कोटा बैराज से छोड़ा जा रहा पानी बरपा रहा कहर, कई गांवों में बने बाढ़ के हालात

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/17 09:34

धौलपुर: लगातार कोटा बैराज से छोड़े जा रहे पानी ने अपना कहर बरपा दिया है. धौलपुर जिले के कई गांवों में चम्बल नदी का पानी आने से बाढ़ के हालात बन गए है. चम्बल नदी से सटे गांव मेहंदपुरा,भूड़ा,पुरैनी,समेत कई गांवों में आमजन जीवन अस्तव्यस्त हो रहा है. ग्रामीणों को राहत के नाम पर प्रशासन की ओर से कोई मदद नही मिल पा रही है. ग्रामीण प्रशासनिक मदद के लिए मोहताज हो रहे है. आखिर प्रशासन क्यों इन ग्रामीणों की नही सुन रहा. ग्रामीण बाढ़ के कारण कहीं आ जा नही पा रहे. जो जहां है वह वही  हम हुआ सा है. 

ग्रामीण भूखे प्यासे मदद की आस में लगा रहे गुहार: 
ग्रामीण भूखे प्यासे मदद की आस में गुहार लगा रहे है लेकिन मदद के नाम पर अभी तक प्रशासन की ओर से कोई कदम नही उठाया गया. हालांकि बाढ प्रभावित गांवों में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और वन एवं पर्यावरण मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने दौरा किया है. लेकिन उसके बाद भी अभी तक ग्रामीणों को प्रशासन ने कोई सुविधा मुहैया नही करायी है. ग्रामीण अपने स्तर पर ही एक दूसरे की मदद कर रहे है. गांव मेंहदपुरा जो कि चम्बल नदी से बिल्कुल सटा हुआ गांव है वहां के हालात बहुत बदतर है लेकिन वहां गांव के सरपंच राजेश शर्मा द्वारा ग्रामीणों की अपने स्तर पर भरपूर मदद की जा रही है.

ग्रामीण कर रहे एक दूसरे की मदद: 
गांव में ग्रामीणों के लिए भोजन पानी और कपड़ों की व्यवस्था उपलब्ध कराई जा रही है. साथ ही एक दिव्यांग नाविक अपनी नाव से ग्रामीणों के एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने में पूरी मदद कर रहा है लेकिन एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमो के कोई भी जवान इन गांव के आसपास नही दिखने से कही न कही प्रशासनिक सहायता यहां दिखाई नही दे रही है.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in