Live News »

परिवहन कार्यालयों में भी होगी फिटनेस, निजी फिटनेस जांच केन्द्र स्कीम फिजा-2018 में बदलाव

परिवहन कार्यालयों में भी होगी फिटनेस, निजी फिटनेस जांच केन्द्र स्कीम फिजा-2018 में बदलाव

जयपुर: परिवहन विभाग ने वाहनों की फिटनेस के मामले में वाहन मालिकों को एक बड़ी राहत दी है. अब निजी फिटनेस जांच केन्द्र की दूरी अधिक होने पर वाहन मालिक परिवहन विभाग के कार्यालयों में ही फिटनेस करवा सकेंगे. यानी निजी फिटनेस जांच केन्द्र पर फिटनेस की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है.  

2018 में वाहनों की फिटनेस को लेकर विशेष स्कीम बनाई थी: 
परिवहन विभाग ने अप्रैल 2018 में वाहनों की फिटनेस को लेकर विशेष स्कीम बनाई थी. इसे वाहन फिटनेस जांच केन्द्र विनियमन स्कीम फिजा-2018 नाम दिया गया था. स्कीम के तहत वाहनों की फिटनेस केवल निजी फिटनेस जांच केन्द्रों पर ही करवाने की अनिवार्यता लागू की गई थी. लेकिन इसे लेकर बड़ी संख्या में वाहन मालिकों को परेशानी हो रही थी. राजधानी जयपुर में पिछले माह तक कोई निजी फिटनेस जांच केन्द्र नहीं था. एक निजी फिटनेस जांच केन्द्र को पिछले माह ही मंजूरी दी गई है. जबकि कई अन्य जिलों में भी निजी फिटनेस जांच केन्द्रों की कमी रही है. ऐसे में वाहन मालिकों के सामने यह दिक्कत आ रही थी कि वे वाहनों की फिटनेस कहां करवाएं. इसके अलावा निजी फिटनेस जांच केन्द्र शहर से लम्बी दूरी पर स्थित होने के चलते भी वाहन मालिकों को वाहनों की फिटनेस जांच करवाने में परेशानी झेलनी पड़ रही थी. अब इस मामले में परिवहन विभाग ने वाहनों की फिटनेस करवाने को लेकर राहत दी है.  

जरूरी नहीं कि निजी केन्द्र पर ही फिटनेस करवाएं: 
- फिजा स्कीम के बिन्दु संख्या 6 में किया गया आंशिक संशोधन
- यदि शहर के 10 किमी के क्षेत्र में नहीं है निजी फिटनेस जांच केन्द्र
- तो सम्बंधित आरटीओ-डीटीओ में करवाई जा सकती है वाहन की फिटनेस
- जिला परिवहन अधिकारी के पास कर सकते हैं फिटनेस का आवेदन
- सम्बंधित कार्यालय जारी करेगा वाहन का फिटनेस प्रमाण पत्र
- जयपुर के जगतपुरा आरटीओ में भी जारी रहेगी वाहन फिटनेस
- फिटनेस केन्द्रों की शहर से अधिक दूरी को देखते हुए लिया निर्णय
- इससे वाहन मालिकों का बचेगा शहर से बाहर जाने का डीजल-पेट्राेल
- परिवहन कार्यालय शहर के बीच में होते हैं, इसलिए राहत मिलेगी

परिवहन विभाग की ओर से जारी नए आदेशों में यह भी स्पष्ट किया गया है कि राजस्थान रोडवेज की बसों की फिटनेस जांच केवल परिवहन कार्यालयों में ही की जाएगी. रोडवेज के बेड़े में शामिल सभी तरह की बसों के फिटनेस प्रमाण पत्र संबंधित प्रादेशिक परिवहन कार्यालयों और जिला परिवहन कार्यालयों में ही बनाए जाएंगे. कुलमिलाकर इन दोनों आदेशों से न केवल आम वाहन मालिकों को राहत मिलेगी, बल्कि वे अपनी पसंद के मुताबिक निजी फिटनेस जांच केंद्र या फिर परिवहन कार्यालयों में फिटनेस पत्र बनवा सकेंगे. 

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज़, जयपुर

और पढ़ें

Most Related Stories

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

जयपुर: राजस्थान में विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण पर एसओजी ने शनिवार को प्रेसवार्ता की. एसओजी ADG अशोक राठौड़ ने कहा कि हमने मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री से समय मांगा है. हमने परिवाद के आधार पर FIR दर्ज नहीं की है. हमने फोन पर बातचीत के आधार पर FIR दर्ज की है. एसओजी ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. कुछ देर में दोनों की कोर्ट में पेशी होगी.

