Live News »

उत्तराखंड में फिर बदला मौसम का मिजाज, रिमझिम हुई बारिश, ओलावृष्टि की चेतावनी

उत्तराखंड में फिर बदला मौसम का मिजाज, रिमझिम हुई बारिश, ओलावृष्टि की चेतावनी

नई दिल्ली: एक बार फिर उत्तराखंड में मौसम का मिजाज बदल गया है. उत्तराखंड के ​इलाकों में रिमझिम बारिश हुई. उत्तराखंड के देहरादून सहित पहाड़ से मैदान तक बारिश हुई. उत्तराखंड के ​कई जिलों में बारिश की खबर मिली है. कई जगह तेज हवाओं ने भी लोगों को उमस से राहत दिलाई है. 

मसूरी में बदला मौसम का मिजाज:
वहीं, पहाड़ों की रानी मसूरी में भी मौसम ने अपना मिजाज बदला. मसूरी में सुबह से हो रही बारिश से तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है. लोगों को मई के माह में दिसंबर महीने जैसी ठंड का एहसास होने लगा. 

लॉकडाउन में फंसे हुए मजदूरों का पलायन, लेकिन अब रोड़ा बनी सीमाएं, नहीं दिया जा रहा प्रवेश 

उत्तराखंड में ओलावृष्टि की चेतावनी:
लोगों को ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़े और अलाव का सहारा लेना पड़ा. वहीं, मौसम विभाग ने भी 10 और 11 मई को उत्तराखंड में ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की है. विभाग के अनुसार  कुछ जगहों पर ओले पड़ने का सिलसिला भी जारी रहेगा. शनिवार को भी केदारनाथ, तुंगनाथ सहित ऊंचाई वाले इलाकों में शनिवार को 2 घंटे तक बर्फबारी होती रही. 

मदर्स डे पर कंगना रनौत ने मां के लिए लिखी कविता, सोशल मीडिया पर की शेयर 

और पढ़ें

Most Related Stories

उत्तराखंड में खुले बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट, भक्तों को दर्शन करने की अनुमति नहीं

उत्तराखंड में खुले बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट, भक्तों को दर्शन करने की अनुमति नहीं

नई दिल्ली: कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच बुधवार को उत्तराखंड के केदारनाथ मंदिर के कपाल खोले गए है. पूरे विधि विधान और परम्पराओं के साथ बुधवार सुबह 6: 10 बजे केदारनाथ बाबा के कपाट सादगी से खुले. लॉकडाउन की वजह से मंदिर में भक्तों को दर्शन करने की अनुमति नहीं है.

Image

सादगी से खुले बाबा केदारनाथ के कपाट:
केदारनाथ धाम के मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग की मौजूदगी में मंदिर के कपाट खोले गए. कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देशभर में लॉकडाउन है, इसलिए भक्तों को मंदिर में  जाने की अनुमति नहीं है. देवस्थानम बोर्ड के 16 लोगों को ही केदारनाथ जाने की अनुमति मिली है. इसके अलावा धाम में कुछ मजदूर और पुलिस के जवान मौजूद हैं. 

मुख्यमंत्री गहलोत ने किया साफ, हॉट स्पॉट क्षेत्र में 3 मई बाद भी छूट नहीं, किसी तरह की रियायत नहीं दी जाएगी !

Image

एक दिन पहले ही पहुंच गई थी डोली:
इस बार बाबा केदारनाथ की डोली एक दिन पहले केदारनाथ पहुंच गई थी. बता दें, इसके बाद एक बार फिर हमेशा की तरह यहां अगले 6 माह तक शिव की पूजा अर्चना की जाएगी. चारों धामों के मंदिर सर्दियों में हर साल अक्टूबर-नवंबर में भक्तों के लिए बंद कर दिए जाते हैं. जो अगले साल दोबारा अप्रैल-मई में फिर खोल दिए जाते हैं. इससे पहले अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खोल दिए गए थे. इसके साथ ही चार धाम यात्रा का आगाज भी हो गया था. 

