अफगानिस्तान में फंसा UP का युवक, सांसद ने कहा सकुशल कराई जाएगी वापसी

अफगानिस्तान में फंसा UP का युवक, सांसद ने कहा सकुशल कराई जाएगी वापसी

अफगानिस्तान में फंसा UP का युवक, सांसद ने कहा सकुशल कराई जाएगी वापसी

शाहजहांपुर: अफगानिस्तान में नौकरी करने गया शाहजहांपुर जिले का एक युवक वहां फंसा हुआ है और देश पर तालिबान के कब्जे के मद्देनजर उसके परिजन कई रातों से जागकर अपने लाडले की सकुशल वापसी की प्रार्थना कर रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी के क्षेत्रीय सांसद अरुण सागर ने भरोसा दिलाया है कि युवक की सकुशल वापसी सुनिश्चित की जाएगी.

प्राप्त सूचना के अनुसार, जिले के सदर बाजार थाना क्षेत्र के चिनौर निवासी जीत बहादुर सिंह थापा (35) करीब ढाई साल पहले नौकरी के सिलसिले में अफगानिस्तान गया था और इस बीच वह दो बार घर भी लौटा. थापा फिलहाल काबुल की एक कंपनी में हेल्पर का काम कर रहा था.
थापा की बहन संतोषी थापा ने पीटीआई-भाषा को बताया कि अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के बाद थापा के साथ कंपनी में काम कर रहे सभी 111 भारतीयों को वहां से चले जाने का आदेश जारी किया गया, जिसके बाद वे सभी करीब 30 किलोमीटर पैदल चलकर एक देश के दूतावास में पहुंचे हैं.

संतोषी थापा ने अपने भाई से फोन पर हुई बातचीत के आधार पर बताया कि मेरे भाई बहुत डरा हुआ है. उसे दो दिन बाद आज खाना मिला है. उन्होंने बताया कि आज सुबह एक मिनट की वीडियो कॉल से भाई ने बात की है जिसमें उसने दिखाया कि 111 लोग जमीन पर बैठे हैं और बाद में कॉल डिस्कनेक्ट हो गया. उन्होंने बताया कि हमारे घर में मां सहित आठ सदस्य हैं. पिछले चार दिनों से हम रात-दिन अपने भाई की सही-सलामत वापसी की प्रार्थना कर रहे हैं.

 

संतोषी ने बताया कि आज उसने दिल्ली दूतावास में भी बात कि थी, जहां से बताया गया कि रक्षा विभाग से अनुमोदन प्राप्त होते ही विमान अफगानिस्तान भेजा जाएगा. इससे पहले दूतावास के कर्मचारियों आदि को लेने के लिए एक विमान को वहां भेजा गया था. भारतीय जनता पार्टी के सांसद अरुण सागर ने फोन पर पीटीआई-भाषा को बताया कि अफगानिस्तान में फंसे शाहजहांपुर के युवक के बारे में उन्हें पता है और उन्होंने इस संबंध में दिल्ली अधिकारियों से बात की है. सांसद ने दावा किया कि थापा की सकुशल वापसी सुनिश्चित की जाएगी. इस संबंध में पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों से उनका पक्ष लेने का प्रयास किया गया परंतु किसी ने कोई टिप्पणी नहीं की. (भाषा) 

और पढ़ें