VIDEO: सीएम गहलोत की घोषणाओं को पूरा करने में जुटा परिवहन विभाग, देखिए खास रिपोर्ट 

VIDEO: सीएम गहलोत की घोषणाओं को पूरा करने में जुटा परिवहन विभाग, देखिए खास रिपोर्ट 

जयपुर: कोरोना की दूसरी लहर के कहर और लोक डाउन के कारण हर विभाग का कामकाज इन दिनों प्रभावित रहा है, लेकिन परिवहन विभाग ऐसे कठिन समय मे भी सीएम की बजट घोषणाओं को पूरा करने में जुटा हुआ है. विपरीत परिस्थितियों के बाद भी परिवहन विभाग ने सीएम की मंशा के अनुरूप लोगों को सुविधाएं देने के लिए काबिले तारीफ काम किया है. कोरोना की दूसरी लहर और लॉकडाउन के कारण करीब सभी सरकारी विभागों का कामकाज खासा प्रभावित हुआ है,लेकिन परिवहन विभाग ने कोरोना की चुनौती के बाद भी कामकाज की स्पीड को निरंतर रखा है.कोरोना की दूसरी लहर में परिवहन विभाग को ऑक्सीजन का परिवहन करने के लिए टैंकरों की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी मिली थी. परिवहन आयुक्त महेंद्र सोनी और उनकी टीम ने टैंकरों की व्यवस्था करने के लिए बहुत अच्छा काम किया.

परिवहन विभाग के प्रयासों से टैंकरों की संख्या 6 से 50 के पार भी पहुंच गई. 1 महीने से अधिक समय तक कोरोना से जुड़ी व्यवस्थाओं में व्यस्त रहने के बाद भी परिवहन विभाग ने आमजन की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सीएम की बजट घोषणाओं को पूरा करने में एक मिसाल पेश की है. सीएम अशोक गहलोत ने बजट में जिन नए जिला परिवहन और उप परिवहन कार्यालयों की घोषणा की थी उनको अमलीजामा पहनाने के लिए परिवहन आयुक्त महेंद्र सोनी ने सभी प्रमुख काम पूरे कर लिए हैं. नए जिला परिवहन कार्यालयों को वाहनों के पंजीयन के लिए पंजीयन कोड आवंटित कर दिए हैं. वहीं उप परिवहन कार्यालयों के लिए लाइसेंस कोड भी जारी कर दिए हैं. नवगठित सभी जिला परिवहन कार्यालयों और उप परिवहन कार्यालयों के क्षेत्राधिकार भी परिवहन विभाग ने तय कर दिए हैं. इन सभी नए परिवहन कार्यालयों में अधिकारियों की नियुक्ति के लिए फ़ाइल भी परिवहन मंत्री को भेजी जा चुकी है.

परिवहन आयुक्त महेंद्र सोनी का कहना है कि उनकी कोशिश है कि इन सभी नए जिला परिवहन और उप परिवहन कार्यालयों का काम इसी महीने से शुरू कर दिया जाए. सोनी ने बताया के नए कार्यालयों के भवन लिए भी परिवहन विभाग के प्रयास लगातार जारी हैं. परिवहन विभाग की पहली कोशिश है कि नए कार्यालयों के संचालन के लिए रिक्त पड़े अनुपयोगी सरकारी भवनों में ऑफिस शुरू हो. इसके अलावा किराए के भवनों को तलाशने के प्रयास भी किए जा रहे हैं.

नए जिला परिवहन कार्यालयों के क्षेत्राधिकार, वाहन पंजीयन और लाइसेन्स कोड:
-पोकरण आरटीओ के अधीन आएंगे पोकरण और भणियाणा तहसील क्षेत्र 
-जिला परिवहन कार्यालय सादुलशहर के अधीन आएगा सादुलशहर तहसील क्षेत्र
-जिला परिवहन कार्यालय सुमेरपुर के अधीन आएंगे, सुमेरपुर बाली रानी और देसूरी उपखंड क्षेत्र
-उप परिवहन कार्यालय रावतभाटा के अधीन आएगा रावतभाटा तहसील क्षेत्र
-उप परिवहन कार्यालय जैतारण के अधीन आएंगे जैतारण और रायपुर उपखंड क्षेत्र
-उप परिवहन कार्यालय कुचामन सिटी के अधीन आएगा कुचामन तहसील क्षेत्र
-उप परिवहन कार्यालय खाजूवाला के अधीन रहेंगे खाजूवाला पूगल और छतरगढ़ उपखंड 
-उप परिवहन कार्यालय कामा के अधीन होंगे कामा और पहाड़ी उपखंड क्षेत्र 
-उप परिवहन कार्यालय चाकसू के अधीन होंगे चाकसू और कोटखावदा तहसील क्षेत्र
-पोकरण को मिला RJ-55 पंजीयन कोड:
-सादुलशहर का पंजीयन कोड होगा RJ-56
-सुमेरपुर का पंजीयन कोड होगा RJ -57

इन जिला परिवहन कार्यालयों में अब इन नए पंजीयन कोड से होगा वाहनों का रजिस्ट्रेशन:

-6 उप परिवहन कार्यालयों को आवंटित किए गए  ड्राइविंग लाइसेंस कोड
-कामां उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ-05-B
-चाकसू उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ -14-D
-खाजूवाला उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ-07-C
-रावतभाटा उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ-09-A
-जैतारण उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ -22-C
-कुचामन उप परिवहन कार्यालय का कोड होगा RJ-37-C

बहुत से विभाग अभी ऐसे हैं जिनमें मुख्यमंत्री की बजट घोषणाओं पर काम शुरू भी नहीं हुआ है लेकिन कोरोना की बड़ी चुनौती के बावजूद परिवहन विभाग ने जिस तरह से सीएम की बजट घोषणाओं को पूरा करने की दिशा में काम किया है वह दूसरे विभागों के लिए भी मिसाल बन गया. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र सिंह परमार की रिपोर्ट

और पढ़ें