12 साल की बच्ची की आंखों से हर दिन निकलते है 20 ग्राम नुकीले तिनके

Suryaveer Singh Tanwar Published Date 2019/05/22 02:37

जैसलमेर: जिले की भीखोड़ाई पंचायत के राजस्व गांव गोरालिया में एक 12 साल की बच्ची की आंखों से हर दिन लकड़ी के 20 ग्राम नुकीले तिनके निकल रहे हैं. करीब एक माह में अब तक एक किलो से अधिक तिनके निकल चुके हैं, लेकिन चिकित्सक भी इस अजीबोगरीब बीमारी के बारे में कुछ नहीं कर पा रहे हैं. 

जैसलमेर जिले की भीखोड़ाई पंचायत के राजस्व गांव गोरालिया में रहने वाली एक 12 साल की बच्ची रोशनी पुत्री नगरे खां को अजीबो-गरीब बीमारी है. इस बीमारी से घरवालों के साथ डॉक्टर भी हैरान है. रोशनी की बायीं आंख से लगातार एक माह से सख्त तिनके निकल रहे हैं. आंख से अब तक करीब एक किलो तिनके निकल चुके हैं. इसके चलते रोशनी को मामूली दर्द से भी गुजरना पड़ रहा है लेकिन कोई भी कुछ नहीं कर पा रहा है. इससे परेशान माता-पिता अंधविश्वास के चलते मौलवी के पास लेकर गए. फिर भी तिनके निकलते जा रहे हैं.एक घंटे तक बालिका के घर परिजनों के बीच बालिका बैठी रही तो दो बार आंखों से तिनके निकले. 

बीमारी के बारे में चिकित्सक भी कुछ नहीं बता पा रहे
इस दुर्लभ बीमारी के बारे में चिकित्सक भी कुछ बता नहीं पा रहे हैं. रोशनी के परिजनों ने बताया की एक माह में लगभग एक किलो के करीब तिनके रोशनी की आंखों से निकल चुके हैं. इन्हें मौलवी के कहने पर दफन कर दिए बावजूद स्थिति जस की तस बनी हुई है. रोशनी को खेलकूद और खाना खाने में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं आ रही है. रोशनी के चाचा ने बताया कि एक महीने पहले बच्चों के साथ खेलते हुए एकाएक रोशनी की आंखों में दर्द शुरू हो गया. वहीं थोड़ी ही देर में उसकी आंखों से लकड़ी के तिनके निकलने शुरू हो गए. पहले तो इस घटना को इतना गंभीर नहीं लिया था लेकिन यह सिलसिला एक दो दिन तक लगातार चलने लगा. रोशनी की आंखों में सुबह 8 से 9 बजे के बीच में और दोपहर 2 बजे से 4 बजे तक के बीच में आंखों में दर्द होने के साथ ही तिनके निकलते हैं. इसे देख पूरा परिवार सकते में है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in