टिम पेन ने दिया कप्तानी छोड़ने का संकेत, कहा- ऑस्ट्रेलिया एशेज में अगर इंग्लैंड को हरा देती है तो यह जाने का सही समय

टिम पेन ने दिया कप्तानी छोड़ने का संकेत, कहा- ऑस्ट्रेलिया एशेज में अगर इंग्लैंड को हरा देती है तो यह जाने का सही समय

टिम पेन ने दिया कप्तानी छोड़ने का संकेत, कहा- ऑस्ट्रेलिया एशेज में अगर इंग्लैंड को हरा देती है तो यह जाने का सही समय

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन ने संकेत दिया है कि अगर उनकी टीम इस साल एशेज क्रिकेट श्रृंखला में इंग्लैंड को हरा देती है तो वह कप्तानी से विदा ले लेंगे. उन्होंने स्टीव स्मिथ को अगला कप्तान बनाए जाने की भी हिमायत की.

भारतीय टीम के खिलाफ घरेलू श्रृंखला हारने के बाद से ही पेन पर कप्तानी से हटने का दबावः
सत्र की शुरूआत में सितारों के बिना खेल रही भारतीय टीम के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में ऑस्ट्रेलिया की हार के बाद से 36 वर्ष के पेन पर कप्तानी से हटने का दबाव है. वहीं स्मिथ 2018 के गेंद से छेड़खानी प्रकरण से पहले ऑस्ट्रेलिया के कप्तान थे.

पेन ने स्टीव को ऑस्ट्रेलिया का अगला कप्तान बनाए जाने का जताया समर्थनः
पेन ने न्यूज डॉट कॉम डॉट एयू से कहा कि निश्चित तौर पर मैं फैसले नहीं लेता लेकिन मैने जितना समय स्टीव की कप्तानी में खेला, वह शानदार था. वह तकनीक का धनी है. उन्होंने कहा कि वह बहुत कुछ मेरी तरह ही है. उसे काफी कम उम्र में कप्तानी सौंप दी गई जिसके लिए वह तैयार नहीं था. लेकिन जब तक मैं आया, वह परिपक्व हो गया था. उसके बाद दक्षिण अफ्रीका वाली घटना (गेंद से छेड़खानी) हो गई. लेकिन मैं उसे अगला कप्तान बनाए जाने का समर्थक हूं.

पेन संकेत-एशेज में इंग्लैंड का सफाया कर देते हैं तो वह जाने का सही समयः
पेन ने संकेत दिया कि ऑस्ट्रेलियाई टीम अगर इस साल एशेज में इंग्लैंड को हरा देती है तो वह पद छोड़ देंगे. उन्होंने कहा कि कम से कम अगले छह टेस्ट तक तो हूं. मुझे लगेगा कि समय सही है और हम एशेज में इंग्लैंड का सफाया कर देते हैं तो वह जाने का सही समय होगा.

भारत को बताया ध्यान हटाने में माहिरः
भारत के खिलाफ श्रृंखला के बारे में उन्होंने कहा कि वे आपका ध्यान हटाने में माहिर है. हम उसी में फंस गए. जैसे उन्होंने कहा कि वे गाबा नहीं जाएंगे तो हमें पता ही नहीं था कि हम कहां खेलेंगे. इससे हमारा फोकस हट गया. ऐसी अटकलें थी कि भारतीय टीम उस दौरे पर ब्रिसबेन में नहीं खेलना चाहती थी लेकिन भारत ने खेला और आखिरी दिन मैच जीतकर इतिहास रच दिया.
सोर्स भाषा

और पढ़ें