UP: मथुरा के जिलाधिकारी ने Covid मरीजों से अधिक पैसे लेने के मामले में जांच समिति गठित की

UP: मथुरा के जिलाधिकारी ने Covid मरीजों से अधिक पैसे लेने के मामले में जांच समिति गठित की

UP: मथुरा के जिलाधिकारी ने Covid मरीजों से अधिक पैसे लेने के मामले में जांच समिति गठित की

मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले की एक महिला ने प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा (Energy Minister Shrikant Sharma) को लिखे पत्र में आरोप लगाया है कि निजी अस्पताल में उनके पति करीब एक पखवाड़े से भर्ती हैं लेकिन अस्पताल की ओर से प्रगति रिपोर्ट (Progress Report) नहीं दी जा रही है, हालांकि इस दौरान बड़ी रकम ले ली गई है. इसके बाद मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

निजी अस्पताल ने लिए एक पखवाड़े में छह लाख रुपये:
निर्भी रस्तोगी (Nirbhi Rastogi) ने शर्मा को लिखे पत्र में निजी क्षेत्र के एक मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल (Multi Specialty Hospital) के चिकित्सकों पर एक पखवाड़े में छह लाख रुपये लेने के बाद भी पति के इलाज एवं उनके स्वास्थ्य की प्रगति के बारे में कोई रिपोर्ट देने से इनकार करने का आरोप लगाया है. ऊर्जा मंत्री ने इस पत्र को जिलाधिकारी को भेजकर मामले की जांच कराने को कहा है. जिलाधिकारी नवनीत सिंह (DM Navneet Singh) चहल ने बुधवार शाम को इस मामले की जांच संयुक्त मजिस्ट्रेट दीक्षा जैन (Joint Magistrate Deeksha Jain) एवं उप मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. आलोक कुमार की समिति को सौंप दी है.

एक सप्ताह पूर्व जिलाधिकारी को दी थी शिकायत:
गौरतलब है कि करीब एक सप्ताह पूर्व कई लोगों ने अकबरपुर गांव के समीप स्थित एक निजी कोविड अस्पताल के खिलाफ जिलाधिकारी को शिकायत देकर आरोप लगाया था कि अस्पताल में मरीजों के इलाज के लिए नियमों के विपरीत (Contrary to The Rules) जाकर लाखों रुपये लिए जा रहे हैं और कोविड मृतकों के शवों के साथ छेड़छाड़ करने और अंग निकालने की आशंका भी व्यक्त की थी. इस बाबत एक वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल भी हुआ था.

इसके बाद जिलाधिकारी ने इस मामले की जांच जैन एवं उप मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ आलोक कुमार (Alok Kumar) की समिति को ही सौंपी थी और जल्द रिपोर्ट देने को कहा था. दीक्षा जैन ने कहा कि जल्द से जल्द जांच पूरी करके रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी जाएगी.
 

और पढ़ें