अनूठी पहल...! शादी में शामिल हुए मेहमानों को भेंट किए पौधे, देखभाल की दिलाई शपथ

दोनों आरोपियों के आरोप हुए सिद्ध:
आपको बता दें कि SOG ने अशोक सिंह और भारत मलानी को हिरासत में लिया था. दोनों आरोपियों के आरोप सिद्ध हुए है. अब दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है. ADG अशोक राठौड़ ने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है. दोनों से हमें महत्वपूर्ण जानकारियां मिली है. उसी के अधार पर अब अग्रिम कार्रवाई शुरू की जाएगी. 

सूरतगढ़ में रिश्तों का हुआ कत्ल, लाठी के वार से पिता ने उतारा पुत्र को मौत के घाट

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेसवार्ता के बाद बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनियां-राजेन्द्र राठौड़ की संयुक्त पीसी हुई. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया VC के जरिये जुड़े. प्रेसवार्ता में सीएम गहलोत के बयानों का सतीश पूनिया ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि सीएम की प्रेसवार्ता से सबको उम्मीद थी को वो जनता के हित का कोई निर्णय सुनाएंगे. लेकिन मेरे अब तक के राजनीतिक करियर में मुख्यमंत्री गहलोत को इतना विचलित कभी नहीं देखा. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई: 
सीएम गहलोत ने पत्रकार वार्ता में जो बात कही उससे साफ तौर पर नजर आ रहा था कि उनकी मन में हताशा, निराशा और बौखलाहट ये सब नजर आ रही थी. इसका कारण पूरे देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई. बड़े प्रदेशों में गिनती करें तो केवल राजस्थान बचा है. लेकिन रोचक बात ये है मुख्यमंत्री इतने पर्यावरण प्रेमी है, इतने जीवजंतु प्रेमी है कि कभी वो घोड़े की बात करते हैं और आज बकरे की कर दी. अब कोई उनसे पूछे की राजस्थान के विधायक बकरा मंडी कैसे हो सकते हैं. इसका जवाब उन्हें देना चाहिए. उन्होंने बेशर्मी जैसी भाषा का इस्तेमाल किया. हालांकि ये बात जरूर है कि वो घोड़े और बकरे की बात करते करते हाथि को भूल जाते हैं, हाथि का अस्तित्व ही खत्म कर देते हैं. 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

देश के लोकतंत्र में आपातकाल लगाने का काम इंदिरा गांधी के समय हुआ:
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने देश में लोकतंत्र की हत्या की बात कही. वो स्व इंदिरा गांधी के नेता के समय के नेता है. उनको ध्यान होना चाहिए कि देश में आपातकाल लगाने का काम देश के लोकतंत्र में पहली बार उन्ही की सरकार में हुआ. आज वो दुहाई देते हुए अनु. 356 का दुरुपयोग 93 कांग्रेस ने ही किया. इतना ही राजस्थान में भैरूसिंह जी की सरकार को अस्थिर करने के लिए भजनलाल जी का अटैची कांड बड़ा फैमस हुआ था. सीएम गहलोत ने अपनी बातों में कोरोना का जिक्र किया. मैं पिछले दिनों से देख रहा हूं कि सीएम गहलोत ने अपनी सरकार की विफलताओं को छिपाने के लिए कोरोना को लेकर बीजेपी नेताओं पर आरोप लगाने के अलावा कोई काम नहीं किया. राजस्थान कोरोना में पूरी तरह से फेल हो गया. इसके साथ ही पूनिया ने कई मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा. 


 

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

जयपुर: विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर चिकित्सा विभाग की ओर से पुरस्कार वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया. साथ ही 11 से 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा भी शुरू किया गया है. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने परिवार नियोजन की दिशा में बेहतर करने वाले 6 जिलों को सम्मानित किया.

