महोबा, उत्तर प्रदेश UP: 18 घंटे के Rescue Operation के बाद भी नहीं बची नन्हीं जिंदगी, 4 साल के 'बाबू' की बोरवेल में गिरने से मौत

UP: 18 घंटे के Rescue Operation के बाद भी नहीं बची नन्हीं जिंदगी, 4 साल के 'बाबू' की बोरवेल में गिरने से मौत

UP: 18 घंटे के  Rescue Operation के बाद भी नहीं बची नन्हीं जिंदगी, 4 साल के 'बाबू' की बोरवेल में गिरने से मौत

महोबा: हाल ही में उत्तर प्रदेश के महोबा जिले से एक बच्चे के बोरवेल में गिर जाने का मामला सामने आया था. जिसके बाद उसका रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा था. मगर इसी दौरान खबर आई है कि बोरवेल में गिरे चार साल के बच्चे बाबू की मौत हो गई है. आपको बता दे कि करीब 18 घंटे तक चले अभियान के बाद आज तड़के सुबह करीब आठ बजे बच्चे का शव बोरवेल से बाहर निकाला जा सका है. आशंका जताई जा रही है कि बच्चे की मौत छह घंटे पहले ही हो चुकी थी. 

महोबा के जिलाधिकारी सत्येंद्र कुमार ने बताया है कि करीब 18 घंटे तक चले बचाव अभियान के बाद सुबह करीब साढ़े आठ बजे बच्चे को बोरवेल से बाहर निकालकर एंबुलेंस से अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है. अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) राजेन्द्र कुमार गौतम ने बताया है कि बोरवेल में 25 फीट की गहराई के नीचे पानी था और ऐसा लगता है कि बच्चा उसी पानी में गिर गया जिससे उसकी मौत हो गई है. 

वहीं, महोबा जिला अस्पताल के चिकित्सक डॉक्टर गुलशेर अहमद ने बताया कि जांच से ऐसा प्रतीत होता है कि अस्पताल लाने से छह घंटे पहले ही बच्चे की मौत हो चुकी थी. बुधौरा गांव में बुधवार अपरान्ह करीब ढाई बजे खेत में खेलते समय किसान भागीरथ कुशवाहा का चार साल का बेटा धनेंद्र उर्फ बाबू उसी के खेत के खुले बोरवेल में गिर गया था और वह 25 से 30 फीट की गहराई में नीचे फंसा हुआ था. जिसको बचाने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे थे. (सोर्स-भाषा)

और पढ़ें