Live News »

मुलायम सिंह यादव से मिलने पहुंचे योगी आदित्यनाथ, अखिलेश-शिवपाल भी रहे मौजूद

मुलायम सिंह यादव से मिलने पहुंचे योगी आदित्यनाथ, अखिलेश-शिवपाल भी रहे मौजूद

लखनऊ: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव से सोमवार को मुलाकात की. मुलायम सिंह यादव की तबियत रविवार को अचानक खराब हो गई थी, जिसके बाद उन्हें लखनऊ के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती करवाया गया. 

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुलायम सिंह यादव के साथ अखिलेश यादव और उनके भाई शिवपाल यादव से भी मुलाकात की. बतादें, मुलायम सिंह यादव को हाईपर ग्लाईसिमिया और हाईपर डायबीटीज की बिमारी है. यूपी सीएम योगी से पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख से रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी अस्पताल में मुलाकात की थी.  

और पढ़ें

Most Related Stories

विकास दुबे एनकाउंटर मामले पर बोले एडीजी, आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन उसने की फायरिंग 

विकास दुबे एनकाउंटर मामले पर बोले एडीजी, आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन उसने की फायरिंग 

नई दिल्ली: कानपुर शूटआउट के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे के एनकाउंटर मामले पर उत्तर प्रदेश में कानपुर पुलिस के एडीजी प्रशांत कुमार ने प्रेसवार्ता की. प्रशांत कुमार ने विकास दुबे के एनकाउंटर की पूरी कहानी बयां की. उन्होंने कहा कि पहले विकास दुबे से सरेंडर करने के लिए कहा गया था लेकिन उसने पुलिसवालों को जान मारने की नियत से फायरिंग की. जिसके बाद बचाव में पुलिस ने उसपर गोली चलाई.प्रशांत कुमार ने कहा कि मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा विकास दुबे को गिरफ्तार किए जाने के बाद यूपी एसटीएफ पुलिस उसे कानपुर ला रही थी. 

HARYANA : सीएम मनोहर लाल खट्टर ने की पीएम मोदी से मुलाकात, कई अहम मुद्दों पर हुई चर्चा

दुर्घटनाग्रस्त होकर पलट गई थी गाड़ी:
कानपुर पहुंचने से पहले पुलिस की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होकर पलट गई. 2 पुलिसकर्मी घायल हो गए. इस दौरान विकास दुबे ने घायल पुलिसवालों की पिस्टल छीनकर भागने का प्रयास किया. पुलिस टीम ने उसे घेरकर सरेंडर करने के लिए कहा गया. लेकिन वह नहीं माना और जान से मारने की नियत से पुलिस टीम पर फायरिंग करने लगा.

जवाबी कार्रवाई में लगी दुबे को गोली:
इसके बाद पुलिस ने आत्मरक्षा के लिए जवाबी कार्रवाई की गई, जिसमें वह घायल हो गया. उसे तुरंत इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. इस घटना में 4 पुलिसकर्मी घायल हुए, एसटीएफ के 2 कर्मी घायल हुए.गौरतलब है कि इससे पहले 8 पुलिस वालों की हत्या करने वाले 5 लाख के इनामी और यूपी के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे को बृहस्पतिवार सुबह बेहद नाटकीय तरीके से उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया. वारदात के बाद से फरार विकास यूपी, दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस को चकमा देकर दर्शन करने मंदिर पहुंचा था. गिरफ्तारी के बाद विकास से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में दो घंटे से ज्यादा पूछताछ की गई थी. 

जयपुर ACB की उदयपुर में बड़ी कार्रवाई, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का फाइनेंशियल एडवाइजर ट्रैप

अखिलेश, प्रियंका, दिग्विजय और सुरजेवाला ने उठाए विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल, जमकर साधा निशाना

अखिलेश, प्रियंका, दिग्विजय और सुरजेवाला ने उठाए विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल, जमकर साधा निशाना

लखनऊ: विकास दुबे के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद विपक्ष की ओर से लगातार एक के बाद एक प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है. सबसे पहले समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने इसको लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि दरअसल ये कार नहीं पलटी है, राज़ खुलने से सरकार पलटने से बचाई गयी है. 