परिवहन मंत्री खाचरियावास ने उठाया प्रवासियों के गृह राज्य में आवागमन का मुद्दा, कहा-प्रवासियों को लेकर गाइडलाइन्स बनाए केंद्र

Covid-19 Updates: उत्तराखंड के 9 माह के बच्चे ने कोरोना को हराया, महज 6 दिन में ठीक हुआ बच्चा

Covid-19 Updates: उत्तराखंड के 9 माह के बच्चे ने कोरोना को हराया, महज 6 दिन में ठीक हुआ बच्चा

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस ने कहर बरपा रखा है. देश के करीब-करीब सभी राज्यों में कोरोना के मामले है. वहीं एक राहतभरी की खबर है, जो उत्तराखंड राज्य से है, यहां पर 9 माह के बच्चे ने महज 6 दिन में कोरोना वायरस को हरा दिया है. जी हां डॉक्टरों की मेहनत से इस बच्चे की रिपोर्ट पॉजिटिव से नेगेटिव आई है. अब यह बच्चा बिल्कुल स्वस्थ बताया जा रहा है. इस बच्चे में कोरोना संक्रमण पाये जाने के बाद अस्तपाल में भर्ती करवाया गया था. जहां पर डॉक्टरों की मेहनत से अब बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है. साथ ही इस बच्चे ने कोरोना महामारी से जल्द स्वस्थ होने का रिकॉर्ड भी बनाया है. 

विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, ससुराल वालों के दहेज मांग से थी परेशान

महामारी की चपेट में आया बच्चा:
अब यह महामारी बच्चों को भी चपेट में ले रही है,लेकिन इलाज के बाद स्वस्थ हो जाते है. उत्तराखंड के देहरादून में ऐसा ही मामला सामने आया था, जहां पर 9 माह का बच्चा कोरोना संक्रमित पाया गया. फिर इलाज के बाद वो बिल्कुल स्वस्थ हो गया. इस बच्चे को देहरादून  मेडिकल कॉलेज में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. जहां पर इलाज के बाद सिर्फ 6 दिन में बच्चा ​ठीक हो गया. इस बच्चे की 2 बार जांच रिपोर्ट नेगेटिव आईं, जिसके बाद उसे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया.

कोरोना संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आया था बच्चा:
खबरों के मुताबिक देहरादून की भगत सिंह कॉलोनी की एक मस्जिद में काम करने वाला व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हो गया था. जिसके संपर्क में आने से इस वायरस ने 9 माह के बच्चे को भी अपनी चपेट में ले लिया. बच्चे को 6 दिन में ठीक करके चिकित्सकों ने एक नया रिकॉर्ड कायम किया है. 

राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस: पीएम मोदी ने की देशभर के सरपंचों से बातचीत, कहा-गांवों ने दिया दो गज दूरी का संदेश

बदरीनाथ और केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि में हुआ बदलाव, लॉकडाउन की वजह से लिया निर्णय

 बदरीनाथ और केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि में हुआ बदलाव, लॉकडाउन की वजह से लिया निर्णय

नई दिल्ली: इस वर्ष बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तारीखों में बदलाव किया गया है. यह बदलाव कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से किया गया है. पहले बदरीनाथ के कपाट 30 अप्रैल को खुलने थे. लेकिन लॉकडाउन की वजह से अब कपाट खुलने की तिथि आगे बढा दी गई है. अब बदरीनाथ के कपाट 15 मई को खुलेंगे. 

हरियाणा सरकार का आदेश, सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को मोबाइल में करना होगा आरोग्य सेतु एप डाउनलोड

लॉकडाउन की वजह से लिया निर्णय:
सोमवार को टिहरी महाराज मनुजेंद्र शाह के साथ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बैठक की. इस दौरान लॉकडाउन की परिस्थितियों को देखते हुए बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीखों में बदलाव किया गया. अब केदारनाथ धाम के कपाट आगामी 14 मई को और बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को खोले जाएंगे. 

