मेलबर्न Covid-19: कोविड के उपचार के लिए पैक्सलोविड खाने वालों को दोबारा संक्रमण का जोखिम ज्यादा

Covid-19: कोविड के उपचार के लिए पैक्सलोविड खाने वालों को दोबारा संक्रमण का जोखिम ज्यादा

Covid-19: कोविड के उपचार के लिए पैक्सलोविड खाने वालों को दोबारा संक्रमण का जोखिम ज्यादा

मेलबर्न: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन की तरह कोविड से पीड़ित कई लोगों के लिए, महामारी के चंगुल से निकलना कठिन होता जा रहा है. ऐसे लोगों में कोविड परीक्षण का परिणाम नकारात्मक होने के बाद फिर से सकारात्मक हो गया है और हलकी खांसी भी फिर से लौट रही है.

बाइडेन को कोविड के लिए नकारात्मक परीक्षण के कुछ दिनों बाद ही शनिवार को फिर से सकारात्मक पाया गया. राष्ट्रपति बाइडेन का एंटीवायरल पैक्सलोविड के साथ इलाज किया गया था, इस उम्मीद में कि यह उन्हें तेजी से ठीक होने और गंभीर बीमारी के जोखिम को कम करने में मदद देगा.

पैक्सलोविड क्या है और यह कैसे काम करता है?
पैक्सलोविड एक संयोजन उपचार है जो दो अलग-अलग एंटीवायरल निरमाट्रेलविर और रिटोनाविर का उपयोग करता है. निरमाट्रेलविर वायरस को संख्या बढ़ाने से रोकने का काम करता है. यह प्रोटीज नामक एक वायरल एंजाइम को रोककर ऐसा करता है. कई अन्य वायरसों की तरह सार्स-कोव-2, भी "सक्रिय" होने के लिए प्रोटीज पर निर्भर करता है. प्रोटीज के बिना, वायरस प्रतिकृति चक्र पूरा नहीं हो सकता है और वायरस सक्रिय नहीं हो सकता है.

इस तरह यह वायरस को "मारने" के बजाय, नए "सक्रिय" वायरस कणों को बनने से रोकता है. रिटोनाविर एक "बूस्टिंग एजेंट" है जो निरमाट्रेलविर के चयापचय को रोकता है, जिसका अर्थ है कि यह आपके सिस्टम में अधिक समय तक रहता है. एचआईवी जैसे संक्रमणों में अन्य प्रोटीज एंटीवायरल की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए रिटोनाविर का उपयोग कम खुराक में किया जाता है.

पैक्सलोविड उपचार में दो निरमाट्रेलविर 150एमजी टैबलेट और एक रिटोनाविर 100एमजी टैबलेट एक साथ, हर 12 घंटे में पांच दिनों तक लेना शामिल है. सभी एंटीवायरल की तरह, कोविड के निदान के बाद जल्द से जल्द पैक्सलोविड का कोर्स शुरू करना महत्वपूर्ण है. यह लक्षणों की शुरुआत के पांच दिनों के भीतर होना चाहिए, इसलिए यह वायरस प्रतिकृति को कम कर सकता है और इसलिए शरीर में वायरस के प्रसार को कम कर सकता है.

यह कितना प्रभावी है?
एक नैदानिक ​​परीक्षण में, पैक्सलोविड ने अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु के जोखिम में 89% की कमी दिखाई. इलाज कराने वालों में कोई मौत दर्ज नहीं की गई. अध्ययन में शामिल लोगों की तुलना में, जिन्होंने दवा प्राप्त नहीं की, पैक्सलोविड उपचार ने अध्ययन के पांचवें दिन मापा जाने पर वायरल लोड को भी कम कर दिया.

तो रिबाउंड क्या है?
रिबाउंड तब होता है जब कोई व्यक्ति वायरस को ठीक कर लेता है और "समाप्त" कर लेता है, जिसका अर्थ है कि अति संवेदनशील पीसीआर परीक्षण में वह नकारात्मक होता है और उसमें बीमारी का कोई लक्षण भी नहीं होता है. फिर कुछ दिनों बाद, परीक्षण में वह फिर से सकारात्मक पाए जाते हैं या उनमें लक्षण वापस आते हैं.

रिबाउंड केवल उन्हीं लोगों में नहीं होता है जिन्होंने पैक्सलोविड लिया है - यह उन लोगों के साथ भी हो सकता है जिन्होंने कोविड होने पर कोई दवा या उपचार प्राप्त नहीं किया है. एक अध्ययन जिसकी अभी समीक्षा की जानी है (स्वतंत्र रूप से सत्यापित) में यह भी पाया गया है कि कुछ मामलों में सुधार की प्रारंभिक अवधि के बाद रोगियों के लक्षण और वायरल लोड बिगड़ जाता है. "रिबाउंड" यह सुझाव देता है कि संक्रमण का प्रभाव सब में एक जैसा नहीं हो सकता है.