वहीं विकास दुबे के मारे जाने की खबर के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक बार फिर सवाल उठाए हैं. प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि अपराधी का अंत हो गया, अपराध और उसको सरंक्षण देने वाले लोगों का क्या?

इसके साथ ही कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि जिसका शक था वह हो गया. विकास दुबे का किन किन राजनैतिक लोगों से, पुलिस व अन्य शासकीय अधिकारियों से उसका संपर्क था, अब उजागर नहीं हो पाएगा. पिछले 3-4 दिनों में विकास दुबे के 2 अन्य साथियों का भी एनकाउंटर हुआ है लेकिन तीनों एनकाउंटर का पैटर्न एक समान क्यों है?

विकास दुबे के मारे जाने की खबर के बाद ऱणदीप सुरजेवाला ने कहा कि विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया. कई लोगों ने पहले ही ये आशंका जताई थी. पर अनेकों सवाल छूट गए. उन्होंने पूछा- अगर उसे भागना ही था, तो उज्जैन में सरेंडर ही क्यों किया? उस अपराधी के पास क्या राज थे जो सत्ता-शासन से गठजोड़ को उजागर करते? पिछले 10 दिनों की कॉल डिटेल्ज़ जारी क्यों नहीं?

दूसरी ओर विपक्ष द्वारा उठाए गए सवालों का जवाब देते हुए मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कल जब विकास को जिंदा पकड़ा गया तो भी विपक्ष सवाल उठा रहा था आज जब मारा गया तब भी विपक्ष सवाल उठा रहा है.

विकास दुबे एनकाउंटर को लेकर अखिलेश यादव ने कसा तंज, कहा- कार नहीं पलटी, सरकार पलटने से बचाई गयी

विकास दुबे एनकाउंटर को लेकर अखिलेश यादव ने कसा तंज, कहा- कार नहीं पलटी, सरकार पलटने से बचाई गयी

लखनऊ: आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मास्टरमाइंड विकास दुबे का एनकाउंटर में अंत हो गया है. विकास दुबे का एनकाउंटर होते ही अब राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी आना शुरू हो गई है. सबसे पहले समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने इसको लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि दरअसल ये कार नहीं पलटी है, राज़ खुलने से सरकार पलटने से बचाई गयी है. 

विकास दुबे ने की थी पुलिसकर्मी की पिस्‍टल छीनने की कोशिश, पुलिस वैन पलटी और फिर खेल खत्म 

गिरफ्तारी पर खड़े किए थे सवाल: 
इससे पहले भी अखिलेश यादव ने गुरुवार को विकास दुबे की गिरफ्तारी पर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि ख़बर आ रही है कि ‘कानपुर-काण्ड’ का मुख्य अपराधी पुलिस की हिरासत में है. अगर ये सच है तो सरकार साफ़ करे कि ये आत्मसमर्पण है या गिरफ़्तारी. साथ ही उसके मोबाइल की CDR सार्वजनिक करे जिससे सच्ची मिलीभगत का भंडाफोड़ हो सके.

कांग्रेस का 'मिशन पंचायत '! अदालती आदेशों के बाद पायलट कैंप सक्रिय 

विकास दुबे ने पुलिस के एक जवान से हथियार छिनने का किया प्रयास: 
बता दें कि आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मास्टरमाइंड विकास दुबे का एनकाउंटर में अंत हो गया है. विकास को कमर में गोली लगी है जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया था. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. एनकाउंटर में STF के दो जवान भी घायल हुए हैं. दरअसल, कानपुर आते ही पुलिस के गाड़ी रास्ते में पलट गई. इसी दौरान विकास दुबे ने पुलिस के एक जवान से हथियार छीनकर भागने की कोशिश की और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में उसे 3 गोलियां लगीं. 


 

विकास दुबे ने की थी पुलिसकर्मी की पिस्‍टल छीनने की कोशिश, पुलिस वैन पलटी और फिर खेल खत्म

विकास दुबे ने की थी पुलिसकर्मी की पिस्‍टल छीनने की कोशिश, पुलिस वैन पलटी और फिर खेल खत्म

कानपुर: आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मास्टरमाइंड विकास दुबे का एनकाउंटर में अंत हो गया है. विकास को कमर में गोली लगी है जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया था. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. एनकाउंटर में STF के दो जवान भी घायल हुए हैं. दरअसल, कानपुर आते ही पुलिस के गाड़ी रास्ते में पलट गई. इसी दौरान विकास दुबे ने पुलिस के एक जवान से हथियार छीनकर भागने की कोशिश की और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में उसे 3 गोलियां लगीं. 

