नई दिल्ली भारत में कोविड-19 संक्रमण फैलने की वजह डेल्टा स्वरूप है: INSACOG

भारत में कोविड-19 संक्रमण फैलने की वजह डेल्टा स्वरूप है: INSACOG

भारत में कोविड-19 संक्रमण फैलने की वजह डेल्टा स्वरूप है: INSACOG

नई दिल्ली: जीनोम अनुक्रमण की सरकारी प्रयोगशालाओं के एक संघ ‘‘द इंडियन सार्स सीओवी2 जीनोमिक कंसोर्टियम (INSACOG) ने कहा कि भारत में कोविड-19 का संक्रमण फैलने की मुख्य वजह डेल्टा स्वरूप, संक्रमण के लिहाज से संवेदनशील आबादी और संक्रमण रोकने में टीके का प्रभाव कम होना हैं. 

देश में अभी तक डेल्टा प्लस के 61नमूने:
INSACOGने 16 अगस्त को जारी अपने ताजा बुलेटिन में कहा कि हालांकि टीकाकरण लोगों के गंभीर रूप से बीमार पड़ने और मौत होने से रोकने में काफी प्रभावी रहा है तथा संक्रमण को रोकने के लिए जन स्वास्थ्य उपाय और टीकाकरण अहम हैं. उसने कहा कि भारत में संक्रमण के सामने आए मामलों में डेल्टा स्वरूप के मामले अधिक हैं. देश में अभी तक डेल्टा प्लस स्वरूपों के 61 नमूनों का पता लगाया गया है.

कोविड-19 रोधी टीकों की 57 करोड़ से अधिक खुराक: 
उसने कहा कि डेल्टा स्वरूप इस समय भारत में सबसे प्रमुख चिंताजनक स्वरूप है. भारत में संक्रमण के मामलों के लिए डेल्टा स्वरूप, संवेदनशील आबादी, संक्रमण रोकने में टीके का प्रभाव कम होना और संक्रमण के अवसर को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. कोरोना वायरस की दूसरी लहर में मई में संक्रमण के मामलों के चरम पर पहुंचने के बाद, अब रोज आने वाले मामलों में कमी देखी जा रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 3,63,605 हो गयी जो 150 दिनों में सबसे कम है और संक्रमण के कुल मामलों का 1.12 प्रतिशत है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे कम है. देश में अभी तक कोविड-19 रोधी टीकों की 57 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी है.

ब्रिटेन में संक्रमण के करीब 18 लाख मामले:
INSACOGस्वरूप के कारण भारत में टीका लगवा चुके लोगों में भी संक्रमण बढ़ रहा है. उसने ब्रिटेन का उदाहरण भी दिया. करीब 6.7 करोड़ की आबादी वाले ब्रिटेन में संक्रमण के करीब 18 लाख मामले आए और अप्रैल 2021 के बाद से टीका लगवा चुके 1.2 लाख लोग डेल्टा स्वरूप से संक्रमित पाए गए. सोर्स-भाषा

और पढ़ें