Live News »

चिड़ावा की दो बेटियों ने लिखी कामयाबी की इबारत

चिड़ावा की दो बेटियों ने लिखी कामयाबी की इबारत

चिड़ावा(झुंझुनू)। म्हारी बेटियां बेटा सूं कम ना है...फ़िल्म का ये डायलॉग फिलहाल सार्थक सिद्ध हो रहा है और कामयाबी की इबारत बेटियों ने लिख डाली । कुछ कर गुजरने की तमन्ना हो तो कामयाबी जरूर कदम चूमती है और बात बेटियों की आ जाये तो फिर तो कहना ही क्या ... जी हां चिड़ावा की दो लाड़ली बेटियों ने अपनी मेहनत के बलबूते कामयाबी की इबारत लिख डाली ।  

चिड़ावा की दो सगी बहनों ने अपनी मेहनत के बलबूते कामयाबी की इबारत लिख कर अपने परिजनों को गौरवान्वित किया है । गूगोजी की ढाणी निवासी जगदीश प्रसाद सैनी और शिक्षिका रूपवती की की बेटी प्रीति सैनी और प्रिया सैनी ने अपनी मेहनत और लगन के बलबूते साबित कर दिखाया है कि बेटों से किसी भी तरह से हमारी बेटियां भी कम नहीं है ।  बस जरूरत है उन्हें मौका देने और उनपर विश्वास जताने की है। 

यहाँ भी यही देखने को मिला की दोनों बहनों ने एक साथ जयपुर में रहकर परीक्षा की तैयारी की और एसएससी की तैयारी के दौरान ही दोनों ने एग्जाम दिए और दोनों को सफलता हाथ लग गयी । बड़ी बेटी प्रीति सैनी का दिल्ली में पुलिस में एसआई की पोस्ट पर सलेक्शन हुआ है तो वहीं छोटी बेटी प्रिया पिता की तरह ही एसआई पोस्ट पर ही सीआरपीएफ में चयनित हुई है । बड़ी बेटी प्रीति दिल्ली पुलिस में मिली जिम्मेदारी को बड़ी मानते हुए ईमानदारी से काम करने की बात कहती हैं । वहीं प्रिया को खुशी इस बात की ज्यादा है कि जिस पोस्ट पर उसके पिता हैं उस पोस्ट पर चयनित हुई है ।

दोनों बहनों के चयनित होने की सूचना जब परिजनों को मिली तो घर में ख़ुशी का माहौल बन गया । 100 साल के होने जा रहे दादा हो या फिर मां, चाचा, चाची या भाई, भाभी सभी खुशी से फूले नहीं समां रहे थे । इतनी खुशी हो भी क्यों ना .. एक ही घर से और वो भी दो सगी बहनों का सलेक्शन होना परिवार का सीना तो चौड़ा करता ही है । सीआरपीएफ में बतौर एसआई कश्मीर के उमामा बटालियन 25 में तैनात जगदीश प्रसाद सैनी और शिक्षिका रूपवती की बेटियों ने नाम रोशन जो किया है । बड़े दादा मास्टर दुलीचंद 100 साल के होने जा रहे हैं । लेकिन भाई की पोतियों की कामयाबी ने उन्हें बेहद उत्साहित कर दिया । उन्होंने बेटियों के हौसले को सलाम किया और कहा बेटियों ने सीना गर्व से चौड़ा कर दिया । 

और पढ़ें

Most Related Stories

Open Covid-19