विकास दुबे के दो और साथियों का एनकाउंटर, कानपुर में प्रभात तो इटावा में रणबीर ढेर

विकास दुबे के दो और साथियों का एनकाउंटर, कानपुर में प्रभात तो इटावा में रणबीर ढेर

कानपुर: फरीदाबाद में विकास दुबे की मदद करने वाले अपराधी प्रभात मिश्रा और रणबीर शुक्ला को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया है. इससे पहले पुलिस ने प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद के एक होटल से गिरफ्तार किया था. बताया जा रहा है कि प्रभात मिश्रा पुलिस कस्टडी से भागने का प्रयास कर रहा था. ऐसे में प्रभात को एनकाउंटर को मार दिया. 

VIDEO- राजस्थान: यातायात नियमों को तोड़ने पर अब लगेगा भारी भरकम जुर्माना, यहां देखें पूरी लिस्ट 

रणबीर शुक्ला को मार गिराया:  
वहीं विकास दुबे के एक दूसरे करीबी रणबीर शुक्ला को मार गिराया गया है. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रणबीर शुक्ला ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था. उसके बाद पुलिस को जैसे ही लूट की जानकारी मिली तो उसे सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया. 

तीन साथी भागने में कामयाब रहे:
इस दौरान रणबीर शुक्ला और पुलिस के बीच फायरिंग शुरू हो गई. इस फायरिंग में पुलिस ने रणबीर शुक्ला को ढेर कर दिया. हालांकि इस दौरान उसके तीन साथी भागने में कामयाब रहे. पुलिस ने रणबीर शुक्ला पर 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा था. वह भी कानपुर शूटआउट का एक आरोपी था. 

राजीव गांधी फाउंडेशन मामले में बोले राहुल, कहा- सच्चाई के लिए लड़ने वालों की कोई कीमत नहीं होती

प्रभात ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने का प्रयास किया:
वहीं प्रभात मिश्रा एनकाउंटर के बारे में पुलिस के एक अधिकारी ने बताते हुए कहा कि पुलिस की टीम प्रभात को लेकर फरीदाबाद से आ रही थी. रास्ते में गाड़ी पंचर हो गई, और इस दौरान प्रभात ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने का प्रयास किया. इसके बाद हुए एनकाउंटर में प्रभात मारा गया है. कुछ सिपाही भी घायल हुए हैं. इससे पहले पुलिस ने विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था. उस पर भी 50 हजार रुपये का इनाम था. वहीं पुलिस लगातार विकास दुबे की तलाश कर रही है. 
 

और पढ़ें