Live News »

VIDEO: सरकार के पैमाने पर फेल परिवहन विभाग! एक भी आरटीओ राजस्व लक्ष्य पूरा करने में सफल नहीं

जयपुर: राज्य सरकार के कमाऊ विभागों में शामिल परिवहन विभाग इस वर्ष राज्य सरकार के मानकों पर विफल साबित हो रहा है. विभाग अभी तक राजस्व अर्जन के मामले में काफी पीछे है. खास बात यह भी है कि विभाग के 12 आरटीओ में एक भी आरटीओ ऐसा नहीं है, जो राजस्व लक्ष्य को पूरा कर रहा हो, जानिए, कौन आरटीओ है आगे और कौन पीछे, विशेष खबर-

पुलवामा आतंकी हमले को एक साल पूरा, राहुल गांधी ने पूछे तीन सवाल 

सरकार की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पा रहा परिवहन विभाग:
परिवहन विभाग राज्य सरकार के लिए राजस्व लाने वाले टॉप 5 विभागों में शामिल है. वाणिज्य कर विभाग, आबकारी और खान विभाग के बाद परिवहन विभाग चौथे नम्बर पर आता है, लेकिन इस वित्तीय वर्ष में अब तक परिवहन विभाग राज्य सरकार की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पा रहा है. परिवहन विभाग को राज्य सरकार ने जो राजस्व लक्ष्य दिया था, विभाग उसमें अभी 9 फीसदी पीछे चल रहा है. जनवरी माह तक के राजस्व अर्जन की समीक्षा में यह आश्चर्यजनक तथ्य आया है कि एक भी आरटीओ कार्यालय अपने लक्ष्य को पूरा करने में सफल नहीं रहा है. सीकर आरटीओ अब तक लक्ष्य हासिल करने में सबसे आगे है, लेकिन सीकर आरटीओ भी 100 फीसदी लक्ष्य अर्जित नहीं कर पाया है. रिवेन्यू के लिहाज से सबसे बड़ा रीजन जयपुर आरटीओ है, जो सभी 12 आरटीओ की रैंकिंग में छठे स्थान पर है. सबसे खराब हालात अजमेर, पाली और कोटा आरटीओ के हैं. राजस्व अर्जन को लेकर पिछले माह हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में विभाग के तत्कालीन आयुक्त राजेश यादव ने इन अफसरों को लताड़ भी लगाई थी. जनवरी माह तक विभाग को 4100 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित करना था, जिसमें से विभाग 3750 करोड़ रुपए अर्जित कर सका है. 

जानिए, जनवरी तक कौन आरटीओ आगे-कौन पीछे?

आरटीओ कार्यालय : रैंक : लक्ष्य था : अर्जित किया
सीकर :                  1 :   314 करोड़ : 312 करोड़
भरतपुर :                2 : 144 करोड़ : 140 करोड़
चित्तौड़गढ़ :           3 : 264 करोड़ : 252 करोड़
दौसा :                   4 : 126 करोड़ : 121 करोड़
अलवर :                5 : 233 करोड़ : 218 करोड़
जयपुर :                6 : 836 करोड़ : 770 करोड़
जोधपुर :               7 : 400 करोड़ : 370 करोड़
बीकानेर :              8 : 310 करोड़ : 280 करोड़
उदयपुर :              9 : 387 करोड़ : 346 करोड़
कोटा :                 10 : 274 करोड़ : 240 करोड़
पाली :                 11 : 229 करोड़ : 194 करोड़
अजमेर :              12 : 368 करोड़ : 309 करोड़

राज्य के सभी किसानों की गैर खातेदारी भूमि को खातेदारी में बदला जाएगा 

गौरतलब है कि परिवहन विभाग पिछले साल भी राजस्व लक्ष्य अर्जित करने में विफल साबित हुआ था. परिवहन विभाग को पिछले साल 5000 करोड़ रुपए का लक्ष्य अर्जित करना था, जिसमें विभाग 4576.22 करोड़ रुपए जुटाने में कामयाब रहा था. इस तरह विभाग पिछले साल भी 91.52 फीसदी पर अटक गया था. विभाग की मौजूदा प्रगति से यह समझा जा सकता है कि परिवहन विभाग इस वित्त वर्ष में भी राजस्व लक्ष्य पूरा करने में शायद ही सफल हो पाए. क्योंकि विभाग को मार्च तक 5650 करोड़ रुपए अर्जित करने हैं और विभाग जनवरी तक 4100 करोड़ के लक्ष्य में से 3750 करोड़ ही अर्जित कर सका है.

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in