Live News »

प्रदेश के 49 शहरी निकायों के चुनाव में पर्चा दाखिल करने का समय समाप्त, 8 नवंबर तक लिए जा सकेंगे नाम वापस

प्रदेश के 49 शहरी निकायों के चुनाव में पर्चा दाखिल करने का समय समाप्त, 8 नवंबर तक लिए जा सकेंगे नाम वापस

जयपुर: प्रदेश के 49 शहरी निकायों के चुनाव में पर्चा दाखिल करने का समय आज दोपहर 3 बजे समाप्त हो गया है. निकाय चुनाव में बगावत की आशंका के चलते भाजपा और कांग्रेस ने आज अंतिम दिन ज्यादातर सीटों पर प्रत्याशियों की सूची जारी की है. कांग्रेस में इस बार पार्षद उम्मीदवार का टिकट देने में खास सावधानी बरती तो वहीं बीजेपी ने भी फूंक-फूंक कर कदम उठाएं. 

नामांकन के दौरान भी कई जगह अलग-अलग रूप देखने को मिले: 
वहीं आज नामांकन के दौरान भी कई जगह अलग-अलग रूप देखने को मिले. कहीं कोई प्रत्याशी सुबह पहले ही नामांकन भरने पहुंच गया तो कई जगह समय सीमा पूरे होने के डर से प्रत्याशी जल्दबाजी में दिखाई दिए. हालांकि कहां कितने नामांकन भरे गए हैं इसके बारे में फिलहाल निर्वाचन विभाग ने पूरी जानकारी नहीं दी है. ऐसे में विस्तार से जानकारी के लिए आपको कुछ समय का इंतजार करना होगा. 

196 निकायों के चुनाव चार चरणों में हो रहे: 
गौरतलब है कि प्रदेश के 196 निकायों के चुनाव चार चरणों में हो रहे हैं. ऐसे में पहला चरण आगामी 16 नंवबर होगा. इस बार राज्य सरकार ने निकाय चुनाव से पहले इसको लेकर कई बड़े परिवर्तन किए हैं. इनमें जयपुर, जोधपुर और कोटा में नगर निगमों की संख्या 2-2 करने के साथ ही निकाय प्रमुख का चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से कराया जाना भी तय किया गया है.

8 नवंबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे: 
पहले चरण के लिए नामांकन दाखिल होने के बाद अब  8 नवंबर तक नाम वापस लिए जा सकते है. उसके बाद 9 नवंबर को चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे. इस पूरी प्रक्रिया के बाद 16 नवंबर को निकाय चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे. वोटिंग के 3 दिन बाद यानि 19 नवंर को नतीजे जारी किए जाएंगे. इसके बाद निकाय प्रमुख का चुनाव 26 नवंबर तो उपाध्यक्ष का चुनाव 27 नवंबर को होगा. 

और पढ़ें

Most Related Stories

खरीद-फरोख्त से जुड़े मसले पर बोले गुलाबचंद कटारिया, कहा-साबित कर दें मेरा रोल, तो पलभर में राजनीति से ले लूंगा संन्यास

उदयपुर: प्रदेश में विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में मचे बवाल के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा भाजपा पर सरकार को गिराने के प्रयास करने के आरोप लगाने के बाद गुलाबचंद कटारिया ने अपनी प्रतिक्रिया दी. 

पलभर की देर किए बिना ले लेंगे राजनीति से संन्यास:
उदयपुर पहुंचे गुलाबचंद कटारिया ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में साफ किया कि यदि सरकार बहुमत में है तो उसे डरने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री यदि इस बात को साबित कर दें की कटारिया का इसमें जरा सा भी हाथ है तो वह पलभर की देर किए बिना राजनीति से संन्यास ले लेंगे.

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी:
कटारिया ने साफ किया कि कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी है और जिस को छुपाने के लिए सत्ताधारी दल इस तरह के हथकंडे अपना रहा है. कटारिया ने कहा कि एसओजी पूरे मामले की जांच कर रही है और जांच में सब साफ हो जाएगा.

भरतपुर में फिर टिड्डियों का आतंक, किसानों के चेहरे पर छाई चिंता की लकीरें

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेसवार्ता के बाद बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनियां-राजेन्द्र राठौड़ की संयुक्त पीसी हुई. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया VC के जरिये जुड़े. प्रेसवार्ता में सीएम गहलोत के बयानों का सतीश पूनिया ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि सीएम की प्रेसवार्ता से सबको उम्मीद थी को वो जनता के हित का कोई निर्णय सुनाएंगे. लेकिन मेरे अब तक के राजनीतिक करियर में मुख्यमंत्री गहलोत को इतना विचलित कभी नहीं देखा. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई: 
सीएम गहलोत ने पत्रकार वार्ता में जो बात कही उससे साफ तौर पर नजर आ रहा था कि उनकी मन में हताशा, निराशा और बौखलाहट ये सब नजर आ रही थी. इसका कारण पूरे देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई. बड़े प्रदेशों में गिनती करें तो केवल राजस्थान बचा है. लेकिन रोचक बात ये है मुख्यमंत्री इतने पर्यावरण प्रेमी है, इतने जीवजंतु प्रेमी है कि कभी वो घोड़े की बात करते हैं और आज बकरे की कर दी. अब कोई उनसे पूछे की राजस्थान के विधायक बकरा मंडी कैसे हो सकते हैं. इसका जवाब उन्हें देना चाहिए. उन्होंने बेशर्मी जैसी भाषा का इस्तेमाल किया. हालांकि ये बात जरूर है कि वो घोड़े और बकरे की बात करते करते हाथि को भूल जाते हैं, हाथि का अस्तित्व ही खत्म कर देते हैं. 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

