नई दिल्ली Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कोविड-19 वैक्‍सीन को लेकर ताजा जानकारी दी है. स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन के मुताबिक, देश में जो वैक्सीन कैंडिडेट्स हैं, उनमें से तीन ऐसी हैं जो फेज 1, 2 और 3 में पहुंच गई हैं. गुरुवार को उन्होंने राज्यसभा में बताया कि पीएम मोदी की गाइडेंस में एक्सपर्ट्स का एक ग्रुप भी बना है जो जो वैक्सीन से जुड़ी जानकारियों पर नजर रख रहा है. 

डॉ हर्षवर्धन ने उम्मीद जताते हुए बताया कि अगले साल की शुरुआत में भारत के भीतर कोविड-19 वैक्‍सीन उपब्लध हो जाना चाहिए. हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि जब वैक्सीन आ जाएगी तो जादू की तरह एक मिनट में 135 करोड़ लोगों को लगाकर इम्‍युनिटी नहीं दे पाएगी, वैक्‍सीन तैयार होने में वक्‍त लगेगा. हषवर्धन ने यह तो नहीं बताया कि कौन सी तीन वैक्‍सीन कैंडिडेट्स हैं जो डेवलपमेंट में हैं, लेकिन भारत में फिलहाल कोविड-19 की कई वैक्‍सीन डेवलप हो रही हैं. ऐसे में हम आपको टॉप-3 वैक्सीन के बारे में बता रहे हैं...

सीरम इंस्टिट्यूट कर रहा 'कोविशील्‍ड' का ट्रायल: 
ICMR के महानिदेशक बलराम भार्गव के मुताबिक, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) वैक्‍सीन का फेज 3 ट्रायल कर रहा है. इस वैक्सीन को यूनवर्सिटी और फार्मा कंपनी अस्‍त्राजेनेका मिलकर तैयार कर रही है. यह दुनिया की सबसे ऐडवांस्‍ड वैक्‍सीन कैंडिडेट्स में से एक है. सीरम इंस्टिट्यूट देशभर में 14 जगहों पर डेढ़ हजार लोगों पर इस वैक्‍सीन का ट्रायल करेगा. 

Covaxin वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल जारी:
Covaxin वैक्‍सीन को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और भारत बायोटेक ने मिलकर तैयार किया है. पुणे के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरलॉजी (NIV) में कोरोना के एक स्‍ट्रेन को आइसोलेट कर Covaxin बनी है. यह एक 'इनऐक्टिवेटेड' वैक्‍सीन है. पिछले दिनों भारत बायोटेक ने बताया कि जानवरों पर यह वैक्‍सीन पूरी तरह से असरदार रही है. देश में फिलहाल इस वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल चल रहा है. 

वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा:
जायडस कैडिला हेल्‍थकेयर की वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा है. देश में बनी इस वैक्‍सीन के ह्यूमन ट्रायल की परमिशन ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने जुलाई में दी थी. ये वैक्‍सीन पहले चूहों और खरगोश पर टेस्‍ट की गई है और उसका डेटा DGCI को सबमिट किया गया था.  
 

और पढ़ें