कपाट खुलने की तिथि में बदलाव:
बदरीनाथ धाम के कपाट आगामी 15 मई को प्रातः 4:30 बजे खोले जाएंगे. यह जानकारी पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने दी. पहले बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि 30 अप्रैल निर्धारित की गई थी. केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल को खुलने थे. लेकिन कोरोना वायरस की वजह से कपाट खोलने की तिथि में बदलाव किया गया है.

जैसलमेर में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, ना नहीं नजर मुंह पर मास्क

Coronavirus Updates: बाहर से आये व्यक्ति की कंट्रोल रूम में देनी होगी जानकारी, उत्तराखंड सरकार ने आदेश किए जारी

Coronavirus Updates: बाहर से आये व्यक्ति की कंट्रोल रूम में देनी होगी जानकारी, उत्तराखंड सरकार ने आदेश किए जारी

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस का खौफ है. इसके लगातार मामले बढते जा रहे है. कोरोन से बचाव के लिए देशभर में लॉकडाउन है. वहीं बात करें उत्तराखंड राज्य की, तो यहां पर कोरोना के मामले बढते जा रहे है.उत्तराखंड सरकार कोरोना को लेकर सख्त हो गई है. 15 मार्च के बाद उत्तराखंड में आने वाले हर व्यक्ति की तलाश की जा रही है. ऐसे लोगों को राज्य कंट्रोल रूम में सूचना देनी होगी ताकि उनकी सेहत पर नजर रखी जा सके. केंद्र सरकार ने इसके लिए एडवायजरी जारी की है. इसके पीछे सरकार का मकसद इन लोगों की कोरोना से सुरक्षित रखना है.

अमिताभ बच्चन ने जताया सप्लाई वॉरियर्स का आभार, सोशल मीडिया पर शेयर किया वीडियो

उत्तराखंड सरकार की अपील:
उत्तराखंड सरकार ने अपील की है कि जो बाहर से आये है, वो जानकारी उपलब्ध करवाये. जिससे उनकी जांच हो सके है. सरकार ने कहा कि ऐसे लोग अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए अपने आने की तारीख, जगह आदि की जानकारी दें. इसके आधार पर यह देखा जा सके कि उन्हें कोई परेशानी तो नहीं. अगर उस व्यक्ति में कोई परेशानी नजर आती है. तो एहतियात बरतने की आवश्यकता है. साथ ही उसे एहतियात बरतने के लिए क्या क्या जरूरी है,  ये भी बताया जाएगा. सरकार इन सबका डेटा भी तैयार करेगी. उत्तराखंड सरकार ने ऐसे लोगों की सहायता के लिए दो हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं. इन नंबरों पर ऐसे लोगों को राज्य कंट्रोल रूम में अपनी सूचना देनी है. 

हरियाणा में बढ़ा कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा, 5 नए मामले सामने आने के बाद मरीजों की संख्या हुई 158

उत्तराखंड में बर्फबारी का दौर जारी, बर्फ की चादर से ढके पहाड़

उत्तराखंड में बर्फबारी का दौर जारी, बर्फ की चादर से ढके पहाड़

नई दिल्ली: माह चल रहा है मार्च, लेकिन बर्फबारी का दौर अब भी जारी है. मार्च माह में जनवरी जैसी बर्फबारी हो रही है. हम बात कर रहे है उत्तराखंड के चमोली की. जहां पर मार्च माह में जनवरी जैसी सर्दी पड़ रही है. बद्रीनाथ, औली समेत जिले के ऊंचाई वाली जगहों पर लगातार बर्फबारी का दौर जारी है. चमोली जनपद में होली से पहले बर्फ की होली नजर आ रही है. बर्फ की सफेद चादर ही चादर नजर आ रही है. मानो जैसे वादियों ने बर्फ की होली खेली हो.

International Women Day: राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत इन नेताओं ने दीं शुभकामनाएं और बधाई, नारी शक्ति को किया सलाम

पहाड़ों में रुक-रुक कर बर्फबारी:
हरे-भरे नजर आने वाली पहाडियां एक बार फिर सफेद बर्फ की चादर से ढक चुके हैं. चारों तरफ केवल बर्फ ही बर्फ नजर आ रही है. पहाड़ों, हरे-भरे पेड़-पौधों, गाड़ियों और मकानों पर केवल बर्फ ही बर्फ दिखाई दे रही है. गुरुवार शाम से  जारी है. शनिवार को भी चमोली के बद्रीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब, औली, नीति घाटी, माणा घाटी, थराली विकासखंड, पोखरी विकासखंड, गैरसैण, दशोली के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगातार हिमपात नजर आया.

