VIDEO: अगले साल होने वाले अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप के लिए टीम इंडिया में खेलेंगे प्रदेश के दो खिलाड़ी 

Naresh Sharma Published Date 2019/12/03 18:12

जयपुर: राजस्थान क्रिकेट के लिए गुड न्यूज आई है. अगले साल होने वाले अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप के लिए प्रदेश के दो गेंदबाज भरतपुर के आकाश सिंह व जोधपुर के रवि बिश्नोई को भारतीय टीम में शामिल किया गया है. विश्वकप से पहले दोनों ही खिलाड़ी द अफ्रीका दौरे पर भी जाएंगे. आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत ने दोनों खिलाड़ियों को फोन करके बधाई दी है. 

आकाश की जबरदस्‍त गेंदबाजी:
दक्षिण अफ्रीका में 17 जनवरी से 9 फरवरी तक होने वाले अंडर-19 विश्व कप के लिए जूनियर टीम इंडिया की घोषणा कर दी गई है. भरतपुर के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आकाश सिंह व जोधपुर के स्पिनर रवि बिश्नोई को टीम में शामिल किया गया है. इसी साल श्रीलंका में हुए अंडर 19 एशिया कप में आकाश ने जबरदस्‍त गेंदबाजी की थी. उनके पिता खेती करते हैं और मां घर का कामकाज देखते हैं. आकाश अभी 11वीं कक्षा में पढ़ते हैं. उन्‍होंने पिछले महीने तमिलनाडु के खिलाफ सैयद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी के जरिए टी-20 डेब्‍यू किया था।

रवि बिश्नोई कोच की राय पर बने स्पिनर:
वहीं रवि बिश्नोई ने सूर्यनगरी के का नाम रोशन किया है. लेग स्पिनर रवि इन दिनों बेंगलुरु में बीसीसीआई के फिटनेस सेंटर में आठ अन्य खिलाड़ियों के साथ अभ्यास कर रहे है. बेंगलुरु से फोन पर बातचीत के दौरान खुशी से चहकते हुए हुए रवि ने कहा कि बरसों की मेहनत के बाद मुझे पूरी उम्मीद थी कि टीम में उनका चयन होगा. फिलहाल मेरा पूरा फोकस भारतीय टीम के खिताब की रक्षा करने में सहयोग देने पर केन्द्रित रहेगा. जोधपुर से बारहवीं तक पढ़ाई करने के साथ पूरी तरह से क्रिकेट को समर्पित रवि का कहना है कि देश के अन्य बच्चों की तरह उन्होंने अपनी गली में टेनिस बॉल के साथ क्रिकेट खेलने की शुरुआत की. उस समय ज्यादा दूर की नहीं सोची थी. रवि पहले तेज गेंदबाज बनना चाहते थे, लेकिन बाद में उन्होंने कोच की राय पर स्पिनर बनने का फैसला किया. रवि के पिता मांगीलाल शिक्षक है. रवि का पूरा दिन क्रिकेट मैदान पर ही गुजरने लगा. इससे पढ़ाई प्रभावित होने लगी तो शिक्षक पिता मांगीलाल ने काफी समझाया, लेकिन रवि अपने फैसले पर अडिग रहे. इसके बाद पिता ने भी उन्हें छूट प्रदान कर दी. भारतीय सीनियर टीम में राजस्थान के तीन खिलाड़ी पहले से ही है और अब जूनियर टीम में भी प्रदेश के दो खिलाड़ी शामिल हो गए हैं. आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत इस उपलब्धि पर खुशी नहीं समा रहे हैं. उन्होंने दोनों खिलाड़ियों को फोन करके बधाई दी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी दोनों खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी है. 

भारत की U-19 टीम: 
यशस्वी जायसवाल (मुंबई), तिलक वर्मा (हैदराबाद), दिव्यांश सक्सेना (मुंबई), प्रियम गर्ग (कप्तान- यूपी), ध्रुव चंद जुरेल (उपकप्तान और विकेट कीपर, यूपी), शाश्वत रावत (बड़ौदा), दिव्यांश जोशी (मिजोरम), शुभांग हेगड़े (कर्नाटत), रवि बिश्नोई (राजस्थान), आकाश सिंह (राजस्थान), कार्तिक त्यागी (यूपी), अथर्व अंकोलेकर (मुंबई), कुमार कुशाग्र (विकेट कीपर- झारखंड), सुशांत मिश्रा (झारखंड), विद्याधर पाटिल (कर्नाटक). 