RPSC ने जारी किया RAS मेन-2018 का परिणाम, 1051 पदों के लिए जारी हुआ परिणाम

एसटीएफ ने विकास से हथियार रखकर सरेंडर करने को कहा: 
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, बर्रा के पास अचानक रास्‍ते में गाड़ी पलट गई. इस हादसे में विकास दुबे और एक सिपाही को भी चोटें आईं. इसके बावजूद भी विकास ने भागने का प्रयास किया. साथ ही इस दौरान उसने मौका देखकर एसटीएफ के एक अधिकारी की पिस्टल छीनकर का भी प्रयास किया. इस के बाद मुठभेड़ शुरू हो गई.  एसटीएफ ने विकास से हथियार रखकर सरेंडर करने को कहा. वह इसके बावजूद नहीं माना तो पुलिस को मजबूरन एनकाउंटर करना पड़ा. 

गाड़ी पलटते वक्त कानपुर में तेज बारिश हो रही थी:
बता दें कि जिस वक्त ये गाड़ी पलटी थी, उस वक्त कानपुर में तेज बारिश हो रही थी. एसटीएफ की गाड़ी काफी तेज रफ्तार से दौड़ रही थी, क्योंकि पीछे लगातार मीडिया की गाड़ी थी. इसी तेज रफ्तार के दौरान गाड़ी पलट गई.

VIDEO: अजमेर में सोनोग्राफी करवाने गई युवती के साथ छेड़छाड़, युवक की लात-घूंसों और चप्पलों से की पिटाई

उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से किया था गिरफ्तार:
इससे पहले आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले पांच लाख के इनामी और यूपी के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे को बृहस्पतिवार सुबह बेहद नाटकीय तरीके से उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया. वारदात के बाद से फरार विकास यूपी, दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस को चकमा देकर दर्शन करने मंदिर पहुंचा था. गिरफ्तारी के बाद विकास से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में दो घंटे से ज्यादा पूछताछ की गई. 
 

एनकाउंटर में मारा गया विकास दुबे, गाड़ी पलटने के बाद गंभीर रूप से हो गया था घायल

एनकाउंटर में मारा गया विकास दुबे, गाड़ी पलटने के बाद गंभीर रूप से हो गया था घायल

कानपुर: कानपुर के बिकरू गांव में डीएसपी सहित आठ पुलिस वालों की हत्या के मास्टरमाइंड विकास दुबे के एनकाउंटर में मारा जा चुका है. एसटीएफ मध्य प्रदेश के उज्जैन से उसे आज सुबह ही कानपुर लेकर आई थी. कानपुर आते ही पुलिस की गाड़ी रास्ते में पलट गई. 

RPSC ने जारी किया RAS मेन-2018 का परिणाम, 1051 पदों के लिए जारी हुआ परिणाम

पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर विकास दुबे ने भागने की कोशिश की: 
पता चला है कि गाड़ी पलटने के बाद घायल एसटीएफ के पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर विकास दुबे ने भागने की कोशिश की. इस दौरान साथ में वाहन चल रहे थे, उसमें पुलिस टीम ने विकास दुबे पर जवाबी फायरिंग की. इस दौरान विकास दुबे गंभीर रूप से घायल हो गया. उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

विकास दुबे और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई: 
बताया जा रहा है कि जब गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हुई, उस समय विकास दुबे भाग निकला. घटनास्थल से सात से आठ किलोमीटर की दूरी पर विकास दुबे और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई है. इस मुठभेड़ के दौरान विकास दुबे मारा गया. 

VIDEO: अजमेर में सोनोग्राफी करवाने गई युवती के साथ छेड़छाड़, युवक की लात-घूंसों और चप्पलों से की पिटाई

उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से किया था गिरफ्तार:
इससे पहले आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले पांच लाख के इनामी और यूपी के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे को बृहस्पतिवार सुबह बेहद नाटकीय तरीके से उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया. वारदात के बाद से फरार विकास यूपी, दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस को चकमा देकर दर्शन करने मंदिर पहुंचा था. गिरफ्तारी के बाद विकास से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में दो घंटे से ज्यादा पूछताछ की गई. 

विकास दुबे का मध्य प्रदेश से रहा पुराना कनेक्शन, 20 साल पहले दोस्त की बहन से गन पॉइंट पर की थी शादी

विकास दुबे का मध्य प्रदेश से रहा पुराना कनेक्शन, 20 साल पहले दोस्त की बहन से गन पॉइंट पर की थी शादी

कानपुर: कानपुर शूटआउट के मोस्टवॉन्टेड विकास दुबे ने उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर की पर्ची कटाई और इसके बाद खुद ही सरेंडर कर दिया. फिलहाल, स्थानीय पुलिस ने उसे कस्टडी में ले लिया है. यूपी पुलिस ने विकास दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है. यूपी पुलिस उसे सात दिन से खोज रही थी. मध्यप्रदेश से गिरफ्तार विकास दुबे का यहां से जबरदस्त कनेक्शन रहा है. 

मध्यप्रदेश: उज्जैन से गैंगस्टर विकास दुबे गिरफ्तार 

राजू खुल्लर की बहन रिचा को विकास दुबे पंसद करने लगा: 
विकास दुबे की दोस्ती शास्त्री नगर के मशहूर अपराधी राजू खुल्लर से हुई थी. विकास का राजू खुल्लर के घर आना जाना शुरू हो गया था. यहीं से विकास की लव स्टोरी की शुरूआत होती है. राजू खुल्लर की बहन रिचा को विकास दुबे पंसद करने लगा. रिचा और विकास दुबे दोनों एक दूसरे का पंसद करने लगे. बहन के प्रेम संबंधों की भनक रिचा के भाई राजू खुल्लर को लगी तो विकास दुबे उसकी आंखों में खटकने लगा. 

विकास ने गन पॉइंट पर रिचा से शादी की थी: 
विकास दुबे ने मध्य प्रदेश के शहडोल जिले के बुढ़ार कस्बे की रिचा निगम उर्फ सोनू से करीब 20 साल पहले कानपुर में लव मैरिज की थी. इस शादी से रिचा के घरवाले घिलाफ थे. उनके विरोध करने पर विकास ने गन पॉइंट पर रिचा से शादी की थी. इन दिनों विकास के काम रिचा खुद देख रही थी. विकास दुबे और राजू खुल्लर ने मिलकर कई बड़े अपराधों को अंजाम दिया था.

फिल्म अर्जुन पंडित ने विकास को सबसे ज्याद प्रभावित किया:
सन् 1999 में रिलीज हुई फिल्म अर्जुन पंडित ने विकास को सबसे ज्याद प्रभावित किया था. अर्जुन पंडित मूवी देखने के बाद विकास दुबे की जिद थी कि अब वो रिचा से शादी कर के रहेगा. विकास दुबे की धमकी से राजू खल्लर डर गया और रिचा और विकास से दूरी बना ली थी. इसके बाद विकास ने रिचा से शादी कर ली थी. अर्जुन पंडित फिल्म देखने के बाद विकास दुबे का सर नेम बदल गया और विकास पंडित बन गया. अर्जुन पंडित मूवी में सनी देओल ने गैंगस्टर का रोल किया था. 

Coronavirus Updates: पहली बार पिछले 24 घंटे में मिले करीब 25 हजार नए मामले, देश में अब 7.67 लाख केस 

दुबे की सारी सत्ता काफी हद तक सोनू के पास रही: 
वर्ष 2000 में ताराचंद्र इंटर कालेज के सेवानिवृत्त प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडेय और वर्ष 2001 में दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री की हत्या के बाद विकास कभी जेल में रहा तो कभी फरार रहा. अगले पांच वर्ष इसी लुकाछिपी में बीते. इस दौरान विकास दुबे की सारी सत्ता काफी हद तक राजू खुल्लर और उसकी बहन सोनू के पास रही.  


 

विकास दुबे के दो और साथियों का एनकाउंटर, कानपुर में प्रभात तो इटावा में रणबीर ढेर

विकास दुबे के दो और साथियों का एनकाउंटर, कानपुर में प्रभात तो इटावा में रणबीर ढेर

कानपुर: फरीदाबाद में विकास दुबे की मदद करने वाले अपराधी प्रभात मिश्रा और रणबीर शुक्ला को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया है. इससे पहले पुलिस ने प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद के एक होटल से गिरफ्तार किया था. बताया जा रहा है कि प्रभात मिश्रा पुलिस कस्टडी से भागने का प्रयास कर रहा था. ऐसे में प्रभात को एनकाउंटर को मार दिया. 

VIDEO- राजस्थान: यातायात नियमों को तोड़ने पर अब लगेगा भारी भरकम जुर्माना, यहां देखें पूरी लिस्ट 

रणबीर शुक्ला को मार गिराया:  
वहीं विकास दुबे के एक दूसरे करीबी रणबीर शुक्ला को मार गिराया गया है. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रणबीर शुक्ला ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था. उसके बाद पुलिस को जैसे ही लूट की जानकारी मिली तो उसे सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया. 

तीन साथी भागने में कामयाब रहे:
इस दौरान रणबीर शुक्ला और पुलिस के बीच फायरिंग शुरू हो गई. इस फायरिंग में पुलिस ने रणबीर शुक्ला को ढेर कर दिया. हालांकि इस दौरान उसके तीन साथी भागने में कामयाब रहे. पुलिस ने रणबीर शुक्ला पर 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा था. वह भी कानपुर शूटआउट का एक आरोपी था. 

राजीव गांधी फाउंडेशन मामले में बोले राहुल, कहा- सच्चाई के लिए लड़ने वालों की कोई कीमत नहीं होती

प्रभात ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने का प्रयास किया:
वहीं प्रभात मिश्रा एनकाउंटर के बारे में पुलिस के एक अधिकारी ने बताते हुए कहा कि पुलिस की टीम प्रभात को लेकर फरीदाबाद से आ रही थी. रास्ते में गाड़ी पंचर हो गई, और इस दौरान प्रभात ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने का प्रयास किया. इसके बाद हुए एनकाउंटर में प्रभात मारा गया है. कुछ सिपाही भी घायल हुए हैं. इससे पहले पुलिस ने विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था. उस पर भी 50 हजार रुपये का इनाम था. वहीं पुलिस लगातार विकास दुबे की तलाश कर रही है. 
 

विकास दुबे पर अब पांच लाख का इनाम, तलाश में छापेमारी जारी

विकास दुबे पर अब पांच लाख का इनाम, तलाश में छापेमारी जारी

कानपुर: कानपुर शूटआउट कांड में फरार मुख्य कुख्यात आरोपी विकास दुबे पर एक बार फिर इनाम की राशि बढ़ाई गई है. अब विकास दुबे के बारे में जानकारी देने वाले को 5 लाख रुपए का इनाम मिलेगा. चौबेपुर में हुई आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में लगातार विकास और उसके साथियों की धर पकड़ जारी है. 

Rajasthan Corona Updates: अस्पताल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाने पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत, लगातार बढ़ रही संक्रमितों की संख्या 

दोनों को सिर पर 25 हजार का इनाम था: 
इससे पहले बुधवार को हमीर पुर में विकास के करीबी अमर को मुठभेड़ में मारने के बाद विकास के एक और साथी श्यामू बाजपेयी को कानपुर में पुलिस ने दबोचा है. इन दोनों को सिर पर 25 हजार का इनाम था. अमर बदमाशों द्वारा घात लगाकर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में शामिल था. 

केंद्रीय गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, राजीव गांधी फाउंडेशन के लेनदेन की होगी जांच 

विकास की तलाश में पुलिस की अनेक टीमें लगी हुई: 
गौरतलब है कि 2 जुलाई की रात को बिकारू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या के बाद से ही गैंगस्टर विकास दुबे फरार है. उसकी तलाश में छापेमारी जारी है. फरीदाबाद एक होटल में विकास दुबे के छिपे होने की खबर मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने छापेमारी की. यहां विकास दुबे नहीं मिला, लेकिन उसका गुर्गा प्रभात मिला. विकास की तलाश में पुलिस की अनेक टीमें लगी हुई हैं. विकास दुबे के रिश्तेदार प्रभात समेत तीन लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है.


 

Open Covid-19