 गज का प्लॉट खरीदा था. उस प्लॉट की कीमत 76 लाख 80 हजार रुपए थी और इसके लिए उन्होंने कंपनी को 44 लाख 84 हजार रुपए जमा भी करवा दिए थे. एग्रीमेंट के मुताबिक कंपनी को 18 महीनों के अंदर प्लॉट का पजेशन हैंड ओवर करना था.

सबकुछ तय होने के बाद भी कंपनी ने नही दिया था पजेशन:
तय होने के बाद भी कंपनी ने मान को प्लाट का पजेशन नहीं दिया. इतना ही नहीं कंपनी की तरफ से साइट पर किसी तरह की डेवलपमेंट भी नहीं की गई थी. जिसके बाद मान ने कंपनी से रिफंड मांगा लेकिन उन्होंने आगे से इनकार कर दिया. कंपनी के इस रवैया से परेशान होकर मान ने स्टेट कंज्यूमर कमिशन में कंपनी के खिलाफ केस फाइल कर दिया.

जमा करवाई रकम पर कंपनी को देना होगा 12 प्रतिशत ब्याज भी:
वहीं कंपनी ने कमीशन में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि कस्टमर ने केवल इन्वेस्टमेंट के मकसद से प्लॉट खरीदा था और इस तरह से उन्हें कंज्यूमर नहीं समझा जाना चाहिए. इसके अलावा कंपनी ने कहा कि कस्टमर ने उन्हें कभी 44 लाख 84 हजार रुपए जमा नहीं करवाए थे. हालांकि मान ने कंज्यूमर कमिशन में साबित कर दिया था कि उन्होंने कंपनी को इतनी रकम जमा करवाई थी. लिहाजा दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद स्टेट कंज्यूमर कमिशन ने मान के हक में फैसला सुनाया और कंपनी को 44 लाख 84 हजार रुपए रिफंड करने के निर्देश दिए. यह रकम कंपनी को 12 परसेंट ब्याज के साथ लौटानी होगी. इसके अलावा कमीशन ने कंपनी को 50 हजार रुपए हर्जाना भी अदा करने के निर्देश दिए.

और पढ़ें