देश के लोकतंत्र में आपातकाल लगाने का काम इंदिरा गांधी के समय हुआ:
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने देश में लोकतंत्र की हत्या की बात कही. वो स्व इंदिरा गांधी के नेता के समय के नेता है. उनको ध्यान होना चाहिए कि देश में आपातकाल लगाने का काम देश के लोकतंत्र में पहली बार उन्ही की सरकार में हुआ. आज वो दुहाई देते हुए अनु. 356 का दुरुपयोग 93 कांग्रेस ने ही किया. इतना ही राजस्थान में भैरूसिंह जी की सरकार को अस्थिर करने के लिए भजनलाल जी का अटैची कांड बड़ा फैमस हुआ था. सीएम गहलोत ने अपनी बातों में कोरोना का जिक्र किया. मैं पिछले दिनों से देख रहा हूं कि सीएम गहलोत ने अपनी सरकार की विफलताओं को छिपाने के लिए कोरोना को लेकर बीजेपी नेताओं पर आरोप लगाने के अलावा कोई काम नहीं किया. राजस्थान कोरोना में पूरी तरह से फेल हो गया. इसके साथ ही पूनिया ने कई मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा. 


 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने प्रदेश में चल रहे विधायकों की खरीद-फरोख के प्रकरण पर खुल कर बात की. इसके साथ ही पत्रकारों के सवालों का भी जादुई तरीके से जवाब दिया. एक सवाल के जवाब में सीएम गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री बनना कौन नहीं चाहता. 5-7 लोग होंगे उनमें मुख्यमंत्री बनने की योग्यता होती है. लेकिन मुख्यमंत्री एक ही बन सकता है, और एक मुख्यमंत्री बनने के बाद बाकी सब शांत होते हैं. हमारे यहां घोर शांति है. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच 

गुटबाजी तो भाजपा में है: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुटबाजी तो भाजपा में है. इस कारण इनकी प्रदेश कार्यकारिणी भी नहीं बन पा रही है. वसुंधरा जी का आजकल नाम कम आता है, चेहरा तो वसुंधरा का होना चाहिए था. वसुधरा राजे का उपयोग तो आप नहीं कर पाते, 2 बार सीएम रहने के बाद भी उनका उपयोग नहीं हो रहा है. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

जयपुर: ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आ रही है. तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी जांच होगी. विधायक खुशवीर सिंह, सुरेश टांक, ओम प्रकाश हुड़ला के खिलाफ जांच होगी. इन पर आदिवासी इलाकों में जाकर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप है. मिली जानकारी के अनुसार डूंगरपुर, बांसवाड़ा इन इलाकों में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा था. डीजी आलोक त्रिपाठी ने इस खबर की पुष्टि की है. 
 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि मैं देश-प्रदेश की स्थिति की चर्चा के लिए आया हूं. इस दौरान सीएम ने कोरोना की स्थिति पर बात रखी. साथ ही कहा कि कोरोना महामारी मैं राजस्थान का लोहा पूरे देश ने माना है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. अरुणाचल प्रदेश में विधायकों को खरीद लिया. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे:  
उन्होंने कहा कि सतीश पूनिया और राजेंद्र राठौड़ सरकार गिराने के लिए खेल खेल रहे हैं. मध्य प्रदेश के अंदर जैसी घटना हुई उसी तरह राजस्थान में भी खेल करने की कोशिश है. बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे हैं. लेकिन राजस्थान में हमने इनकी चाल नहीं चलने दी. सबक सिखाने के बाद ये लोग नहीं मान रहे हैं. 70 साल में कांग्रेस ने लोकतंत्र बचाने का काम किया है. लेकिन आज-कल भाजपा के लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं. देश में कभी भी इस तरह के हालात नहीं बने हैं. CBI, ED का मिस यूज किया जा रहा है.  

