ट्विटर ने अब संघ प्रमुख मोहन भागवत के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, नहीं दिख रहा एक भी ट्वीट

ट्विटर ने अब संघ प्रमुख मोहन भागवत के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, नहीं दिख रहा एक भी ट्वीट

ट्विटर ने अब संघ प्रमुख मोहन भागवत के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, नहीं दिख रहा एक भी ट्वीट

नई दिल्ली: सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर (twitter) ने अब संघ प्रमुख मोहन भागवत (RSS chief Mohan Bhagwat) के अकाउंट से ब्लू टिक (blue tick) हटा दिया है. ट्विटर ने भागवत के अकाउंट को अनवेरिफाइड किया है. शनिवार सुबह ही उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हट गया था और उसके बाद अब मोहन भागवत के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटाया गया है. ऐसे में केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच एक बार फिर से नया विवाद पैदा होने की संभावना है. हालांकि, वेंकैया नायडू का अकाउंट दो घंटे बाद दोबारा वेरिफाई कर दिया गया था.  

Image

सूत्रों मिली जानकारी के अनुसार उपराष्ट्रपति का अकाउंट एक्टिव नहीं होने के चलते ट्वीटर ने ब्लू टिक हटाया था. 6 महीने से अकाउंट पर लॉगिन नहीं किया था. मोहन भागवत के अकाउंट से भी ब्लू टिक हटने के पीछे यही वजह हो सकती है. मोहन भागवत का ट्विटर अकाउंट मई 2019 में बना था, लेकिन अभी उनके ट्विटर पर एक भी ट्वीट नहीं दिखा रहा है. मोहन भागवत से पहले आरएसएस के कई बड़े नेताओं के अकाउंट को भी ट्विटर ने अनवेरिफाई कर दिया था. इनमें सुरेश सोनी, सुरेश जोशी और अरुण कुमार जैसे नेता शामिल है. 

वहीं इससे पहले उपराष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट का ब्लू टिक हटाने की खबर आते ही ट्विटर पर 'Vice President of India' ट्रेंड होने लगा है. सोशल मीडिया पर काफी लोग ट्विटर के इस कदम का विरोध कर रहे हैं.  इधर, भारतीय जनता पार्टी मुंबई के प्रवक्ता सुरेश नखुआ ने ट्विटर पर सवालिया निशान लगाए हैं. उन्होंने इसे 'भारत के संविधान पर हमला' बताया है. बता दें कि नए आईटी नियमों को लेकर ट्विटर और भारत सरकार के बीच तकरार जारी है. ऐसे में यह ताज़ा मामला विवाद को और बढ़ा सकता है.

2 लाख से अधिक फॉलोअर्स:
बता दें कि संघ प्रमुख मोहन भागवत के पर्सनल अकाउंट को 2 लाख से अधिक लोग फॉलो करते हैं जबकि भागत इस अकाउंट से सिर्फ आरएसएस संगठन को ही फॉलो करते हैं. मोहन भागवत का ट्विटर अकाउंट मई 2019 में बना था, लेकिन अभी उनके ट्विटर पर एक भी ट्वीट नहीं दिखा रहा है. 


 

और पढ़ें