झालावाड़ रसद विभाग के दो अधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, 10 हजार रुपए की ली थी  रिश्वत 

रसद विभाग के दो अधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, 10 हजार रुपए की ली थी  रिश्वत 

रसद विभाग के दो अधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, 10 हजार रुपए की ली थी  रिश्वत 

झालावाड़: प्रदेश के झालावाड़ जिले में एसीबी द्वारा शुक्रवार को बडी कार्यवाही करते हुए मिनी सचिवालय स्थित रसद विभाग के प्रवर्तन अधिकारी एवं सूचना सहायक को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. रसद विभाग द्वारा राशन डीलर को अनियमितताओ का नोटिस जारी किया था उसके जवाब को फाइल करने के लिए दस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए एसीबी की टीम ने प्रवर्तन अधिकारी एवं सूचना सहायक को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. 

कोरोना से घबराए नहीं, सावधानी बरतें, राज्यपाल कलराज मिश्र ने की कोरोना की स्थिति की समीक्षा

अनियमितता पाए जाने पर नोटिस:
मिली जानकारी के मुताबिक झालावाड़ जिले के खानपुर तहसील के पीपलाज स्थित उचित मूल्य की दुकान (राशन डीलर) राजाराम माली को रसद अधिकारी द्वारा 31 अक्टूबर 2019 को निरीक्षण के दौरान अनियमितता पाए जाने पर नोटिस जारी करने उपरांत परिवादी राशन डीलर राजाराम माली द्वारा 13 नवम्बर 2019 को लिखीत जवाब पेश करने के उपरांत चार माह गुजर जाने के बाद भी नोटिस फाइल नहीं किया और फाइल करने के एवज में दोनों आरोपी द्वारा 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी जा रही थी. परिवादी राशन डीलर राजाराम माली द्वारा एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई. 

अपनी शर्ट में रखी रिश्वत की राशि:
शिकायत का सत्यापन किया गया सत्यापन के उपरांत शुक्रवार को एसीबी ने परिवादी को रसद विभाग के कमरा नम्बर 312 मे भेजा गया उक्त कमरे मे रसद अधिकारी का है इसी कमरे में रसद विभाग के प्रवर्तन अधिकारी प्रशांत यादव ने परीवादी से रिश्वत की राशि प्राप्त कर अपनी शर्ट की जेब में रख ली. इसी दौरान एसीबी की टीम ने मौके पर पहुंचकर प्रर्वतन अधिकारी से रिश्वत की दस हजार रुपए की राशि रंगे हाथ पकड ली. इसी दौरान सूचना सहायक रविन्द्र बैरवा भी साथ बैठा हुआ था दोनों को तुरंत ही एसीबी ने गिरफ्तार कर लिया और कार्यवाही प्रारम्भ शुरू कर दी. 

कोरोना पर राजस्थान के काम की देशभर में वाहवाही, चिकित्सकों की मॉनिटरिंग-दवा कॉम्बिनेशन से भी ये संभव

और पढ़ें