राजस्थान में 5 साल सरकार चलेगी: 
सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार स्थिर है और 5 साल चलेगी. हम अगला चुनाव जीतने में लग गए हैं. उसी के अनुसार बजट दिया है. आलाकममना के इशारे पर प्रदेश भाजपा खेल कर रही है. राजेन्द्र राठौड़, सतीश पूनिया व गुलाब चंद कटारिया का नाम लेते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि इनके आका दिल्ली में बैठे हुए है. अब उनके टारगेट पूरा करने के लिए इन तीनों में होड़ मची हुई है. 'हकीकत के आधार पर जांच होनी चाहिए. हम कोई मीडिया ट्रायल नहीं कराना चाहते. मैं SOG का डीजी नहीं हूं. नए-नए नेता बने हैं इसलिए मैं कुछ नहीं कहता, मेरे पास सूचना के सोर्स है. 

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

जयपुर: प्रदेश में विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कोई अंदरूनी विवाद नहीं है. भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए. साथ ही कहा कि राज्यसभा चुनाव की तरह भाजपा के विधायक न खिसक जाए. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी  

गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश: 
महेंद्र चौधरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है. भाजपा के शीर्ष नेता, प्रदेश के नेता और प्रदेश के केंद्रीय मंत्री इसमें शामिल है. ये लोग चाहे जितनी कोशिश कर ले लेकिन कामयाब नहीं होंगे. सुनिए उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने क्या कुछ कहा...
 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी

जयपुर: राजस्थान में राज्यसभा चुनावों के बाद एक बार फिर सियासी पारा उफान पर है. लगातार विधायकों की खरीद-फरोख्त का प्रकरण में आरोप-प्रत्यारोप जारी है. अब मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी ने कहा कि मुझे धमकी दे रहे हैं, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे. कटारिया जी-पूनिया जी विशेषाधिकार हनन लेकर तो आए. CM के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव उनकी बौखलाहट का परिचायक है. फिर भी हम स्वागत करते हैं, संवैधानिक प्रक्रिया का जवाब देंगे. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG  

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार:
इसके साथ ही डॉ. महेश जोशी ने बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा है कि हमारी सरकार जांच एजेंसियों को प्रभावित नहीं कर रही है. ये कार्य बीजेपी राज में होता था. SOG की जांच निष्पक्ष और प्रभावी ढंग से हो रही है. मुझे भी बयान देने के लिए बुलाया गया है. हम तो इसलिये आगाहै क्योंकि पड़ोसी राज्यों में बीजेपी ने क्या किया यह सबकों पता है. 

जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं:
इसके साथ ही मुख्य सचेतक ने कहा कि किसी भी कांग्रेसी का ईमान नहीं डिगेगा, जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं. इस बात का मुझे पूरा भरोसा है. बता दें कि डॉ. महेश जोशी को भी SOG ने नोटिस जारी किया है. SOG ने महेश जोशी को बयान देने के लिए बुलाया है. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG

जयपुर: विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में अब परतें खुलने की संभावना जताई जा रही है. SOG ने ब्यावर से भारत भाई और उदयपुर से अशोक सिंह हिरासत में लिया है. उदयपुर निवासी अशोक हिस्ट्रीशीटर बताया जा रहा है. इन दोनों के मोबाइल नंबर ही सर्विलांस पर थे. दोनों की बातें सुनकर ही SOG ने मुकदमा दर्ज किया है. अब दोनों से जयपुर में विस्तृत पूछताछ होगी. इसके साथ ही मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी को भी SOG ने नोटिस जारी किया है. SOG ने महेश जोशी को बयान देने के लिए बुलाया है. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

राजनीति में एक बार फिर सियाली हलचल बढ़ी: 
राज्यसभा चुनावों के बाद राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर सियाली हलचल बढ़ गई है. आधी रात तक मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों व मंत्रियों की मुख्यमंत्री के साथ बैठक हुई. उधर डिप्टी सीएम पायलट दिल्ली दौरे पर है. इसके साथ ही 6-7 विधायक भी दिल्ली में डेरा डाले हुए है. इधर SOG में FIR दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत एक्शन मोड पर आ गए हैं. आज भी CMR पर विधायकों व मंत्रियों से मिलने का क्रम जारी रहेगा. इसके साथ ही इस पूरे प्रकरण पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं. 

SOG की FIR से बड़े खुलासे:  
वहीं SOG की FIR से बड़े खुलासे हुए हैं. FIR में 99292299xx और 89490656xx नंबरों का जिक्र किया गया है. इन फोन को सर्विलांस पर लिया गया था. तब सरकार को अस्थिर करने की कोशिश का खुलासा हुआ था. FIR में रमिला खड़िया, महेंद्र सिंह जीत मालवीय के नाम की चर्चा है. रमिला से भाजपा नेता द्वारा संपर्क का हवाला दिया गया है. वहीं मालवीय के बारे में भी हवाला दिया गया है. फोन की बातचीत में बताया गया कि मालवीय पहले उप मुख्यमंत्री के पाले में थे लेकिन अब पाला बदल लिया है. 

VIDEO: राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में प्रमुखता से लिया जा रहा रघुवीर मीना का नाम,  First India ने की बात 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 
 

Open Covid-19