UP: AMU प्रशासन जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में लगवाएगा ऑक्सीजन प्लांट, VC ने मंजूर की धनराशि

 UP: AMU प्रशासन जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में लगवाएगा ऑक्सीजन प्लांट, VC ने मंजूर की धनराशि

 UP: AMU प्रशासन जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में लगवाएगा ऑक्सीजन प्लांट, VC ने मंजूर की धनराशि

अलीगढ़: देश में करना के कारण कई जाने जा चुकी है. जिनमें से कुछ लोगों ने तो अपनई जिंदगी इस लिए खो दी क्योंकि उनको समय पर ऑक्सीजन नहीं मिल पाई. पूरे देश में कोरोना महामारी के चलते सबसे ज्यादा समस्या अब ऑक्सीजन की आ रही है. जिस तादाद में मरीजों की संख्या बढ़ रही है, उतनी पर्याप्त मात्रा में लोगों को ऑक्सीजन (Oxygen) नहीं मिल पा रही है. चाहे बड़े अस्पताल हो या छोटे अस्पताल अब संचालकों ने ऑक्सीजन की कमी के चलते लोगों को एडमिट करना भी बंद कर दिया है. इससे हालात और भी भयावह हुए हैं. इस बीच अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने फैसला किया है कि जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में एक आक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। 

प्लांट के लिए डेड करोड़ रुपए स्वीकृत किए: 
जानकारी के अनुसार, अलीगढ़ में भी पिछले काफी दिनों से ऑक्सीजन का संकट (Oxygen Crisis) चल रहा है. लगातार कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. यहां तक कि एएमयू के मेडिकल कॉलेज में भी ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रही है. इस स्थिति को देखते हुए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर ने एएमयू के मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) लगाने का फैसला किया है. इसके लिए एक करोड़ 41 लाख (One Crore 41 Million) रुपए भी उन्होंने स्वीकृत किए हैं.

कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी आई है: 
बताया जा रहा है कि इससे मेडिकल कॉलेज को तो ऑक्सीजन मिलेगी साथ ही साथ ऑक्सीजन सिलेंडर को भी रिफिल किया जा सकेगा। यह सारी प्रक्रिया तीन से चार हफ्तों के अंदर पूरी हो जाएगी. वाइस चांसलर प्रोफेसर तारिक मंसूर (Vice Chancellor Professor Tariq Mansoor) ने एक करोड़ 41 लाख रुपए स्वीकृत किए है. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी उमर सलीम (Public Relations Officer Omar Salim) पीरजादा ने बताया कि जिस तरह से हमने देखा कि कोविड-19 का दूसरा चरण फिर से आया है. जिससे ऑक्सीजन की सप्लाई में कमी हुई है. इसलिए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा. 

बताया कि इसके लिए वाइस चांसलर प्रोफेसर तारिक मंसूर ने एक करोड़ 41 लाख रुपए स्वीकृत किए हैं। इससे यह फायदा होगा कि प्रोडक्शन ही नहीं ऑक्सीजन सिलेंडर की रिफिलिंग (Cylinder Refilling) भी की जाएगी और इस प्लांट के इंस्टॉलेशन का प्रोसेस लगभग 3 से 4 हफ्ते में पूरा हो जाएगा. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी आपदा में लोगों के साथ खड़ी हैं.

और पढ़ें