हमें शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता की जरूरत:
अब उन लोगों में रिबाउंड प्रभाव की रिपोर्टें बढ़ रही हैं, जिनका इलाज पैक्सलोविड के साथ किया गया था, जिसमें राष्ट्रपति बाइडेन भी शामिल थे. बाइडेन ने पैक्सलोविड के अपने पांच दिन के कोर्स को समाप्त किया और वायरस के लिए नकारात्मक परीक्षण किया. तीन दिन बाद, उन्होंने दोबारा सकारात्मक परीक्षण किया.

रिबाउंड क्यों और कैसे होता है यह अभी भी ठीक से ज्ञात नहीं है. हम क्या जानते हैं कि पैक्सलोविड किसी व्यक्ति के शरीर में वायरस को दोहराने से रोकता है. यह वहां पहले से मौजूद वायरस को नहीं मारता है. इसके लिए हमें शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता की जरूरत होती है. एक सिद्धांत यह है कि प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस को मारने में मदद करने के लिए वायरस प्रतिकृति को दबाने के लिए पांच-दिवसीय कोर्स पर्याप्त नहीं है.

संक्रमण लौटने के कारणों पर अनुसंधान जारी है:
या शायद उपचार शुरू होने का समय प्रभावित करता है कि प्रतिरक्षा प्रणाली कैसे काम करती है. एक अन्य सिद्धांत यह है कि दवा को उस तरह से नहीं लिया जा रहा है, जिस तरह से लिया जाना चाहिए. बहरहाल पैक्सलोविड लेने वालों में वायरस का संक्रमण लौटने के कारणों पर अनुसंधान जारी है.

11,000 लोगों में पैक्सलोविड के बाद दोबारा संक्रमण का एक हालिया अध्ययन, जिसकी अभी तक सहकर्मी-समीक्षा (स्वतंत्र रूप से सत्यापित) नहीं हुई है, ने पाया कि उपचार के सात दिनों के बाद, 3.53% प्रतिभागियों में सकारात्मक पीसीआर परीक्षण थे और 2.31% में रिबाउंड के लक्षण थे. 30 दिनों के बाद, 5.40% ने सकारात्मक परीक्षण किया और 5.87% में लक्षण थे. तो सिर्फ इसलिए कि आपने सार्स-कोव-2 एंटीवायरल उपचार प्राप्त किया है, इसका मतलब यह नहीं है कि आप "ठीक" हो गए हैं.

संक्रमण की चपेट में दोबारा आने वाले कितने बीमार होते हैं?
जबकि वैज्ञानिक और डॉक्टर पैक्सलोविड रिबाउंड की जांच के शुरुआती चरण में हैं, शुरुआती रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि रिबाउंड हल्का होता है. लक्षण जो लौटते हैं वे आमतौर पर गंधलोप, गले में खराश या खांसी होते हैं.

अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता वाले गंभीर रिबाउंड मामलों की बहुत कम रिपोर्टें हैं और मेरी जानकारी के अनुसार ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है जिसमें रिबाउंड के परिणामस्वरूप मृत्यु हो गई हो. यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यदि आपको अभी भी लक्षण हैं तो आप अभी भी संक्रामक हो सकते हैं. ऑस्ट्रेलिया भर में दिशानिर्देश यह स्पष्ट करते हैं कि यदि आपके अलगाव की अवधि के बाद भी आपके लक्षण जारी हैं, तो आपको इस बात का ध्यान रखने की आवश्यकता है कि वायरस न फैले. हालांकि, रिबाउंड में एक व्यक्ति - भले ही वह लक्षण-मुक्त हो - भी वायरस फैलाने में सक्षम हो सकते हैं.

तो क्या पैक्सलोविड वह कर रहा है जिसकी हमें आवश्यकता है?
यदि आपका लक्ष्य उच्च जोखिम वाले लोगों में गंभीर बीमारी, अस्पताल में भर्ती और मृत्यु को रोकना है, तो पैक्सलोविड बहुत अच्छा काम कर रहा है. हालाँकि, यदि आप अपने लक्षणों की अवधि को कम करना चाहते हैं, तो शायद पैक्सलोविड वह चमत्कारी दवा नहीं है जिसकी हमें उम्मीद थी. सोर्स-भाषा

और पढ़ें