जयपुर VIDEO: डीएपी-यूरिया की नहीं होगी किल्लत! अन्नदाता की मांग पर राज्य सरकार ने बढ़वाया कोटा, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: डीएपी-यूरिया की नहीं होगी किल्लत! अन्नदाता की मांग पर राज्य सरकार ने बढ़वाया कोटा, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: राजस्थान के अन्नदाता के लिए खुशखबरी है. राज्य सरकार की मांग पर केंद्र सरकार ने प्रदेश के किसानों के लिए डीएपी और यूरिया का आवंटन कोटा बढ़ा दिया है. अब इस रबी फसल के सीजन में किसानों को डीएपी और यूरिया की किल्लत नहीं झेलनी होगी. इसी माह केन्द्र की ओर से राज्य के किसानों के लिए पर्याप्त मात्रा में डीएपी और यूरिया मिल जाएगा. 

रबी सीजन की बुवाई शुरू हो चुकी है. पूर्वी राजस्थान से सरसों और चना की बुवाई का सीजन शुरू हो रहा है. प्रदेशभर में सरसों की फसल की बुवाई अक्टूबर माह के अंत तक पूरी कर ली जाएगी. इसके साथ ही अक्टूबर माह के अंत तक गेहूं की बुवाई भी शुरू हो जाएगी. रबी सीजन की इन फसलों की बुवाई से पूर्व किसानों को बड़ी मात्रा में डीएपी की दरकार होगी. पिछले सालों में डीएपी की कमी की शिकायतें आ रही थी. इसके लिए कृषि विभाग ने इस बार शुरू से ही तैयारी कर ली थी. रबी सीजन के लिए डीएपी और यूरिया का जो कोटा स्वीकृत था, उसे बढ़ाने के लिए पत्र लिखे गए. कृषि एवं पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया ने पिछले माह ही केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मांडविया को पत्र लिखा था. प्रदेश में रबी सीजन में फसलों का रकबा बढ़ने और डीएपी व यूरिया की अधिक डिमांड होने की बात कही गई. कृषि मंत्री कटारिया के पत्र के अलावा कृषि विभाग के प्रमुख सचिव दिनेश कुमार और कृषि आयुक्त कानाराम ने केन्द्र सरकार में जाकर अफसरों के साथ वार्ता की. कृषि आयुक्त कानाराम ने लगातार दिल्ली के दौरे कर डीएपी और यूरिया की मांग को बढ़ाने की मांग की थी.

प्रदेश में अन्नदाता को चाहिए ज्यादा डीएपी

- इस बार रबी फसलों का रकबा करीब 4 लाख हैक्टेयर बढ़ेगा

- 112 लाख हैक्टेयर से बढ़कर रकबा 116 लाख हैक्टेयर होना संभव

- रबी के लिए डीएपी की स्वीकृत मांग 3 लाख मीट्रिक टन थी

- जिसे 4.5 लाख मीट्रिक टन करने के लिए राज्य सरकार ने केंद्र से मांग की

- केंद्र ने मांग मंजूर की, अब प्रदेश को 4.5 लाख मीट्रिक टन डीएपी मिलेगी

- इनमें से 2.05 लाख मीट्रिक टन डीएपी इसी माह मिल जाएगी

- यूरिया की स्वीकृत मांग 13 लाख मीट्रिक टन थी

- जिसे बढ़ाकर अब 14.50 लाख मीट्रिक टन कर दिया गया है

- इस महीने 4.50 लाख मीट्रिक टन यूरिया मिल जाएगा

- इस तरह डीएपी व यूरिया में कुल 3 लाख मीट्रिक टन का कोटा बढ़ा

रबी सीजन के लिए कृषि विभाग ने पर्याप्त उर्वरकों का संग्रह कर लिया है. केन्द्र सरकार से जिस मात्रा में उर्वरक मिल रहे हैं, उन्हें जिलेवार समीक्षा कर कृषि आदान विक्रेताओं तक पहुंचाया जा रहा है. विभाग इस बार किसानों को सरसों और अन्य फसलों के मिनी किट भी वितरित करने जा रहा है. प्रदेश के 31 जिलों में किसानों को 7 लाख 37 हजार सरसों की मिनी किट फ्री वितरित की जा रही हैं. इसके साथ ही 3 लाख किसानों को चारा मिनी किट भी बांटी जा रही हैं.

इस बार 3 गुना अधिक बांटी जा रही सरसों की मिनी किट

- पिछले सालों में 2 से ढाई लाख मिनी किट बांटी जाती थी

- इस बार 3 गुना अधिक बढ़ाकर 7.37 लाख किट बांटी जाएंगी

- कृषि पर्यवेक्षकों के जरिए नि:शुल्क मिनी किट बांटी जा रही

- 36 हजार मसूर दाल के मिनी किट भी बांटे जाएंगे

- 3 लाख किसानों को चारा मिनी किट भी दी जा रहीं
 

और पढ़ें