विश्व कप के 13वें संस्करण में 16 टीमें:
दक्षिण अफ्रीका में होने वाले विश्व कप के 13वें संस्करण में 16 टीमें हिस्सा लेंगी, जिसके चार ग्रुप होंगे. टीम की कप्तानी मेरठ में जन्मे प्रियम गर्ग करेंगे. भारतीय टीम को ग्रुप-ए में रखा गया है, जिसमें पहली बार क्वालिफाई करने वाली जापानी टीम के अलावा न्यूजीलैंड और श्रीलंका की टीमें होंगी. प्रत्येक ग्रुप की शीर्ष दो टीमें सुपर लीग चरण के लिए क्वालिफाई करेंगी. भारतीय टीम को द्रविड़ी आर्मी ने तैयार की है. इस टीम में कोई कंडक्‍टर, तो कोई कारगिल हीरो का बेटा है. कोई खिलाड़ी गोलगप्‍पे बेचता था. 

राहुल द्रविड़ के मार्गदर्शन में खिलाड़ियों का चुनाव:
राहुल द्रविड़ के मार्गदर्शन में वर्ल्‍ड कप टीम के खिलाड़ियों को चुना गया है. वर्ल्‍ड कप के लिए खिलाड़ियों को चुने जाने से पहले भारतीय टीम ने कई टूर्नामेंट में हिस्‍सा लिया और इनमें अलग-अलग चेहरों को आजमाया गया है.  प्रियम गर्ग मेरठ के रहने वाले हैं. गरीबी की वजह से उनके पिता ने क्रिकेट खेलने से मना किया. बाद में बेटे की लगन देखकर उनके पिता साइकिल से दूध बेचकर बेटे के लिए पैसों की व्‍यवस्‍था करते थे. 17 साल के यशस्वी जायसवाल इस साल विजय हजारे ट्रॉफी के दौरान मुंबई की ओर से खेलते हुए लिस्ट ए क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बने थे. वे मूल रूप से उत्‍तर प्रदेश के भदोही के रहने वाले हैं. उनके पिता छोटी सी दुकान चलाते हैं. सपनों को पूरा करने के लिए वे बड़े शहर मुंबई चले गए. यहां पर उन्‍हें एक डेयरी शॉप में काम मिला. तीन साल तक यशस्‍वी एक टेंट में रहे. इस दौरान उन्‍होंने पेट भरने के लिए गोलगप्‍पे बेचकर पैसे कमाए. महाराष्ट्र के अथर्व अंकोलेकर बाएं हाथ के स्पिनर हैं. उनकी मां मुंबई में सरकारी बस में कंडक्‍टर हैं. उन्‍हीं की कमाई से घर का खर्चा चलता है. आगरा के रहने वाले ध्रुव जुरेल विकेटकीपर हैं और उनके पिता नेम सिंह जुरेन 1999 में करगिल युद्ध में लड़ चुके हैं. पिता उन्‍हें फौजी ही बनाना चाहते थे लेकिन ध्रुव ने क्रिकेट को चुना. अंडर-19 एशिया कप के लिए उन्‍हें कप्‍तानी दी गई थी. 

विश्व कप से पहले दक्षिण अफ्रीका दौरा:
विश्व कप से पहले U-19 भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका U-19 के खिलाफ तीन एक दिवसीय मैचों के लिए दक्षिण अफ्रीका की यात्रा करेगी. इसके बाद दक्षिण अफ्रीका U-19, भारत U-9, जिम्बाब्वे U-19 और न्यूजीलैंड U-19 के बीच चतुष्कोणीय सीरीज होगी. इस सीरीज के लिए भी आकाश व रवि बिश्नोई का चयन हुआ है. 

... संवाददाता नरेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in