पश्चिमी राजस्थान में घुसकर नागौर तक पहुंचा टिड्डी दल, खेतों में चारे के साथ-साथ पेड़ पौधों को कर रही है चट 

पश्चिमी राजस्थान में घुसकर नागौर तक पहुंचा टिड्डी दल, खेतों में चारे के साथ-साथ पेड़ पौधों को कर रही है चट 

पश्चिमी राजस्थान में घुसकर नागौर तक पहुंचा टिड्डी दल, खेतों में चारे के साथ-साथ पेड़ पौधों को कर रही है चट 

नागौर: पश्चिमी राजस्थान के रास्ते जैसलमेर से नागौर बड़ा टिड्डी दल नागौर तक पहुंच गया है. नागौर में खींवसर विधानसभा क्षेत्र में पहुंचा और उसके बाद मुंडवा क्षेत्र में टिड्डी दल ने किसानों के खेतों में नुकसान पहुंचना शुरू किया है. 

टिड्डी ने किया हरे खेजड़ी के पेड़ों की पत्तियों को चट:
खतों में कुछ जो फसलें बाकी थी, उनको नुकसान हुआ है वहीं खेतो में पड़े चारे को भी टिड्डी दल ने चट कर दिया है. वहीं अब टिड्डी हरे खेजड़ी के पेड़ों की पत्तियों को चट कर रही है. वहीं छोटे पेड़ पौधे भी टिड्डी की वजह से नुकसान पहुंच रहा है. स्थानीय किसानों ने बताया कि टिड्डी दल ने ईनाणा रूपाथल रेन क्षेत्र में सबसे ज्यादा नुकसान किया गया है. 

जम्मू कश्मीर से प्रवासी मजदूर पहुंचे श्रीगंगानगर, प्रशासन ने नहीं ली सुध, सड़क पर ही रुकने को हुए मजबूर 

लंबे अरसे बाद क्षेत्र में टिड्डी दल आया:
ग्रामीणों ने बताया कि टिड्डी दल आने की सूचना प्रशासन को दी तो प्रशासन द्वारा स्प्रे कर दवाई का छिड़काव करवाया गया है. जिससे टिड्डी दल यहां से हटकर आगे रवाना हो गया है. वहीं टिड्डी ने तालाबों के पानी को भी गन्दा कर दिया गया है. ग्रामीणों ने बताया कि एक लंबे अरसे बाद क्षेत्र में टिड्डी दल आया है. ग्रामीण भी पीपे और बर्तनों को बजाकर टिड्डी दल भगाने का प्रयास कर रहे है. 

निजी स्कूलों को लेकर सीएम गहलोत ने दिए आदेश, फीस जमा नहीं होने पर स्कूल किसी विद्यार्थी का नाम नहीं काट सकेगा

और पढ़ें