अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट ने महाभियोग की सुनवाई में मचाया हड़कंप

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/11/16 15:11

वाशिंगटन अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ट्वीट किया कि हमारे देश के इतिहास में महाभियोग को लेकर इस तरह का दोहरा मापदंड कभी नहीं देखा गया है.अमरीकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग जांच से जुड़ी सार्वजनिक सुनवाई का दूसरा दिन था और इसकी शुरुआत एकबार फिर धमाकेदार रही.अमरीका के राष्ट्रपति सुनवाई के दौरान कक्ष में मौजूद नहीं थे, इसके बावजूद वहां उनकी मौजूदगी महसूस की गई.ट्रंप ने शुक्रवार को एक सार्वजनिक सुनवाई में महाभियोग की गवाही के दौरान यूक्रेन में पूर्व अमेरिकी राजदूत मैरी योवानोविच की निंदा की है। मैरी योवानोविच ने ट्रंप पर उनके खिलाफ ठोस कदम उठाने आरोप लगाया है, जिसके कारण उन्हें उनके पद से बर्खास्त कर दिया गया था

ट्रम्प ने ट्वीट कर मैरी योवानोविच के खिलाफ हमला किया, जिस दौरान वह राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग जांच में एक सार्वजनिक सुनवाई के दौरान साक्ष्य दे रही थे.ये सुनवाई टीवी पर लाइव चल रही थी. यूक्रेन के लिए अमरीका की पूर्व राजदूत मैरी योवानोविच जब सुनवाई के दौरान अपना बयान दे रही थीं, उसी वक्त राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्विटर के ज़रिए उनपर हमला बोला.ट्वीट में उन्होंने मैरी योवानोविच पर सोमालिया में उथल-पुथल मचाने का आरोप लगाया. उन्होंने लिखा, "हर जगह मैरी योवानोविच द्वेषपूर्ण होती है. सोमालिया में भी उन्होंने यही किया था. वहां क्या हुआ?"

उनके इस ट्वीट की जानकारी सभा में भी पहुंची. महाभियोग की जांच देख रही इंटेलिजेंस कमिटी के चेयरमैन एडम शिफ ने योवानोविच को इसकी जानकारी दी.इसपर योवानोविच ने कहा कि ये धमकी देने जैसा है. सोमालिया वाले आरोप पर उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता मेरे पास इतनी ताक़त है. ना मोगादिशु में, ना सोमालिया में और नहीं कहीं और.


उनका ये जवाब भी टीवी पर लाइव प्रसारित किया गया.चेयरमैन एडम शिफ ने भी कहा कि ट्रंप के ट्वीट को चश्मदीदों को डराने-धमकाने का तरीका कहा जा सकता है.हालांकि ट्रंप ने कहा कि उनके ट्वीट किसी को धमकाने के लिए नहीं थे.ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि उन्होंने महाभियोग से जुड़ी सुनवाई देखी और "ये अपमानजनक है".

रिपब्लिकन सांसदों ने भी धमकाने के दावों को खारिज किया. सांसद जिम जॉर्डन ने कहा, "चश्मदीद अपना बयान दे रही थी. अगर शिफ उन्हें ट्वीट पढ़कर नहीं बताते तो उन्हें इसके बारे में पता ही नहीं चलता.

व्हाइट हाउस ने शुक्रवार को कहा कि महाभियोग सुनवाई में कांग्रेस पैनल ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा किए किसी भी गलत काम को लेकर कोई सबूत पेश नहीं किया है.व्हाइट हाउस ने कहा कि यूक्रेन में अमेरिका के पूर्व दूत राष्ट्रपति से जुड़े किसी भी आपराधिक गतिविधि से अनभिज्ञ थे.राष्ट्रपति द्वारा किए गए किसी भी गलत काम को लेकर एक भी सबूत पेश नहीं किया गया.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in