आधी आबादी की अधूरी उम्मीदें, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर फर्स्ट इंडिया की स्पेशल रिपोर्ट

सफेद बर्फ की मोटी चादर:
वहीं बद्रीनाथ प्रसिद्ध धाम पर बर्फबारी का नजारा नजर आया. इस बार होली पर्व के लिए भगवान विष्णु के धाम बद्रीनाथ ने सफेद बर्फ की मोटी चादर ओढ़ ली है. वहीं मार्च के माह में इतनी बर्फबारी से सुरक्षाकर्मियों को भी परेशानियों का सामना करना पड रहा है.

उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी से जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त, 200 गांवों का टुटा संपर्क

उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी से जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त, 200 गांवों का टुटा संपर्क

देहरादून: देशभर में सर्दी का सितम जारी है. उत्‍तर भारत के कई भागों में बारिश और बर्फबारी होने से जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त हो गया है. उत्तराखंड में ताजा बर्फबारी से कई राजमार्ग बंद हो गए हैं. पिछले 24 घंटों से उत्तराखंड में पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश से शीत का प्रकोप बढ़ा है. 

दरअसल चमोली, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में पर्वतीय क्षेत्रों को जोड़ने वाले सम्पर्क मार्ग बर्फबारी के कारण बंद हैं. राज्यभर में करीब 200 गांवों का जिला मुख्यालयों से सम्पर्क कट गया है. सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों को बिजली, पानी की आपूर्ति बाधित होने से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. जिला प्रशासन सड़कों पर जमा बर्फ को हटाने के साथ ही बिजली और पानी की आपूर्ति सुचारू बनाने के लिए जुटा हुआ है. इसके अलावा हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में आज इस मौसम की सबसे अधिक बर्फबारी हुई. भारी बर्फबारी के कारण बहुत से मार्ग अवरूद्ध हो गये. मौसम विभाग ने ऊंचाई वाले इलाकों में वर्षा और हिमपात तथा मैदानी इलाकों में बारिश का अनुमान व्‍यक्‍त किया है. 

उत्तराखंड में 12वीं और 10वीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर कार्यक्रम जारी

उत्तराखंड में 12वीं और 10वीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर कार्यक्रम जारी

रामनगर: उत्तराखंड विद्यालय शिक्षा परिषद ने भी 12वीं और 10वीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर कार्यक्रम जारी कर दिया है. 12वीं बोर्ड की परीक्षा दो मार्च 2020 और 10वीं बोर्ड परीक्षाएं 3 मार्च से लेकर 25 मार्च तक चलेंगी. आज बोर्ड ऑफिस ने परीक्षा तिथि की घोषणा के साथ ही परीक्षा स्कीम भी जारी की है. परीक्षा नियंत्रण समिति की बैठक में ये फैसला लिया गया. 

दरअसल इस साल करीब कुल पौने 3 लाख बच्चे बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा में शामिल होंगे. आकंडों के मुताबिक 10वीं की बोर्ड में इस साल डेढ़ लाख छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल होंगे. जबकि 12वीं में एक लाख 20 हजार बच्चों ने परीक्षा देनी है. बता दें कि पिछले साल उत्तराखंड बोर्ड हाईस्कूल व इंटरमीडिएट में करीब 2.5 लाख से अधिक छात्रों ने परीक्षा दी थी. हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं एक मार्च से शुरू होकर 26 मार्च तक चली थीं. जिसका परिणाम 30 मई 2019 को घोषित हुआ था. लोकसभा चुनाव होने के चलते मूल्यांकन 20 अप्रैल से चार मई के बीच हुआ था. मूल्यांकन देर से होने के कारण रिजल्ट 30 मई को जारी किया गया था. 

Open Covid-19