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे: 
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि बढ़ती हुई जनसंख्या से हमारे विकास कार्य भी नजर नहीं आते. पेयजल, आवास, खाद्यान्न की समस्या इसी वजह से बढ़ रही हैं. इसी से रोजगार की समस्या भी बढ़ रही है. यदि जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे. आने वाली पीढ़ी के लिए छोड़ने के लिए हमारे पास संसाधन नहीं बचेंगे. वर्ष 1989 में पहली बार 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस शुरू किया गया, उद्देश्य यही है कि जनसंख्या को नियंत्रित किया जा सके. चिकित्सा मंत्री ने ये विचार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से व्यक्त किए. डॉ रघु शर्मा ने कहा कि पहले नारा था, 'हम दो हमारे दो'. लेकिन अब नारा 'हम दो, हमारा एक' होना चाहिए. एक तरफ जहां देश की टोटल फर्टिलिटी रेट 2.2 है, वहीं हमारे राज्य की दर 2.5 है. यानी यह राष्ट्रीय औसत से ज्यादा है, इसलिए जनता को जागरूक होना जरूरी है. जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की शुरुआत करते हुए परिवार नियोजन के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले जिलों को सम्मानित किया गया. झालावाड़ जिले को पहला पुरस्कार मिला और पुरस्कार राशि के रूप में 15 लाख रुपए दिए जाएंगे. दूसरा पुरस्कार अजमेर जिले को, तृतीय पुरस्कार भीलवाड़ा जिले को मिला. चौथा स्थान हनुमानगढ़, पांचवा श्रीगंगानगर और छठा स्थान कोटा जिले को मिला. सम्बंधित जिलों के जिला कलक्टर और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी इस दौरान मौजूद रहे. 

कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही:  
कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री ने कहा कि कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही है. अब मरीज ज्यादा बढ़ रहे हैं, पिछले 1 सप्ताह में 500 से 700 नए मरीज मिल रहे हैं.  इसके पीछे ज्यादा टेस्ट किया जाना बड़ा कारण है. हम रोज 41700 टेस्ट कर रहे हैं. लोगों को अब ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. चुनौती के इस दौर में हमने दूसरे राष्ट्रीय कार्यक्रमों को जारी रखा है. कोरोना के अलावा दूसरे मरीजों को परेशानी नहीं हो, इसके लिए 700 मोबाइल ओपीडी वैन चलाई जा रही हैं. हमारे भीलवाड़ा और रामगंज मॉडल की चर्चा है. इस मौके पर निरोगी राजस्थान अभियान के प्रशिक्षण कार्यक्रम की भी शुरुआत की गई. 41645 गांवों में 80 हजार स्वास्थ्य मित्र लगाने की शुरुआत की जा रही है. 15 जुलाई तक प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा किया जाएगा. इससे ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाएं बेहतर होंगी. चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि राज्य में परिवार कल्याण के लिए कर्मचारी-अधिकारी बेहतर कार्य कर रहे हैं. कोरोना के चलते जिस तरह के अनुमान हैं कि 70 लाख अनवांटेड प्रेग्नेंसी के केस सामने आ सकते हैं, इन चुनौतियों से भी निपटना होगा. 

 बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे:
कार्यक्रम में उस समय रोचक स्थिति हो गई जब ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत किया जा रहा था और सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे. चिकित्सा मंत्री इस बात से थोड़े नाराज दिखे. उन्होंने कहा सरपंच कार्यक्रम में क्यों मौजूद नहीं हैं. मंत्री ने परिवार नियोजन के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के लिए चिकित्सा अधिकारियों को बधाई दी. राजकीय संस्थाओं के अलावा इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले निजी अस्पतालों को भी सम्मानित किया गया. 

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर
 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने प्रदेश में चल रहे विधायकों की खरीद-फरोख के प्रकरण पर खुल कर बात की. इसके साथ ही पत्रकारों के सवालों का भी जादुई तरीके से जवाब दिया. एक सवाल के जवाब में सीएम गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री बनना कौन नहीं चाहता. 5-7 लोग होंगे उनमें मुख्यमंत्री बनने की योग्यता होती है. लेकिन मुख्यमंत्री एक ही बन सकता है, और एक मुख्यमंत्री बनने के बाद बाकी सब शांत होते हैं. हमारे यहां घोर शांति है. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच 

गुटबाजी तो भाजपा में है: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुटबाजी तो भाजपा में है. इस कारण इनकी प्रदेश कार्यकारिणी भी नहीं बन पा रही है. वसुंधरा जी का आजकल नाम कम आता है, चेहरा तो वसुंधरा का होना चाहिए था. वसुधरा राजे का उपयोग तो आप नहीं कर पाते, 2 बार सीएम रहने के बाद भी उनका उपयोग नहीं हो रहा है. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

