नई दिल्ली USAID प्रमुख सामंथा पावर ने सरकारी पदाधिकारियों के साथ की बातचीत, श्रीलंका का आर्थिक सकंट जैसी वैश्विक चुनौतियों के मुद्दे रहे प्रमुख

USAID प्रमुख सामंथा पावर ने सरकारी पदाधिकारियों के साथ की बातचीत, श्रीलंका का आर्थिक सकंट जैसी वैश्विक चुनौतियों के मुद्दे रहे प्रमुख

USAID प्रमुख सामंथा पावर ने सरकारी पदाधिकारियों के साथ की बातचीत, श्रीलंका का आर्थिक सकंट जैसी वैश्विक चुनौतियों के मुद्दे रहे प्रमुख

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय विकास के लिए अमेरिकी एजेंसी (यूएसएड) की प्रशासक सामंथा पावर की भारत यात्रा के दौरान भारतीय वार्ताकारों के साथ बातचीत में श्रीलंका का आर्थिक सकंट और खाद्य सुरक्षा एवं जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों के मुद्दे प्रमुख रहे.

यूएसएड ने कहा कि पावर ने दिल्ली में मंगलवार को नागरिक समाज के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, पहचान और अल्पसंख्यक समूहों के अधिकारों के संरक्षण से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की गई.यूएसएड की कार्यवाहक प्रवक्ता शेजल पुलीवर्ति ने बताया  कि प्रशासक ने मानवाधिकारों और मूल स्वतंत्रताओं को बढ़ावा देने के लिए दुनियाभर के नागरिक समाज संगठनों के साथ काम करने की अमेरिकी प्रतिबद्धता को रेखांकित किया. 

पावर 25 से 27 जुलाई तक भारत यात्रा पर हैं. यूएसएड का शुमार दुनिया में सहायता देने वाली अहम एजेंसियों में होता है. पावर ने मंगलवार को ही विदेश मंत्री एस जयशंकर, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पीके मिश्रा और विदेश सचिव विनय क्वात्रा से मुलाकात की.

डिजिटल विकास जैसे तंत्रों के जरिए संयोजन शामिल:
पुलीवर्ति ने कहा कि इन बैठकों का मकसद विकास के विभिन्न मुद्दों पर रणनीतिक साझेदारी और सहयोगी के तौर पर अमेरिका और भारत के लंबे इतिहास को सुदृढ़ करना था जिसमें खाद्य सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन के साथ ही आपदा प्रतिरोधी बुनियादी ढांचे के लिए गठबंधन और डिजिटल विकास जैसे तंत्रों के जरिए संयोजन शामिल हैं.

यूएसएड की अधिकारी ने कहा कि उन्होंने क्षेत्र और श्रीलंका के सकंट में भारत के नेतृत्व और अमेरिकी समर्थन की अहमियत पर चर्चा की. पुलीवर्ति ने कहा कि प्रशासक ने मानवीय सहायता मुहैया कराने में तथा भारत, एशिया और दुनिया भर में विकास की शेष चुनौतियों को हल करने में साझेदारी की हमारी संयुक्त प्रतिबद्धता को रेखांकित किया.

निजी क्षेत्र से जुड़े लोगों से भी मुलाकात की:
पावर ने नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) परमेश्वरम अय्यर से भी मुलाकात की और विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग के मुद्दों पर चर्चा की. यूएसएड की कार्यवाहक प्रवक्ता ने कहा कि पावर ने भारतीय कृषि विशेषज्ञों और निजी क्षेत्र से जुड़े लोगों से भी मुलाकात की और गौर किया कि भारत एवं अमेरिका वैश्विक खाद्य सकंट का स्थायी हल कैसे कर सकते हैं जो यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद बढ़ा है. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें