Ayodhya Verdict: अयोध्या फैसले को चुनौती नहीं देगा सुन्नी वक्फ बोर्ड

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/11/09 16:11

लखनऊ: अयोध्या राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आज आ गया है. इस फैसले को लेकर तरह तरह की टिप्पणियां सामने आ रही हैं. इसी बीच तरह तरह की अटकलों को विराम देते हुए सुन्नी वक्फ बोर्ड की ओर से जफर फारुकी ने कहा कि बोर्ड अयोध्या विवाद पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर नहीं करेगा. 

सुन्नी वक्फ बोर्ड एक अहम पक्षकार:
फारुकी ने बताया कि बोर्ड की ओर से फैसले का स्वागत किया गया है और उन्होंने कहा कि हम पहले से कह चुके हैं कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा उसे दिल से माना जाएगा. फारुकी ने कहा कि सभी को भाईचारे के साथ इस फैसले का सम्मान करना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर कोई वकील या अन्य व्यक्ति बोर्ड की तरफ से कोर्ट के फैसले को चुनौती देने की बात कह रहा है तो उसे सही न माना जाए. बता दें कि इस केस में सुन्नी वक्फ बोर्ड एक अहम पक्षकार है. फारुकी से जब ओवैसी की टिप्पणी को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ओवैसी कौन हैं, मैं उनको नहीं जानता और न ही कभी उनसे मिला हूं. इससे पहले ओवैसी ने इस फैसले को चुनौती देने और मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन न लेने की बात कही. 

विवादित जमीन पर बनेगा मंदिर:
बता दें कि कोर्ट ने इस फैसले में विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को देने का फैसला किया है, यानी विवादित जमीन पर राम मंदिर बनेगा. जबकि कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही मस्जिद बनाने के लिए अलग जगह पर 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है.


 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in