जयपुर: ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आ रही है. तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी जांच होगी. विधायक खुशवीर सिंह, सुरेश टांक, ओम प्रकाश हुड़ला के खिलाफ जांच होगी. इन पर आदिवासी इलाकों में जाकर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप है. मिली जानकारी के अनुसार डूंगरपुर, बांसवाड़ा इन इलाकों में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा था. डीजी आलोक त्रिपाठी ने इस खबर की पुष्टि की है. 
 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि मैं देश-प्रदेश की स्थिति की चर्चा के लिए आया हूं. इस दौरान सीएम ने कोरोना की स्थिति पर बात रखी. साथ ही कहा कि कोरोना महामारी मैं राजस्थान का लोहा पूरे देश ने माना है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. अरुणाचल प्रदेश में विधायकों को खरीद लिया. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे:  
उन्होंने कहा कि सतीश पूनिया और राजेंद्र राठौड़ सरकार गिराने के लिए खेल खेल रहे हैं. मध्य प्रदेश के अंदर जैसी घटना हुई उसी तरह राजस्थान में भी खेल करने की कोशिश है. बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे हैं. लेकिन राजस्थान में हमने इनकी चाल नहीं चलने दी. सबक सिखाने के बाद ये लोग नहीं मान रहे हैं. 70 साल में कांग्रेस ने लोकतंत्र बचाने का काम किया है. लेकिन आज-कल भाजपा के लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं. देश में कभी भी इस तरह के हालात नहीं बने हैं. CBI, ED का मिस यूज किया जा रहा है.  

राजस्थान में 5 साल सरकार चलेगी: 
सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार स्थिर है और 5 साल चलेगी. हम अगला चुनाव जीतने में लग गए हैं. उसी के अनुसार बजट दिया है. आलाकममना के इशारे पर प्रदेश भाजपा खेल कर रही है. राजेन्द्र राठौड़, सतीश पूनिया व गुलाब चंद कटारिया का नाम लेते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि इनके आका दिल्ली में बैठे हुए है. अब उनके टारगेट पूरा करने के लिए इन तीनों में होड़ मची हुई है. 'हकीकत के आधार पर जांच होनी चाहिए. हम कोई मीडिया ट्रायल नहीं कराना चाहते. मैं SOG का डीजी नहीं हूं. नए-नए नेता बने हैं इसलिए मैं कुछ नहीं कहता, मेरे पास सूचना के सोर्स है. 

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

जयपुर: प्रदेश में विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कोई अंदरूनी विवाद नहीं है. भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए. साथ ही कहा कि राज्यसभा चुनाव की तरह भाजपा के विधायक न खिसक जाए. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी  

गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश: 
महेंद्र चौधरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है. भाजपा के शीर्ष नेता, प्रदेश के नेता और प्रदेश के केंद्रीय मंत्री इसमें शामिल है. ये लोग चाहे जितनी कोशिश कर ले लेकिन कामयाब नहीं होंगे. सुनिए उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने क्या कुछ कहा...
 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी

जयपुर: राजस्थान में राज्यसभा चुनावों के बाद एक बार फिर सियासी पारा उफान पर है. लगातार विधायकों की खरीद-फरोख्त का प्रकरण में आरोप-प्रत्यारोप जारी है. अब मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी ने कहा कि मुझे धमकी दे रहे हैं, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे. कटारिया जी-पूनिया जी विशेषाधिकार हनन लेकर तो आए. CM के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव उनकी बौखलाहट का परिचायक है. फिर भी हम स्वागत करते हैं, संवैधानिक प्रक्रिया का जवाब देंगे. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG  

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार:
इसके साथ ही डॉ. महेश जोशी ने बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा है कि हमारी सरकार जांच एजेंसियों को प्रभावित नहीं कर रही है. ये कार्य बीजेपी राज में होता था. SOG की जांच निष्पक्ष और प्रभावी ढंग से हो रही है. मुझे भी बयान देने के लिए बुलाया गया है. हम तो इसलिये आगाहै क्योंकि पड़ोसी राज्यों में बीजेपी ने क्या किया यह सबकों पता है. 

जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं:
इसके साथ ही मुख्य सचेतक ने कहा कि किसी भी कांग्रेसी का ईमान नहीं डिगेगा, जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं. इस बात का मुझे पूरा भरोसा है. बता दें कि डॉ. महेश जोशी को भी SOG ने नोटिस जारी किया है. SOG ने महेश जोशी को बयान देने के लिए बुलाया है. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 

Open Covid-19