प्रयागराज Uttar Pradesh: प्रयागराज में दलित परिवार के चार लोगों की हत्या मामले में पुलिस ने दो और लोगों को किया गिरफ्तार

Uttar Pradesh: प्रयागराज में दलित परिवार के चार लोगों की हत्या मामले में पुलिस ने दो और लोगों को किया गिरफ्तार

Uttar Pradesh: प्रयागराज में दलित परिवार के चार लोगों की हत्या मामले में  पुलिस ने दो और लोगों को किया गिरफ्तार

प्रयागराज: प्रयागराज जिले के फाफामऊ थाना क्षेत्र के गोहरी गांव में दलित वर्ग के एक परिवार के चार लोगों की हत्या के मामले में पुलिस ने सोमवार को और दो लोगों को गिरफ्तार किया. पुलिस अधीक्षक (गंगापार) अभिषेक कुमार अग्रवाल ने बताया कि पुलिस को कुछ महत्वपूर्ण साक्ष्य मिले थे जिसमें मोबाइल की रिकॉर्डिंग और चैट शामिल है. इस संबंध में परिस्थितिजन्य साक्ष्य के मद्देनजर शशि पटेल और रजनीश पटेल को गिरफ्तार किया गया.

एसपी ने बताया कि फॉरेंसिक जांच में कुछ रिपोर्ट लंबित है. मामले की जांच में सहयोग नहीं करने के लिए इन दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मृतक परिवार ने जिन 11 लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी, उनके नमूने भी डीएनए जांच के लिए भेजे गए हैं. अग्रवाल ने बताया कि सोमवार को जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया गया उनके मोबाइल में रिकॉर्डिंग, चैट और आपत्तिजनक फोटो मिले हैं. घटना से पहले के चैट भी इनके मोबाइल में मिले हैं. पुलिस विस्तृत जांच कर रही है और समुचित धाराओं में इनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया जाएगा. इससे पहले पुलिस ने मामले में पवन सरोज नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया था. पुलिस के मुताबिक, पवन सरोज लगातार पीड़ित परिवार की एक लड़की को परेशान करता था और उसके मोबाइल पर मैसेज भेजता था. अंतिम मैसेज और परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर पवन सरोज को गिरफ्तार किया गया.

वहीं, गोहरी हत्याकांड मामले में आरोपी 11 लोगों में से चार लोगों को एक पुराने मामले में गिरफ्तार कर पहले ही जेल भेजा जा चुका है. उल्लेखनीय है कि फाफामऊ के गोहरी गांव में 24 नवंबर की रात दलित परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई थी. इस घटना के बाद 26 नवंबर को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार की महिलाओं का दुख साझा किया और इस घटना को लेकर सरकार पर निशाना साधा था. वहीं, बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने भी इस घटना को लेकर योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार की आलोचना की थी. सोर्स- भाषा

और पढ़ें